उदंती.com को आपका सहयोग निरंतर मिल रहा है। कृपया उदंती की रचनाओँ पर अपनी टिप्पणी पोस्ट करके हमें प्रोत्साहित करें। आपकी मौलिक रचनाओं का स्वागत है। धन्यवाद।

Nov 1, 2022

कविताः जो दिखते नहीं

 - प्रगति गुप्ता

क्यों कभी-कभी

कुछ शब्द ही

साँसों को बाँध

लयबद्ध कर देते है.....

क्यों कभी-कभी

कुछ स्पर्श जीने के

मायने बदल देते है.....

क्यों कभी-कभी कुछ स्मृतियाँ

जीने की वज़ह बन जाती है.....

यह सिर्फ-

एहसासों से जुड़ी बातें है

जो कभी असल में जुड़कर

या कभी अदृश्य साथी बन

साथ-साथ चला करती है...

टूटते है जब भी

मन से जुड़े तार

तब यही शब्द स्मृतियाँ बनकर

स्पर्श हमें करते है....

तभी तो

शब्द, स्मृतियाँ और स्पर्श

अक्सर एहसास बनकर

न दिखकर भी

आस-पास महसूस हुआ करते है...

सम्पर्कः  58, सरदार क्लब स्कीम, जोधपुर -342001,

मो. 09460248348,  07425834878

No comments: