उदंती.com को आपका सहयोग निरंतर मिल रहा है। कृपया उदंती की रचनाओँ पर अपनी टिप्पणी पोस्ट करके हमें प्रोत्साहित करें। आपकी मौलिक रचनाओं का स्वागत है। धन्यवाद।

Aug 12, 2016

तुम पार लगा देना

तुम पार लगा देना 
-डॉ. सुधा गुप्ता
1
तुम हाथ बढ़ा देना
करुणाकर !सुन लो
तुम पार लगा देना 
2
मन को अब चैन नहीं
आँखें रीती हैं
होठों पर बैन नही।
3
अमरस अँगनाई में
कोयल कूक रही
अब तो अमराई में ।
-0-
ये विनती है


-डॉ. ज्योत्स्ना शर्मा
1
रुत ये वासंती है
चरणों में हमको
ले लो ये विनती है ।
2
दो बूँद दया बरसे
हम भी  हैं तेरे
फिर कौन भला तरसे ।
3
देरी से आना हो
आकर जाने का
कोई  न बहाना हो  ।
-0-
बोलो कब आओगे


3- डॉ. भावना कुँअर
1
तुम बरसों बाद मिले
मन के तार छिड़े
सारे  ही ज़ख़्म सिले।
2
जीवन की रीत रही
सच्ची प्रीत सदा
इस मन की मीत रही
3
बोलो कब आओगे ?
उखड़ रही साँसें
सूरत दिखलाओगे ?

(अनुपमा त्रिपाठी के स्वर में माहिया सुनने के लिए http://youtu.be/EEhS2HJvzXEपर क्लिक कीजिए ।

3 comments:

Unknown said...

तुम हाथ बढ़ा देना
करुणाकर !सुन लो
तुम पार लगा देना ।

सुधा जी सभी माहिया बहुत सुंदर

Unknown said...

दो बूँद दया बरसे
हम भी हैं तेरे
फिर कौन भला तरसे ।

ज्योत्स्ना जी सभी माहिया उम्दा ..हार्दिक बधाई

Unknown said...

तुम बरसों बाद मिले
मन के तार छिड़े
सारे ही ज़ख़्म सिले

भावना जी सभी माहिया अति सुन्दर ..हार्दिक बधाई