April 20, 2017

लघुकथा

 ज़िद
- रामकुमार आत्रेय
चिड़िया  पिछले दो दिनों से शीतल को परेशान किए जा रही थी। वह घास का एक-एक तिनका चोंच में लातीं और उसे छत पर लटकते पंखे पर जमा कर घोंसला बनाने लगी। इस प्रयास में कुछ तिनके फर्श पर गिर जाते जो बुरे लगते। शीतल को उन्हें बार-बार बुहारना पड़ता। चिड़िया  को भी बार-बार उड़ाना पड़ता सो अलग। वैसे भी वह नहीं चाहती थी कि चिड़िया पंखे पर घोंसला बनाए। कमरे में पोंछा लगाने के बाद ठंडे मौसम में भी पंखा चलाना पड़ता था, ताकि फर्श जल्दी से सूख जाए। पंखा चलाने पर चिड़िया  और उसके अण्डों का फर्श पर गिरना लाजमी था। चिड़िया  थी कि मान ही नही रही थी।
आज दोपहर बाद जब पति-पत्नी लौटे तो यह देखकर हैरान रह गए कि घोंसला पूरा बन चुका है।
चिड़िया  घोंसले में बैठ अपने में डूबी आराम किए जा रही थी, मानो माँ बनने वाली हो। सुहावना सपना देख रह हो। शीतल के पति ने कमरे के बाहर पड़ी छड़ी उठाई और उसकी सहायता से चिड़िया  को भगाने लगे। एक बार तो छड़ी से डराने पर भी चिड़िया  घोंसले से नहीं उड़ी। चुपचाप दूर खड़ी शीतल और छड़ी थामे उसके पति को देखती रही। दूसरी बार जब पति ने जोर से चीखते हुए छड़ी घोंसले की ओर बढ़ाई, तब चिड़िया  सहमी-सी उड़ी और रोशनदान में बैठकर निरीह नजरों से अपने घोंसले को देखने लगी।
इससे पहले कि पति छड़ी से घोंसले को नीचे गिरा देता, शीतल ने उसे टोका 'प्लीज, घोंसला मत गिराओ।
'घोंसला नहीं गिराऊँगा, तो पंखा कैसे चलेगा। तब चिड़िया पंखे के परों से चोट खाकर भी मर सकती है। यह बहुत ज़िद्दी है, घोंसला गिराए बिना नहीं मानेगी।
पति ने अपना हाथ रोक दिया।
शीतल ने कहा, चिड़िया  जिद्दी अवश्य है, लेकिन इसकी ज़िद एक भले काम के लिए है। घर बनाना एक भला काम ही तो है। भले काम के लिए की गई ज़िद्द का हमें सम्मान करना चाहिए। जब तक चिड़िया  के बच्चे बड़े नही होंगे, पंखा नहीं चलाएँगे।शीतल ने पति को प्यार से समझाया।
पति का ऊपर को उठा हाथ, यह सब सुन कर स्वत: ही नीचे को हो गया।
सम्पर्क: 864 /12, आजाद नगर, कुरुक्षेत्र- 136119 हरियाणा, मो. 094162 72588

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष