April 16, 2019

चंदा को चर गया भ्रष्टाचार

चंदा को चर गया भ्रष्टाचार
- डॉ. महेश परिमल
अभी-अभी हमारे बहुत ही करीब से अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस गुजरा। इसके पहले जब भी सफल महिलाओं की बात होती, तो एक नाम अवश्य उभरता, जो इस साल पूरी तरह से भुला दिया गया। वह नाम है चंदा कोचर का। अब तक इनका नाम महिलाओं के प्रतिनिधित्व में विशेष रूप से लिया जाता था।  बैंकिंग के क्षेत्र में चंदा कोचर की सलाह को विशेष रूप से प्राथमिकता दी जाती थी। पर कुछ भूलों के कारण उनकी काफी बदनामी हुई। अब उनके खिलाफ इंवेस्टिगेशनडिरेक्टोरेट (इडी) का छापा पड़ रहा है। संभवत: वे जेल भी जा सकतीं हैं। पति और देवर ने मिलकर उनके बैंकिंग कैरियर को एक तरह से रौंद ही डाला है। समझ में नहीं आता कि बैंकिंग के क्षेत्र में कार्य करते हुए हमेशा भ्रष्टाचार से दूर रहने की सलाह देने वाली वे स्वयं कैसे ग़ाफिल रह गई कि उनके नाक के नीचे भ्रष्टाचार होता रहा और वे समझ नहीं पाईं।
चंदा कोचर ने जाँच से पीछा छुड़ाने के लिए काफी कोशिशें की। उनके पति दीपक कोचर के दोस्त और वीडियोकॉन के चेयरमैन वेणुगोपाल धूत ने आईसीआईसीआई बैंक को पूरी तैयारी के साथ लूट लिया। चोर-डाकू तो बैंक को बंदूक की नोक पर लूटते हैं, पर चंदा कोचर के पति दीपक कोचरऔर वेणुगोपाल ने अपना काम इतनी खामोशी से किया कि किसी को पता भी नहीं चल पाया। चंदा कोचर ने जो काम किए, वह पकड़ में बिलकुल भी नहीं आती। पर एक व्हीसलब्लॉगर ने इस घोटाले की जानकारी देते हुए ब्लॉग लिखा। यह ब्लॉग देश की विख्यात बैंक के चेयरमैन के खिलाफ जानकारी दे रहा था, इसलिए इसे कोई अनदेखा कर रहा था। यहाँ तक कि स्वयं चंदा कोचर ने इस ब्लॉग की खिल्ली उड़ाई थी। बाद में इसकी गंभीरता को समझते हुए उसने समाधान के प्रयास भी किए। 3250 करोड़ वापस करने के लिए भी वे तैयार थीं। इसके लिए वित्त मंत्रालय के अधिकारियों को साधने के लिए कुछ बिचौलिओं को सक्रिय किया गया था। बाद में उन्हें सूचना मिली कि पहले राशि की भरपाई करो, उसके बाद मामला वापस लेने पर विचार किया जाएगा। चंदा कोचर और उनके पति  दीपक कोचर और वेणुगोपाल जान गए थे कि सरकार उनसे राशि ले लेगी और उन्हें गिरफ्तार भी कर लेगी। वास्तविकता यही है कि चंदा कोचर एंड कंपनी को बैंक की देनदारी भी वापस करनी होगी और उनके खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी।
वीडियोकॉन के साथ सम्बद्ध अन्य कंपनियों को भी भारी लोन दिया गया था। साफ शब्दों में कहा जाए, तो चंदा कोचर के पति और उनके देवर ने इन कंपनियों को धोखा दिया था। यदि इडी के सामने चंदा कोचर सब कुछ सही-सही बता देतीं हैं, तो उनके पति और देवर सलाखों के पीछे हो सकते हैं। इसलिए सरकार ने चारों घोटालेबाजों के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया। एंफोर्समेंट डायरेक्टरोरेट द्वारा पूछताछ के लिए बुलाए जाने पर ही कई लोग अपना अपराध स्वीकार लेते हैं। प्रियंका वाड्रा के पति रॉबर्ट वाड्रा से इडी ने जब लगातार चार दिनों तक पूछताछ की, तो राबर्ट के चेहरे पर हवाइयाँ उड़ने लगी थी।
किसका पैसा, कहाँ से आया, प्राप्त की गई राशि का टैक्स भरा या नहीं आदि ऐसे प्रश्नों से आर्थिक अपराधी सरेंडर हो जाते हैं। लोन किस दस्तावेज के आधार पर दिया गया? वेणुगोपाल से आपकी क्या रिश्तेदारी है। इसका जवाब देते समय चंदा कोचर भी घबरा गई थीं। चंदा कोचर ने बैंकिंग सिस्टम पर जमे विश्वास को डांवाडोल कर दिया है। इन दिनों बैंक स्वयं नान परफार्मिंगएसेट (एनपीए) के वायरस से पीड़ित है, तो दूसरी तरफ बड़ी बैंकिंग के चेयरमैन द्वारा ही धड़ाधड़ लोन देने का सिलसिला जारी रखे हुए हैं। आर्थिक अपराध में सामान्य रूप से बैंक के स्टाफ को ही बलि का बकरा बनाया है, पर इस मामले में बाड़ ही खेत को खा गई।
एक समय ऐसा भी था, जब आईसीआईसीआई बैंक के अन्य डायरेक्टरों ने चंदा कोचर को क्लीनचीट दी थी। इन डिरेक्टरों के खिलाफ भी जांच चल रही है। चंदा कोचर को अपनी प्रतिष्ठा को बनाए रखना था। अपने उद्बोधन में वे हमेशा कर्मचारियों को भ्रष्टाचार से दूर रहने की सलाह दिया करती थीं। जब घोटाले की आँच उनकी कुर्सी तक पहुँची, तब तक उन्हें विश्वास ही नहीं हो रहा था कि ऐसा भी हो सकता है। आखिर में वे जब घोटाले की सूत्रधार के रूप में उभरकर सामने आई, तब मुँह छिपाने की भी जगह नहीं बची थी।
बैंकिंग के क्षेत्र में एक दैदीप्यमान तारा अचानक धुँधला हो गया। उस पर कालिख पोत दी गई। जिसका नाम गर्व के साथ लिया जाता था, वह नाम ही आज बदनामी का शिकार हो गया। आखिर पति की हरकतों को क्यों नहीं समझ पाई चंदा कोचर। अब नारियाँ भला अपने आदर्श को इस तरह से सीखचों के पीछे देख पाएँगी। विश्वास का एक नाम था चंदा कोचर, जो आज भ्रष्टाचार का पर्याय बन गया। इसके बाद यह कहा जा सकता है कि देश में आज भी पितृ सत्तात्मक सत्ता जारी है। चंदा कोचर कितनी भी आधुनिक महिला हो जाएँ, वह कितनी भी सफल हो जाएँ, पर आज भी वह कहीं न कहीं पति के हाथों विवश हैं। पति ने जो चाहा, उससे करवा लिया। पति ने अपनों के लिए लोन की जितनी सिफारिशें की, चंदा ने आँख बंदकर उसे आगे बढ़ा दिया। वह यह भी नहीं समझ पाई कि पति गलत भी हो सकते हैं। इस तरह से वह विशेष नारी होने के बाद एक आम साधारण नारी ही बनकर रह गईं।

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष