उदंती.com को आपका सहयोग निरंतर मिल रहा है। कृपया उदंती की रचनाओँ पर अपनी टिप्पणी पोस्ट करके हमें प्रोत्साहित करें। आपकी मौलिक रचनाओं का स्वागत है। धन्यवाद।

Feb 1, 2022

कविता- सरस्वती वंदना

 - श्याम सुन्दर श्रीवास्तव ‘कोमल’

वीणापाणि नमन चरणों में, माँ स्वीकार करो ।
ज्ञान ज्योति के नव प्रकाश का, माँ विस्तार करो ।

आओ माँ इस हृदय- कमल पर, आसन लो मन पावन कर दो ।
झुलसा तन अज्ञान ऊष्णता, कृपा वृष्टि कर सावन कर दो ।

माँ मुझको दो शब्द सम्पदा, हृदय -ज्ञान की ज्योति जला दो ।
हृदय- सरोवर में भावों के, अनगिन कमल प्रसून खिला दो ।

जग में व्याप्त ईर्ष्या हिंसा, स्वार्थ विकार हरो ।
ज्ञान- ज्योति के नव प्रकाश का, माँ विस्तार करो ।।

माँ तेरा होना शुभ सूचक, ध्यान सदा फलदायक  ।
तेरी भक्ति सदा सुखकारी, मंगल की परिचायक ।

बहे भाव की नव निर्झरिणी,  कि शुभ विचार जगें ।
द्वेष, कपट, छल, दंभ, अमंगल, मन से दूर भगें ।

पद कमलों में शीश धरूँ माँ, पाणि पसार धरो ।
ज्ञान ज्योति के नव प्रकाश का, माँ विस्तार करो ।।

नवल भाव की जग कल्याणी, कविता सरस बहे ।
गीत, छंद, नवगीत, सवैया, नित-नित कण्ठ कहे ।

भाव बोध रस अलंकार मिल, शब्द शक्तियाँ शैली ।
रचें अनूठे छंद भावना, पनपे नहीं विषैली ।

माँ! तुम दो वरदान निरन्तर, बन उपहार झरो ।
ज्ञान ज्योति के नव प्रकाश का, माँ विस्तार करो ।

सम्प्रति-  व्याख्याता-हिन्दी, अशोक उ. मा., विद्यालय, लहार, जिला- भिण्ड (म०प्र०), मो०- 8839010923, komalsir17@gmail.com

2 comments:

शिवजी श्रीवास्तव said...

सुंदर वंदना।माँ वीणापाणि के चरणों मे नमन।बधाई

Ashutosh.mishra said...

👌👌👌👌👌