उदंती.com को आपका सहयोग निरंतर मिल रहा है। कृपया उदंती की रचनाओँ पर अपनी टिप्पणी पोस्ट करके हमें प्रोत्साहित करें। आपकी मौलिक रचनाओं का स्वागत है। धन्यवाद।

Jan 1, 2022

हाइकुः मन के पूरब में सूरज उगा


कमला निखुर्पा

1

रात ओढ़ाए

मोतियों की चादर

ठिठुरी धरा।

2

किससे कहे

कसक गलन की

जमें हैं सब।

3

ढूँढती रही

बर्फीली नगरी में

नेह की आँच।

4

सोया है जग

कोहरे से लिपट

रोया है कोई।

5

लम्बी है रात

कोई तो सुलगा दे

यादों की आग।

6

धरा के माथे

रवि नेह चुम्बन

पुलका मन।

7

स्वर्णिम हुई

कलरव कूजित

चारों दिशाएँ।

8

हारेगा शीत

मन के पूरब में

सूरज उगा।

6 comments:

Anima Das said...

सुंदर सृजन 🌹🙏

नीलाम्बरा.com said...

बहुत सुन्दर

Satya sharma said...

बहुत सुंदर हाइकु

HYPHEN said...

"रात ओढ़ाए / मोतियों की चादर / ठिठुरी धरा।"
"किससे कहे / कसक गलन की / जमें हैं सब।"
- सुंदर हाइकु! हार्दिक बधाई!

- डाॅ. कुँवर दिनेश, शिमला

Ramesh Kumar Soni said...

हारेगा शीत

मन के पूरब में

सूरज उगा।
अच्छे हाइकु बधाई।

Krishna said...

बहुत सुंदर सृजन