January 15, 2019

लघुकथा

आत्म-निर्णय 
– अशोक जैन

थके- हारे जोशी जी दीवान के एक ओर बैठ गए। मातमपुर्सी के लिए आने-जाने वालों को एक ही घटना का जिक्र करते करते उन्हें जीवन की निस्सारता का बोध हो चला था। आँखों की कोरों में आँसू पोंछने के लिए हाथ उठा तो किसी के हाथों
से टकरा गया। हरी बाबू थे उनके सहकर्मी।
ध्ीरज रखो, जोशी। यह तो काल चक्र है।’
हरी, वह तो चली गई। लेकिन....।’ वे वाक्य पूरा न कर पाये कि रुलाई फूट पड़ी।
हरी बाबू ने कंधे पर हाथ रखकर सहारा दिया।
तुम्हारे साथ 35 वर्षों तक दायित्व निभाती रही, दोनों बेटियों को अपने-अपने घर भिजवा दिया। तुम्हारे रिटायर्ड होने की खुशी भी देख ली... बस इतना ही साथ था तुम्हारे उनके साथ।’
जोशी जी चुप रहे।
हरी बाबू ने फिर कहा, ‘जीवन है, जीना तो पड़ेगा ही। अपने लिए ही सही।
हौंसला रखो, सुमन जी की आत्मा को वेदना पहुँचेगी...।’
तभी छोटी बेटी चाय रख गई।
अंकल, पापा को चाय पिला दो। सुबह से कुछ नहीं खाया।’
दोनों खामोश। चाय की एक सिप लेकर जोशी जी कप नीचे रखने लगे तो हरी बाबू ने उन्हें मना किया।
पढ़े लिखे हो। सब जानते हो। शिक्षक रहे हो, फिर भी....।’
एकाएक जोशी जी की जैसे तन्द्रा टूटी।
हरी बाबू! आप कुछ काम के लिए कह रहे थे, उस वृद्धाश्रम...।’
हाँ चलो! वहाँ चलें।’
और अगली सुबह सभी ने देखा-सुना-
जोशी जी वृद्धाश्रम में रह रहे अपने हम उम्र लोगों के मध्य रामचरितमानस का पाठ सुना रहे थे।
उनकी मधुर स्वर लहरी से सभी मंत्र- मुग्ध थे।
उन्हें लगा कि उनके आत्मनिर्णय से उनका शेष जीवन सहज रूप से कट जाएगा।

email- ashok.jain908@gmail.com

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष