August 25, 2010

अनारकली

- सआदत हसन मंटो

नाम उसका सलीम था। मगर उसके यार-दोस्त उसे शहजादा सलीम कहते थे। शायद इसलिए कि उसका चेहरा मोहरा मुगलई था, खूबसूरत था। चाल ढाल से रईसी टपकती थी।
उसका बाप पीडब्लयूडी के दफ्तर में नौकर था। तनख्वाह ज्यादा से ज्यादा सौ रुपए होगी, मगर बड़े ठाठ से रहता था। जाहिर है कि रिश्वत खाता था। यही वजह है कि सलीम अच्छे से अच्छा कपड़ा पहनता। जेब-खर्च भी उसको काफी मिलता था, इसलिए कि वह अपने माता- पिता का इकलौता बेटा था।
वह बहुत बन-ठनकर रहता। उसके पास कई सूट, कई कमीजें थीं, जो वह बदल- बदल कर पहनता। शू कम से कम 20 के करीब होंगे।
जब कालेज में था तो कई लड़कियां उस पर जान छिड़कती थीं, मगर वह उनके प्रति बेपरवाह रहता। आखिर उसकी आंख एक शोख-चंचल लड़की से, जिसका नाम सीमा था, लड़ गई। सलीम ने उससे दोस्ती पैदा करनी चाही। उसे यकीन था कि वह उसकी दोस्ती हासिल कर लेगा। नहीं, वह तो यहां तक समझता था कि सीमा उसके कदमों में गिर पड़ेगी और उसकी एहसानमंद और शुक्रगुजार होगी कि उसने मुहब्बत की निगाहों से उसे देखा।
एक दिन कालेज में सलीम ने सीमा से पहली बार संबोधित करते हुए कहा, 'आप किताबों का इतना बोझ उठाए हुए हैं- लाइए, मुझे दे दीजिए। मेरा तांगा बाहर मौजूद है। आपको और इस बोझ को आपके घ तक पहुंचा दूंगा।'
सीमा ने अपनी भारी भरकम किताबें बगल में दबाए हुए बड़े खुश्क लहजे में जवाब दिया, 'आपकी मदद की मुझे कोई जरूरत नहीं, फिर भी शुक्रिया अदा किए देती हूं।'
शाहजादा सलीम को अपनी जिंदगी का सबसे बड़ा सदमा पहुंचा। कुछ लम्हों के लिए वह अपनी झेंप मिटाता रहा। इसके बाद उसने सीमा से कहा, 'औरत को मर्द के सहारे की जरूरत होती है। मुझे हैरत है कि आपने मेरी पेशकश को क्यों ठुकरा दिया?'
सीमा का लहजा और ज्यादा खुश्क हो गया, 'औरतों को मर्द के सहारे की जरूरत होगी,मगर फिलहाल मुझे ऐसी कोई जरूरत महसूस नहीं होती। आपकी पेशकश का शुक्रिया मैं अदा कर चुकी हूं, इससे ज्यादा आप और क्या चाहते हैं?'
यह कहकर सीमा चली गई। शहजादा सलीम जो अनारकली के ख्वाब देख रहा था, आंखें झपकता रह गया। उसने बहुत बुरी तरह शिकस्त खाई थी।
इससे पहले उसकी जिंदगी में कई लड़कियां आ चुकी थीं जो उसकी आंख के इशारे पर चलती थीं, मगर यह सीमा क्या समझती है अपने को। इसमें कोई शक नहीं कि खूबसूरत है। जितनी लड़कियां मैंने अब तक देखी है, उनमें सबसे ज्यादा हसीन है। मगर मुझे ठुकरा देना- यह बहुत बड़ी ज्यादती है। मैं जरूर उससे बदला लूंगा- चाहे, कुछ भी हो जाए।
शाहजादा सलीम ने उससे बदला लेने की कई स्कीमें बनाई, मगर कामयाब साबित न हुई। उसने यहां तक सोचा कि उसकी नाक काट डाले। वह यह जुर्म कर बैठता, मगर उसे सीमा के चेहरे पर यह नाक बहुत पसंद थी। कोई बड़े से बड़ा चित्रकार भी ऐसी नाक की कल्पना नहीं कर सकता था।
सलीम तो अपने इरादों में कामयाब न हुआ, मगर तकदीर ने उसकी मदद की। उसकी मां ने उसके लिए रिश्ता ढूंढना शुरु किया। चुनाव की निगाह आखिर सीमा पर पड़ी जो उसकी सहेली की सहेली की लड़की थी।
