July 11, 2010

ऐसे मशहूर हो गई यह तस्वीर

द्वितीय विश्व युद्ध के खात्मे पर मनाए जा रहे जश्न के दौरान एक अमेरिकी नाविक का चुंबन लेते हुए अनजाने में इस बहुचर्चित तस्वीर का हिस्सा बनीं पूर्व नर्स एडिथ शेन की 23 जून 2010 को 92 साल की उम्र में मौत हो गई।
एडिथ की यह तस्वीर उस समय खींच ली गई ती जब द्वितीय विश्व युद्ध के खत्म होने पर अपनी खुशी का इजहार करने के लिए न्यूयार्क में एक सैनिक ने गर्मजोशी के साथ उनका चुम्बन ले लिया था। तब उन्हें इसका अहसास भी नहीं रहा होगा कि उनकी तस्वीर इस तरह खींच ली जाएगी और एक भयावह युद्ध के इतिहास की सबसे यादगार तस्वीरों में से एक बन जाएगी।
एडिथ 14 अगस्त 1945 को न्यूयॉर्क में नर्सिंग की पढ़ाई कर रही थीं और यही वह तारीख थी जब रेडियो नेटवर्क की मदद से पता चला कि जापानियों ने आत्मसमर्पण कर दिया है। तब एडिथ युद्ध के खात्मे का जश्न मनाने के लिए टाइम्स स्क्वायर पर गई थीं। वहां जश्न मनाने के दौरान एडिथ नौसेना के एक नाविक की बांहों में चली गईं। एडिथ की ओर से किए गए इस किस को फोटोग्राफर एल्फ्रेड आइजेनस्टाड्ट ने अपने कैमरे में कैद कर लिया और बाद में यह तस्वीर मैगजीन में प्रकाशित होकर दुनिया भर में मशहूर हो गई।
कई साल पहले जब एडिथ से इस तस्वीर के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा- मैं डॉक्टर्स हॉस्पिटल से टाइम्स स्क्वायर गई थी क्योंकि जंग खत्म हो चुकी थी। एक न्यूयॉर्क निवासी और कहां जा सकता था? वहां इस व्यक्ति ने मुझे पकड़कर किस किया और फिर हम अलग- अलग दिशाओं में चले गए। वह कौन था, यह जानने का कोई तरीका नहीं था। लेकिन मुझे जरा भी बुरा नहीं लगा क्योंकि वह उनमें से था जिसने हमारे लिए जंग लड़ी थी। कई पुरुष दावा करते रहे हैं कि चित्र में नर्स को चुम्बन करते हुए उनका चित्र है, परंतु ऐसे सभी वादे विवादास्पद रहे हैं।
10 हजार रुपये कमाने वाला लंगूर
दिल्ली में कुछ वर्ष पूर्व बंदरों के आतंक से लोग त्रस्त थे तब इस समस्या से निजात पाने के लिए लंगूरों का सहारा लिया गया था। आज दिल्ली ही नहीं, देश के कई शहरों में लोग बंदरों के आतंक से दुखी हैं। इनमें से एक शहर कानपुर भी है। यहां एस्टेट इंश्योरेंस कॉरपोरेशन का ऑफिस जिस जगह है वहां बंदरों ने काफी उत्पात मचा रखा है। वे न लोगों के घरों से खाना, कपड़े आदि उठा लेते हैं तथा घर में रखे गमलों आदि को भी तोड़- फोड़ देते हैं यहां तक तो फिर भी ठीक है पर जनाब ये लंगूर एस्टेट इंश्योरेंस कॉरपोरेशन ऑफिस से फाइलें भी उठा कर ले जाते थे और उसे फाड़ देते थे।
कई लोगों को ये काट भी चुके हैं इन सब कारणों से लोगों का सुबह- शाम बाहर निकलना भी मुश्किल हो रहा था। कई स्तर पर इन बंदरों को यहां से भगाने का प्रयास किया गया पर हर प्रयास विफल रहा तो वहां के लोग लंगूर की शरण में आ गए। इस लंगूर से बंदर डर कर दूर ही रहते हैं। अब इस लंगूर की इस मुहल्ले और ऑफिस के गेट पर ड्यूटी लगा दी गई है। बिलकुल किसी मुस्तैद चौकीदार की तरह यह लंगूर यहां तैनात रहता है।
इंश्योरेंस के डिप्टी डायरेक्टर प्रकाश चन्द शर्मा के अनुसार अब काफी राहत है। कोई बंदर यदि निकट आता भी है तो उसे यह लंगूर डरा कर भगा देता है। दिन में यह लंगूर अपने मालिक के साथ मुहल्ले के दो- चार चक्कर भी लगा आता है।
लेकिन यह लंगूर यहां कोई फ्री में काम नहीं कर रहा है। बाकायदा इसे दस हजार महीने की तनख्वाह दी जाती है। इसके मालिक का कहना है इससे ही इसका खाना-पीना चलता है। यानी लंगूर भी खुश, मालिक भी और लोग तो हैं ही खुश।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती. com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी,कविता, गीत,गजल, व्यंग्य,निबंध,लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है।आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही साथी समाज सेवी संस्थाद्वारा संचालित स्कूलसाथी राऊंड टेबल गुरूकुल में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है।
शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से साथी राऊंड टेबल गुरूकुलके बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है।
अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर,तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में),क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर,पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर,जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ।
सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी,रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबाइल नं.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष