November 13, 2015

छेरछेरा

अन्नदान का महोत्सव
- श्यामलाल चतुर्वेदी
छत्तीसगढ़ी की अर्थ व्यवस्था कृषि के धुरी पर घूमती है। यहाँ आज भी अस्सी प्रतिशत से अधिक परिवारों की आजीविका कृषि पर निर्भर करती है। दिन रात कार्यरत रह कर, चराचर के समस्त जीवों को जीवनदान देने वाला किसान मौन साधक होते है। अनेक जोखिमों के बाद जब फसल काट कर अपने कोठे में लाता है तो राहत की साँस लेता है। धान को बोने से लेकर उसकी कटाई और मिंजाई तक उसकी फसल को पशु, पक्षी चूहे, चोर और कीट पतंग देखे मन देखे चाटते रहते हैं। फिर भी किसान को परम संतुष्टि का अनुभव तब होता है जब वह समारोह पूर्वक अपनी फसल के कुछ अंश का दान करता है। स्वेच्छा से धान की फसल के अंशदान का महायज्ञ छेर छेरा कहलाता हैं। अन्नदान का यह महायज्ञ पौष पूर्णिमा के दिन समारोहपूर्वक होता है।
छत्तीसगढ़ के किसान को छेर-छेरा की उत्फुल्लता के साथ प्रतीक्षा रहती है। घरों की साफ-सफाई और लिपाई पुताई करने के बाद अन्नदान के सामूहिक अनुष्ठान का यजमान छत्तीसगढ़ का किसान पौष पूर्णिमा के आने तक मन-प्राण से अपने सामाजिक दायित्व के निर्वाह के लिए तैयार हो जाता है।
सुबह होते ही गाँव भर के अमीर गरीब अभिजात्य और अन्त्यज सभी वर्गो के बच्चे-बच्चियाँ टोकरियाँ लिये हुए घर-घर छेर-छेरा के लिए निकल पड़ती है। समूह में साधिकार घोष करते जाते हैं छेर-छेरा माई कोठी से धान निकालो और उसे बाँटो। बाल भगवान की घर के सामने सुबह से समूह में उपस्थित टोली और उसकी अधिकारिक  यह बोली क्या अमीर क्या गरीब सबके दरवाजे ही भीड़। गरीब भी यथाशक्ति सबको थोड़ा-थोड़ा ही सही अत्यधिक आन्नद से अन्न दान करता है। उसके दरवाजे धनिक निर्धन सभी घर के बच्चे खड़े होते हैं। दौलत की दीवार टूट जाती है जाति का भेद मिट जाता है। एकात्मता का अनोखा अनुष्टान होता है छेर-छेरा। नौकर के भी दरवाजे मालिक का बेटा खड़ा रहता है, गरीब की गली में अमीर का लाड़ला याचक बना घूमता है। सब लोग सबको देते हैं, सब लोग सबसे लेते हैं। यहाँ परिणाम का प्रश्न नहीं परिणाम की प्रसन्नता प्राप्त करना सबका अभीष्ट है। यदि कोई धान बाँटने में कंजूसी करता है तो ये बच्चे अपने बेलाग व्यंग्य बाणों से उनकी कृपणता पर निर्भीकता से आधात करने से भी नहीं चूकते। अहंकार का भी परिष्कार हो जाता है। सर्वत्र समभाव का साम्राज्य होता है। उदारता की भावना उद्वेलित होती है। कई छोटे बच्चे अपने यहाँ गोद में अपने छोटे भाई-बहन को लेकर निकले रहते हैं और उसके लिए भी हिस्सा वसूलते हैं। यहाँ इंकार करने वाला भी कौन है? शास्त्रों में कहा गया है बाँटकर खाओ सबकी सम्पदा में सबका हिस्सा है। किसी को खाली हाथ न लौटाओ। छत्तीसगढ़ में इस भावना को आचरण में उतारा जाता है। अन्न वितरण के बाद पर्व के उल्लास का दूसरा अध्याय प्रारंभ होता है। डंडा नाचने वालो के दल हाथों में डंडे लिए झांझ मजीरा मांदर आदि के साथ घरों घर जाकर आँगन में डंडा नाच करते हैं। इस नाच की अनेक शैलियाँ हैं जिनमें रेली, माढऩ, गुनढरकी मंडलाही, तिनडंडिय़ा, दूडंडिय़ा आदि प्रचलित है।
इस नाच के साथ गाए जाने वाले लोक गीतों में जन-जीवन की व्यथा कथा इतिहास, भगवान के स्वरूप वर्णन आदि के साथ हर्ष विषाद उल्लास के वृत चित्र उभरते हैं। निरक्षर नर्तकों के गीतों की बानगी देखिए।
 तरि हरि नाना, ना मोरि नाना,
नाना रे भाई नान गा।
परथम बन्दौं गुरू आपना,
फिर बन्दों भगवान गा।
 क्या स्पष्ट धारणा है? कबीर के समान असमंजस नहीं है कि गुरू गोविंद दोऊ खड़े, काकेलागू पांय ये तो साफ कहते हैं सबसे पहले अपने गुरू की वन्दन करता हूँ फिर बाद में भगवान की स्तुति। एक गीत में विरह की व्याकुता की झलक देखिए:-
मैं तो नई जानौं राम, नई जानौं राम,
जिया बियाकुल पिहा बिना
(हे राम। मैं नहीं जानती, नहीं समझती कि क्यों प्रियतम के बिना मेरे प्राण व्याकुल है) इस पद की अगली पंक्ति में नायिका कहती है:-
कच्चा लोहा सरौता के,
सइंया हे नदान।
फोरे न फूटय सुपरिया,
बिना बल के जवान।
जियरा बियाकुल पिहा बिना।
मेरा बालम अपरिपक्व है, पूर्ण वयस्क नहीं है, उसकी सामथ्र्य का सरौता अभी कच्चा है। उससे सुपारी नहीं फूट सकती। अपेक्षित बलविहीन जवान, अभी नादान है। फिर भी उसके वियोग में मेरे प्राण बेजार हैं, बेकल हो रही हूँ।
एक मनोरंजक विचित्रता इस गीत में देखिए-
बावा कोड़ाइस, तिन डबरी,
दू सुक्खा एक म पानी नहीं।
तेमा पेलिन, तिन केंवटा
दू खोरवा एक के गोड़े नहीं।
आमन पाइन तिन मछरी,
दू सरहा एक के पोटा नहीं।
भोला बेंचिन, तिन रूपया।
दू खोटहा, एक चलय नहीं।
ये किस्सा ल समढ़ लेहा गा,
नई जाने तउन अडहा ये गा। 
 क्या दिलचस्प कल्पना है? बाबा जी ने तीन तालाब खोदवाये जिसमें से दो सुखे और एक में पानी नहीं। उसमें मछली लाने तीन मछुआरे घुसे जिसमें दो लँगड़े और एक के पाँव ही नहीं है। उनको तीन मछलियाँ मिली जिसमें से दो सड़ी हुई थी और एक मछली की आँते नहीं थीं। उसे तीन रूपये में बेचा गया  तो दो सिक्के मिले खोटे और एक ऐसा जो बाजार में चला ही नहीं।
अब गौर कीजिए कथा के उस निरक्षर लोक गायक के चातुर्य कौशल को जिसने इस अटपटे अनबूझ कथानक को नहीं समझ पाने की बात कबूलने के पहले से यह घोषित कर दिया कि नासमझी बताने वाले मूर्ख कहे जायेंगे।
डंडा नाचने वालों को धान देकर बिदाई दी जाती है। गाँव-गाँव में डंडाहारों के नाच गान से वातावरण संगीतमय हो जाता है। घरों-घर पकवान बनाए जाते और इष्ट मित्रों के साथ खाये जाते हैं।

इस तरह अन्नदान का यह सामूहिक महोत्सव सम्पन्न हुआ करता है। 

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष