June 11, 2018

हरी जबानों की व्यथा


हरी जबानों की व्यथा

-बी. एल .आच्छा
बूढ़ा तो नहीं हुआ हूँ
पर तुम मेरे बौने कद से
नाप रहे हो
मेरे जीवन का वैलेंटाइन ।

सड़क किनारे आते ही
मैं भी बन गया महानगर का पेड़
छाँग दी गईं थी डालें
काट दिया गया
बिजली के तारों का
अतिक्रमण करता
मेरा बढ़ता हुआ ऊँचा शीर्ष
सभ्यता के बुलडोजर से
कुछ कुछ दिनों में
ला दिया गया अपने बौनेपन में।

आज भी हुलस है
किसलय फूटते हैं आज भी
प्लाज्मा टपकता है
और गोंद की तरह
चिपक जाता है।
बासंती बहारों में
अब भी खिलते हैं फूल
कोयल -राग लिए
नई डालियों का आसन
कि श्रोता बन जाएँ शेष पाखी भी।

उलझती हैं पतंगे भी
डोरें देशी-विदेशी भी
पर उड़ते हुए धुएँ
और  पीलौंधी धूलों से
वैसा ही हो जाता हूँ
जैसे ढुलाई करते करते
सीमेंट का आदमी।

तंत्र और सभ्यता ने
पाट दी है मेरी जमीन
बेबसी है मेरी
पर लोकतंत्र की चीख में भी
कौन नहीं है बेबस
आधार कार्ड के बावजूद।

सपाट और सिक्स लेन
डामर और सीमेंट
इनके भीतर भी
फैलाता हूँ जड़ें
यही आस लिए
कि मेरी सघन डालें
कटती पिटती भी
देती रहेंगी छायाएँ
फूलों के मखमली रूप
नव पल्लव के सुकुमार रूप।
बटोहियों के लिए क्षण भर का विश्राम
पक्षियों के लिए अक्षय उड़ान
कभी नहाऊँगा बारिश में
यही होगा उत्सव विधान।

ऐसा नहीं कि तुम
नहीं चाहते मुझे।
बचाना चाहते हो
बुलडोजर और तिजोरियों में
कैद होते हैं जंगल से
कभी लाल सिंदूर चढ़ा देते हो
पत्थर रखकर
और जरा सा हवन- धूप।

पर सभ्यताओं के दारुण स्वार्थ
नियति बन जाते हैं
मेरे कद और जीवन की।
और चमकीली कारों के शीशों से झाँकती
तुम्हारी संवेदनशील आँखें भी
उठावने की तरह रस्म निभा जाती है।

फिर भी
कभी कोई पाखी
चोंच में उठा ले जाएगा मेरा बीज
और गिरा देगा किसी गाँव के मुहाने पर।
कभी फैल गया सुंदर वन की तरह
तो सूखती  सभ्यताएँ भी
पिकनिक मनाने आएँगी।

हमें बहुत चाहती है दुनिया
हरे बानक और पंछियों के
कलरव के साथ
इसीलिए तो छाये  रहते हैं चित्रों में
मीडिया हमसे करवाता है फेशियल।

अब न कोई  देखता है
खिलते हुए गुलाब
ना तड़ाग की अरुणाई में
खिलते कमल दलों को ;
फिर भी सुबह शाम
सरकाते रहते है
वाट्सएप और फेसबुक पर।

स्कूली बच्चे भी
इन्हीं चित्रों से जानते हैं
हम प्रकृति के वाशिंदों को।

पूरा जंगल है
तुम्हारी
मोबाइल मुट्ठी में
पर वह सुख कहाँ
जब सघन छाया में कहकहे लगाते हो
और हम भी
मानवी छुअन से
खिल जाते हैं।

पर अब हम हैं
इस छुअन से परे
और तुम सब भी
हमारी मादक छवि से दूर
केवल मोबाइल मुट्ठी में।

सम्पर्कः 36 क्लीमेंस रोड, सरवना स्टोर्स के पीछे, पुरुषवाकम्, चेन्नई (तमिलनाडु) 600007 (Mob. 094250 83335)

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष