उदंती.com को आपका सहयोग निरंतर मिल रहा है। कृपया उदंती की रचनाओँ पर अपनी टिप्पणी पोस्ट करके हमें प्रोत्साहित करें। आपकी मौलिक रचनाओं का स्वागत है। धन्यवाद।

Nov 24, 2012

दीपावली के दोहे











दीपावली के दोहे
1
ऐसे दीप जलाइए, रोशन सब जग होय
अँधियारा मन का मिटे, फूट-फूट तम रोय ।
2
आस्थाओं के तेल में, नेह-वर्तिका डाल
उजियारा तम के लिए, बन जाएगा ढाल ।
3
घनी अमावस रात ने, लिया अँधेरा ओढ़
पायल पहने रोशनी, लगा रही है होड़ ।
4
नन्ही -सी लौ दीप की, झूम-झूम हरसाय ।
घूँघट में ज्यों नववधू,मन ही मन मुस्काय ।
5
कोने में बैठा हुआ, युगों से अन्धकार
मना-मना कर चाँदनी, हरदम जाती हार ।
6
खूब मने दीपावली,दीप जलें चहुँ ओर
सूखी बाती -सा जले, जिसके मन में चोर ।
                  - डॉ.भावना कुँअर (सिडनी)
  
1
दिया अकेला कब जले,जलता केवल तेल
वह भी जलता है तभी, जब बाती से मेल
2
अँधियारे को चीरना, तब ही हो आसान
दीपक कैसा भी सही,पर हो लौ में जान ।
3
दीवाली की रोशनी, करें पटाखे शोर
चाहे जितनी रात हो, लगती जैसे भोर ।
4
घनी अमावस रात में, दीवाली जब आय
सूनापन आकाश में, देख दिया मुस्काय ।
5
दीवाली की ये घड़ी, कभी न जाये बीत
आँखों में जलते रहें, सदा हजारों दीप । 

                    - प्रगीत कुँअर (सिडनी)

1 comment:

Dr.Bhawna said...

udanti men sthaan dene ke liye bahut-bahut aabhaar...