बात पक्की हो गई, मगर सलीम ने इंकार कर दिया। इस पर उसके माता-पिता बहुत नाराज हुए। घर में दस-बारह दिन तक हंगामा मचा रहा। सलीम के वालिद जरा सख्त तबीयत के थे। उन्होंने उससे कहा, 'देखो, तुम्हें हमारा फैसला कबूल करना होगा।'
शाहजादा सलीम को अपनी जिंदगी का सबसे बड़ा सदमा पहुंचा। कुछ लम्हों के लिए वह अपनी झेंप मिटाता रहा। इसके बाद उसने सीमा से कहा, 'औरत को मर्द के सहारे की जरूरत होती है। मुझे हैरत है कि आपने मेरी पेशकश को क्यों ठुकरा दिया?'
सलीम हठधर्मी था। जवाब में यह कहा, 'आपका फैसला कोई हाईकोर्ट का फैसला नहीं, फिर मैंने क्या जुर्म किया है जिसका आप फैसला सुना रहे हैं।'
उसके वालिद को यह सुनकर तैश आ गया, 'तुम्हारा यह जुर्म है कि तुम नाफरमाबरदार हो- अपने माता-पिता का कहना नहीं मानते। हुक्म-उदूली करते हो। मैं तुम्हें जायदाद से अलग कर दूंगा।'
सलीम का जोश थोड़ा-सा ठंडा हो गया, लेकिन अब्बाजान, शादी मेरी मर्जी के मुताबिक तो होनी चाहिए।
'बताओ, तुम्हारी मर्जी क्या है?'
'अगर आप ठंडे दिल से सुनें तो अर्ज करूं?'
'मेरा दिल काफी ठंडा है। तुम्हें जो कुछ कहना है, फौरन कह डालो। मैं ज्यादा देर इंतजार नहीं कर सकता।'
सलीम ने रूक-रूक कर कहा, 'मुझे-मुझे एक लड़की से मुहब्बत है।'
उसका बाप गरजा, 'किस लड़की से?'
सलीम थोड़ी देर हिचकिचाया, 'एक लड़की है।'
'कौन है वह? क्या नाम है, उसका?'
'सीमा- मेरे साथ कालेज में पढ़ती थी।'
'मियां इफ्तखाररुद्दीन की लड़की?'
'जी, हां। उसका नाम सीमा इफ्तखार है- मेरा ख्याल है, वही है।'
उसके वालिद बेतहाशा हंसने लगे, 'ख्याल के बच्चे- तुम्हारी शादी उसी लड़की से तय हुई क्या वह तुम्हें पसंद करती है?'
सलीम बौखला-सा गया। यह सिलसिला कैसे हो गया, उसकी समझ में नहीं आता था। कहीं उसका बाप झूठ तो नहीं बोल रहा था? सलीम से सवाल किया पूछा, सलीम, मुझे बताओं, क्या सीमा तुम्हें पसंद करती है?
सलीम ने कहा, 'जी नहीं।'
'तुमने यह कैसे जाना?'
'उससे- उससे एक बार मैंने थोड़े से शब्दों में मुहब्बत का इजहार किया, लेकिन उसने मुझे...'
'तुम्हें भरोसेमंद न समझा।'
'जी, हां-बड़ी बेरुखी बरती।'
सलीम के पिता ने अपने गंजे सिर को थोड़ी देर के लिए खुजलाया और कहा, 'तो फिर यह रिश्ता नहीं होना चाहिए। मैं तुम्हारी मां से कहता हूं कि वह लड़की वालों से कह दे कि लड़का रजामंद नहीं।' सलीम एकदम भावुक हो गया, 'नहीं, अब्बाजान- ऐसा न कीजिएगा। शादी हो जाए तो सब ठीक हो जाएगा। मैं उससे मुहब्बत करता हूं, और किसी की मुहब्बत बेकार नहीं जाती। लेकिन आप उन लोगों को- मेरा मतलब है सीमा को यह पता न लगने दें कि उसका ब्याह मुझसे हो रहा है, जिसके प्रति वह बेरूखी और लापरवाही प्रगट कर चुकी है।'
उसके बाप ने अपने गंजे सिर पर हाथ फेरा, 'मैं इसके बारे में सोचूंगा।' यह कहकर वह चले गए कि उन्हें एक ठेकेदार से रिश्वत वसूल करनी थी, अपने बेटे की शादी के खर्चों के सिलसिले में।
शहजादा सलीम जब रात को पलंग पर सोने के लिए लेटा तो उसे अनार की कलियां ही कलियां नजर आई। सारी रात वह इनके ख्वाब देखता रहा।
घोड़े पर सवार बाग में आया है- शाहाना लिबास पहने। घोड़े से उतरकर बाग की एक रविश पर जा रहा है। क्या देखता है कि सीमा अनार के बूटे की सबसे ऊंची शाख से एक नई कली तोडऩे की कोशिश कर रही है। उसकी भारी-भरकम किताबें जमीन पर बिखरी पड़ी हैं। जुल्फें उलझीं हुई हैं और यह उचक-उचककर उस शाख तक अपना हाथ पहुंचाने की कोशिश कर रही है। मगर हर बार नाकाम रहती है।
वह उसकी तरफ बढ़ा। अनार की झाड़ी के पीछे छुपकर उसने उस शाख को पकड़ा और झुका दिया। सीमा ने वह कली तोड़ ली जिसके लिए वह इतनी कोशिश कर रही थी, लेकिन फौरन उसे इस बात का अहसास हुआ कि वह शाख कैसे झुक गई।
वह अभी यह सोच ही रही थी कि शहजादा सलीम उसके पास पहुंच गया। सीमा घबरा गई। लेकिन संभलकर उसने अपनी किताबें उठाई और बगल में दबा लीं। अनारकली अपने जुड़े में खोंस ली और ये खुश्क शब्द कहकर वहां से चली गई, 'आपकी इमदाद की मुझे कोई जरूरत नहीं थी, बहरहाल शुक्रिया अदा किए देती हूं।'
तमाम रात वह इसी किस्म के ख्वाब देखता रहा- सीमा, उसकी भारी भरकम किताबें, अनार की कलियां और शादी की धूमधाम।
शादी हो गई। शहजादा सलीम को इस अवसर पर अपनी अनारकली की एक झलक भी नहीं दिख पाई थी। वह उस लम्हे के लिए तड़प रहा था जब सीमा उसके आगोश में होगी। वह उससे इतना प्यार करेगा कि वह तंग आकर रोना शुरु कर देगी।
सलीम को रोने वाली लड़कियां बहुत पसंद थी। उसका यह फलसफा था कि औरत जब रो रही हो तो बहुुत हसीन हो जाती है। उसके आंसू शबनम के कतरों की तरह होते हैं, जो मर्द की भावनाओं के फूलों पर टपकती हैं तो उनसे उसे ऐसी राहत, ऐसा संतोष मिलता है जो और किसी वक्त नसीब नहीं हो सकता।
रात के दस बजे दुल्हन को सुहागरात के कमरे में दाखिल कर दिया गया। सलीम को भी इजाजत मिल गई कि वह उस कमरे में जा सकता है। लड़कियों की छेड़छाड़ और रीति-रिवाज सब खत्म हो गए तो वह कमरे के अंदर दाखिल हुआ।
फूलों से सजी हुई सेज पर दुल्हन घूंघट काढ़े रेशम की गठरी-सी बनी बैठी थी। शहजादा सलीम ने खास इंतजाम किया था कि फूल अनार की कलियां हों। वह धड़कते हुए दिल के साथ सेज की तरफ बढ़ा और दुल्हन के पास बैठ गया।
काफी देर तक वह अपनी बीवी से कोई बात न कर सका। उसको ऐसा महसूस होता था कि उसकी बगल में किताबें होंगी जिनको वह उठाने नहीं देगी। आखिर उसने बड़ी हिम्मत से काम लिया और उससे कहा, 'सीमा....'
यह नाम लेते ही उसकी जबान खुश्क हो गई। लेकिन उसने फिर हिम्मत बटोरी और अपनी दुल्हन के चेहरे से घूंघट उठा दिया, और भौंचक्का रह गया। यह सीमा नहीं थी, कोई और ही लड़की थी। अनार की सारी कलियां, उसको ऐसा महसूस हुआ, मुर्झा गई हैं।

1 Comment:

मनोज अबोध said...

Res Ratna ji
UDANTY ka naya ank dekha, bahut achha hai.
apko Amrit Sandesh k jamane se janta hun.

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष