April 20, 2016

जल-संरक्षण विशेषांक

नदियों का पुनर्जीवन
जब अंग्रेज भारत में राज करने आए थे तो यहाँ पर करीब 25 लाख तालाब, झील व अन्य वाटर बॉडीज, पानी का काम हो चुका था। आज के वाटर बॉडीज तालाब, झील छोटा हो या बड़ा उसे सिविल इंजीनियर बनाता है लेकिन तब हमारे यहाँ कोई सिविल इंजीनियरिग की इंस्टीट्यूट नहीं थी, ऐसी पदवी, डिग्री वाले लोग नहीं थे जो पाँच साल की पढ़ाई करते हों। हमारे देश में करीब 25 हजार तालाब थे कन्याकुमारी से लेकर कश्मीर तक तथा बाड़मेर, जैसलमेर से लेकर पूरब के मेघालय तक। जिस राज्य का नाम मेघ पर है उस राज्य के लोगों को मेघ का पानी रोकना आता था। आज हम जिसको अंग्रेजी में वाटर हार्वेस्टिंग कहते हैं ये नया शब्द है पाँच, दस साल पहले हमारे में से किसी साथी ने चलाया होगा लेकिन हमारा समाज इस शब्द को सिर्फ चलाता नहीं था उसका उपयोग करता था।  -अनुपम मिश्र
पानी को लेकर नित नये मुहावरे गढऩे में माहिर अनुपम मिश्र ने सच कहा कि शायद हम इंतजार कर रहे हैं आकाश से आने वाली किसी वाणी का, जो हमारी नदियों को बचा सके। हम निकम्मे हो गये हैं। आओ! "नदी पुनर्जीवन" शीर्षक को पलट दें। नदियों को मरने दें। आखिर इतने सालों में हमने कितनी ही नदियों को मार ही तो दिया है। देश की 14 बड़ी नदियां बड़े संकट का शिकार हैं, तो छोटी नदियों को हम एक-एक कर मार ही रहे हैं। आयोजन स्थल के निकट लोदी गार्डन के पुल के नीचे से होकर कभी एक नदी बहती थी। खैरपुर से खान मार्केट के बीच। अब खान मार्केट के सामने नदी क्यों बहे? सड़क बहे। हमारी गाडिय़ाँ बहें। हमने उसे मार दिया। हम फाँसी देने वाले का नाम भी याद रखते हैं। लेकिन हमने इस नदी का नाम भी याद नहीं रखा। 1900 तक दिल्ली के नक्शे में कई नदियों के नाम मिलते हैं। सच है! उसके बाद नदियाँ जमीन से भी मिटीं और कागज से भी। नदी बचाने के नाम पर काम भी कागजी ही हुए। किसी सरकार के आने-जाने से इस रवैये में कोई बड़ा फर्क कभी नहीं पड़ा।
दिल्ली ने कभी अपने पानी की चिंता नहीं करती। उसने अपने 800 तालाब मार दिए। वह पहले यमुना, फिर गंगा और अब हिमाचल की रेणुका झील से पानी लाकर पीने की योजना बना रही है। आगे क्या? आगे शायद इंग्लैंड का पानी ले आये। हम नदियों को कब्जा कर रहे हैं। नदियाँ उफनकर शहरों को बाढ़ से डुबो रही हैं। पहले उड़ीसा, बिहार और बंगाल ही बाढ़ में डुबते- उतराते थे, अब मुंबई और बंगलूरु भी डूब रहे हैं। रूस जैसे जिन देशों ने नदियों का पानी रोकने की कोशिश की, उनके समुद्र सूख गये। जहाज रेत में ऐसे धंसे कि आज तक नहीं निकल पाये।
उन्होंने चेतावनी तो दी कि यदि नदियाँ इसी तरह मरती रहीं, तो हमारा अस्तित्व ही एक दिन संकट में पड़ जायेगा। तब हमे अपने पुनर्जीवन की चिंता करनी पड़ेगी। उल्लेखनीय है कि विश्व वन्यजीव संगठन की एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले मात्र 40 वर्षों में पशु पक्षियों की आबादी घटकर दो-तिहाई रह गई है। इस अवधि के दौरान मीठे जल पर आश्रित पक्षी, जानवरों और मछलियों की संख्या में 70 और उष्ण कटिबंधीय क्षेत्रों की प्रजातियों में 60 फीसदी गिरावट हतप्रभ करने वाली है। लेकिन सच यह भी है कि नदियों का कैलेंडर 12 महीने का नहीं होता।
अनुपम मिश्र ने कहा कि नदियां लाखों सालों का कैलेंडर बनाकर चलती हैं। वे लाखों साल में बनती हैं। अत: वे यूं मर भी नहीं सकती। न मालूम कौन सी नदी कितने बरस बाद फिर कब जिंदा हो जाये? कुछ पता नहीं। लेकिन नदियाँ बचेंगी, तो किसी कानून या नीति से नहीं। समाज कभी जलनीति नहीं बनाता; वह जलदर्शन बनाता है। लाखों साल का संस्कार आधारित जलदर्शन! हम कानून तोड़ सकते हैं, लेकिन संस्कार का अभी भी इस देश में मान है। उसी से उम्मीद।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष