October 26, 2012

मुद्दा



दूर्गा पूजक इस देश में...  ढूँढ़ते रह जाएँगे


- कैलाश शर्मा
आजकल देश के अधिकतर भाग में नवरात्रि का उत्सव मनाया जा रहा है। आदिशक्ति दुर्गा का पूजा- अर्चन सभी जगह अपनी अपनी परंपरानुसार किया जा रहा है। नौ दिन दुर्गा के विभिन्न रूपों की पूजा की जाती है और सभी जगह वातावरण भक्तिमय हो जाता है। उत्तर भारत में दुर्गा अष्टमी को, जो नवरात्रों में आठवें दिन आती है, दुर्गा पूजा का समापन बहुत श्रद्धापूर्वक किया जाता है और छोटी बालिकाओं को बुलाकर उनको भोजन कराकर उनकी पूजा और चरण वंदन की जाती है। यह कन्या या कंजक-पूजन के नाम से भारत के अधिकतर भागों में जाना   जाता है।
नवरात्रि में दुर्गा पूजन आदिशक्ति के पूजन का प्रतीक है। भारतीय समाज में प्रारंभ से ही नारी को बहुत उच्च स्थान दिया गया है और उसे शक्ति और ममता का प्रतीक होने की वजह  से पूजनीय माना गया है; लेकिन आज के समाज में जब अपने चारों ओर दृष्टि डालते हैं; तो हम सोचने को मजबूर हो जाते हैं कि क्या हम आज नारी को, चाहे वह माँ, बहन, पत्नी या पुत्री के रूप में हो, उनका उचित स्थान दे रहे हैं। क्या केवल वर्ष में दो बार नवरात्रि के अवसर पर नारी शक्ति का वंदन काफी है? क्यों नहीं हम इसे अपनी जीवन पद्धति और सामाजिक व्यवस्था का अंग बना पाते?
आज सुबह एक समाचार पढ़कर कि देश में लड़कियों की संख्या का अनुपात लड़कों की तुलना में निरंतर कम होता जा रहा है, मन क्षुब्ध हो गया। जिस लड़की को हम नवरात्रों में घरों से बुलाकर बड़े प्यार से लाते हैं और उनका पूजन करते हैं, वे ही लड़कियाँ नवरात्रों के बाद क्यों अवांछित हो जाती हैं? क्यों हम लड़की के जन्म पर खुश नहीं होते? क्यों प्रत्येक व्यक्ति परिवार के वारिस के रूप में एक पुत्र ही चाहता है? पुत्रियाँ हमारे पारिवारिक और सामाजिक मूल्यों की वारिस क्यों नहीं बन सकतीं?
पुत्र की चाह में कुछ पारिवार जन्म से पहले ही बच्चे का भ्रूण परीक्षण कराते हैं और अगर कन्या का परिणाम आता है, तो उसका गर्भपात कराके जन्म लेने से पहले ही उसकी हत्या कराने से भी नहीं हिचकिचाते। यह सही है कि कुछ कारण हमारी सामाजिक दुर्व्यवस्था, गलत रीति-रिवाज विकृत सोच आदि के कारण भी पैदा होते हैं। दहेज जैसी कुरीतियाँ, लड़कियों के साथ दुर्व्यवहार और हमारे धार्मिक अन्धविश्वास भी इस सोच में आग में घी का काम करते हैं।  हमें अपनी सोच बदलनी होगी। शिक्षा के साथ आज इस विचारधारा में कुछ परिवर्तन आने लगे हैं, लेकिन जमीनी स्तर पर अभी बहुत कुछ करने की आवश्यकता है। इस कुरीति के कारण और परिणाम एक अलग विशद विवेचन के विषय हैं, लेकिन यहाँ मुख्य उद्देश्य इस कुप्रथा पर सभी का ध्यान आकृष्ट करना है।
भ्रूण जाँच और उसके आधार पर कन्या भ्रूण की हत्या एक जघन्य कृत्य है, जिसको रोकने के लिए न केवल कठोर कानून की जरूरत है ; बल्कि हमें लड़की के प्रति अपनी सोच बदलनी होगी। अगर हम लड़कियों को भी वही सुविधाएँ दें, वही शिक्षा दें, वही प्रोत्साहन दें जो एक पुत्र को देते हैं, तो कोई कारण नहीं कि हमारी पुत्रियाँ परिवार और समाज में वही स्थान प्राप्त न कर सकें, जिसकी हम पुत्रों से आशा करते हैं।
यह कितनी बड़ी विडम्बना और हमारा दोगलापन है कि जिस लड़की को हम नवरात्रों में देवी का प्रतिरूप मानकर उसकी पूजा करते हैं, उसी लड़की से हम जन्म लेने का अधिकार छीन लेते हैं। अगर हम दुर्गा माता की सच्ची पूजा-अर्चना करना चाहते हैं तो हमें लड़कियों को वही प्यार और सम्मान देना होगा ; जो हम उन्हें नवरात्रों में कन्या-पूजन के समय देते हैं। अगर हम इसमें चूक गए; तो वह दिन दूर नहीं जब हम नवरात्रों में कन्या पूजन के लिए कन्या ढूँढ़ते रह जाएँगे।     
Email- kcsharma.sharma@gmail.com

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष