June 12, 2009

आत्मीय प्रस्तुति

आत्मीय प्रस्तुति
उदंती का नया अंक पढ़कर ख़ुशी हुई । हमेशा की तरह यह अंक भी अच्छी साज-सज्जा, बेहतर रचनाओं और आत्मीय प्रस्तुति के कारण दिल को छू गया । बधाई ।
- देवमणि पांडेय, मालाबार हिल, मुम्बई
ब्लाग की असामयिक मौत
संजय तिवारी के लेख में इस बात का कोई जिक्र ही नहीं है कि ब्लाग की यह असामयिक मौत कैसे हो रही है। हां मैं इस बात से सहमत हूं कि बहुत सारे ब्लाग केवल नाम के लिए चल रहे हैं। उनमें कुछ गिने चुने लोग ही टिप्पणी करते हैं। मैं लिखूं तो तुम टिप्पणी करो और तुम लिखो तो मैं टिप्पणी करूं। संयोग से मैंने भी एक ब्लाग बनाया है। पर बहुत उत्साह का माहौल दिखता नहीं है। अगर हम सचमुच ब्लाग को जिंदा देखना चाहते हैं तो कुछ विचारवान लोगों को आगे आना पड़ेगा और इसमें भागीदारी करनी पड़ेगी। केवल दूर से बैठकर देखने या कहने से काम नहीं चलेगा। उदंती के इस अंक में वंदना से परिचय कराने के लिए आपको सौ-सौ सलाम। इतने अद्भुत चित्र मैंने पहली बार देखे हैं। खासकर चोटी में लिपटी बच्ची को देखकर मैं बेहद रोमांचित हूं। छत्तीसगढ़ की संस्कृति और कला पर सामग्री देखकर खुशी हुई। वंदना के चित्रों ने पत्रिका में चार चांद लगा दिए हैं। वंदना को भी बधाई।
- राजेश उत्साही, बैंगलोर
सराहनीय प्रयास
    यू हीं नेट को छानते हुए आपके उदंती.कॉम पर नजर पड़ी। पत्रिका का प्रयास और विचार सराहनीय है। शुभकामनाएं।
- अशोक कुमार, असिस्टेंट एडिटर, bhadas4media.com
नयनाभिराम कलेवर
उदंती के दो अंक देखें। सच कहूं, छत्तीसगढ़ की यह एक उपलब्धि है। इतनी सुंदर, सुरुचिपूर्ण, सुसज्जित पत्रिका मैंने अब तक नहीं देखी। खुद एक पत्रिका का प्रकाशन करता हूं लेकिन इस पत्रिका के नयनाभिराम कलेवर बाकी पत्रिकाओं को फीकी कर देती हैं। उदंती में छत्तीसगढ़ की महक है। साहित्य-संस्कृति एवं समकालीन विषयों का संस्पर्श करने वाली यह बहुरंगी पत्रिका निरंतर प्रकाशित होती रहे यही मेरी शुभकामना है।
- गिरीश पंकज, संपादक, सद्भावना दर्पण, रायपुर
पठनीय
उदंती का मार्च अंक मिला। प्रकाशन, गुणवत्ता की प्रशंसा पहले ही कर चुका हूं। रचनाएं इस बार भी पठनीय हैं। इस अंक में प्रकाशित  कविताएं पत्रिका के महत्व को बढ़ाती हैं।
- त्रिभुवन पाण्डेय, सोरिदनगर, धमतरी
संस्कृतियों का परिचय
उदंती अच्छी निकल रही है। इसमें बीच बीच में आप विभिन्न संस्कृतियों से परिचय कराने वाले लेख प्रकाशित करती हैं जो बहुत अच्छे व जानकारी प्रधान होते हैं।  ऐसे लेख हमेशा प्रकशित करने की कोशिश करें।    
                 - शेली खत्री, जबलपुर
आजाद भारत की भयावह हकीकत
उदंती का मार्च अंक आनलाइन पढऩे को मिला। नक्सलग्रस्त इलाके का यात्रावृतांत- मैंने देखा एक समृद्ध संस्कृति को विलुप्त होते... काफी अच्छा लगा। पढ़कर ताज्जुब हुआ कि वहां के हालात इतने जटिल हैं। बिना किसी लागलपेट के यह वृतांत लिखा गया है। दाद देनी होगी अंजीव जी के हिम्मत की जिन्होंने हमें आजाद भारत के इस भयावह हकीकत से अवगत कराया। उदंती के प्रकाशन के लिए संपादकीय टीम को कोटिश: बधाई। 
- श्वेता शर्मा, कवयित्री, यू.एस.ए.

Labels:

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home