July 25, 2012

वर्षा ऋतुः मोर पपीहा बोलन लागे...

- आर. वर्मा
बारिश के आगमन से मदमस्त हो पंख फैलाए मोर को नाचते देख काव्य की धारा फूट पड़ती है। हिन्दी साहित्य में ऋतुओं और षट्ऋतु का जैसा सजीव चित्रण प्रस्तुत किया गया है वह दुर्लभ है। विरह की बेला में तो कवियों ने वर्षा ऋतु को ही प्रमुखता दी है।
 बादलों का गरजना, बिजलियों का चमकना और मूसलाधार बारिश भला ऐसा सुहाना मौसम किसे नहीं भाता। मई- जून की तपा देने वाली धूप के बाद जब मानसून पहली दस्तक देता है और बादलों की पहली बूंद धरती पर गिरती है तो स्वाभाविक है धरती के साथ- साथ संपूर्ण प्राणी जगत तृप्ति का अनुभव करता है। आखिर लू के थपेड़ों ने खूब झुलसाया भी तो है,  लेकिन रिमझिम करते बादल बरसे तो खूब जमकर बरसे और धरती से उठती सौंधी खुशबू नथुनों में समायी तो सारी तपन न जाने कहां उडऩ छू हो गई।
भीगे मौसम की इस खूशबू पर हमारे आदि कवियों से लेकर आधुनिक कवियों ने इतना कुछ लिखा है जितना और किसी मौसम पर नहीं। रूठे हुए बादल को मनाने की बात हो या घनघोर बारिश को थोड़ी देर थामने की, कलम चली तो खूब चली। इंद्रधनुषी रंगों से सजे बादलों को देखकर वह आनंद विभोर हो उठता है, तो बारिश के आगमन से मदमस्त हो पंख फैलाए मोर को नाचते देख काव्य की धारा फूट पड़ती है। हिन्दी साहित्य में ऋतुओं और षट्ऋतु का जैसा सजीव चित्रण प्रस्तुत किया गया है वह दुर्लभ है। विरह की बेला में तो कवियों ने वर्षा ऋतु को ही प्रमुखता दी है। जैसे की नागमती प्रियतम की याद में व्याकुल है-
ओनई घटा आह चहूं फेरी
कंत उबारू मदन हौ घेरी
और सूरदास की गोपियां तो अपने कृष्ण कन्हाई को बादलों में ढूंढती फिरती हैं। उन्हें श्यामवर्ण कृष्ण बादल के रूप में दिखाई देते हैं और वे शिकायत करती हैं कि क्या कृष्ण के देस में बादल नहीं गरजते- किधौं घन गरजत नहिं उन देसनि... ताकि बरसते बादलों को देखकर उन्हें हमारी याद आ जाएं।
सच भी तो है, जब मौसम की पहली फुहार, पेड़- पौधों को धोती हुई पड़ती है तो पत्तों की चमक देखकर लगता है प्रकृति भी विरहिणी के विरह से दग्ध है और आंसू बहा रही है। तभी तो विरह में तड़पती हुई यक्षिणी अपने प्रेमी तक संदेश पहुंचाने के लिए बादलों का ही सहारा लेती है- ओ आषाढ़ के पहले बादल ...
कालिदास के कवि मन को इससे बढिय़ा और कोई माध्यम भला मिल सकता था? उन्होंने मेघदूतम लिखकर प्रेमियों के लिए संदेश भेजने का एक बिन पाती भेजे डाकिया जो दे दिया है। बारिश को मौसम को यूं भी कामदेव की पसंद का मौसम माना जाता है। प्रेमियों के मन में उमंगे जगाने का मौसम, लेकिन प्रेमियों के इस देश में एक प्रेमी ऐसे भी हुए हैं, जिन्हें यह मौसम इसलिए प्यारा था क्योंकि इस मौसम में आम आते हैं। उन्हें अपनी प्रेयसी से ज्यादा आम प्यारे थे। इन रसिक आम प्रेमी का नाम है मिर्जा गालिब।
जब हिन्दी साहित्य जहां बारहमासी गीतों से लबालब है तब उर्दू साहित्य भला इससे कैसे अछूता रह सकता है। उर्दू काव्य में बारिश के इस भीगे मौसम पर बेहद खूबसूरत गजल और नज्म लिखी गई है। सुदर्शन फाकिर की एक गजल जिसे चित्रा जगजीत ने अपनी आवाज दी है, सुनकर बरबस बचपन के वे दिन याद आ जाते हैं जब बारिश की पहली फुहार के साथ ही गली मोहल्लों में कागज की नाव तैरने लगती थी।
वो कागज की कश्ती
वो बारिश का पानी ...
इसी तरह अख्तर शीरानी ने एक नज्म में अपने देश के इस मौसम पर बेहद भावुक बात कही है-
ओ देस के आने वाले बता
बरसात के मौसम
अब भी वहां
वैसे ही सुहाने होते हैं?
क्या अब भी वहां के बागों में
झूले और गाने होते हैं?
और दूर कहीं कुछ देखते ही
नौ उम्र दीवाने होते हैं?
ओ देस से आने वाला बता...
लोक जीवन और लोक धुनों से बंधे इन गीतों में जीवन का रस टपकता है राजेंद्र कृष्ण का गीत कारे- कारे बदरा जा रे जा रे बदरा, मोरी अटरिया न शोर मचा... बिरहिणी नायिका के मनोभावों का सुंदर चित्रण है तो साहिर लुधियानवी का जिंदगी भर नहीं भूलेगी वो बरसता की रात...
इस भीगते मौसम में भला फिल्में कैसे अछूती रह सकती है। फिल्मों में भी बरसते मौसम का भरपूर इस्तेमाल किया गया है। अब तो फिल्म चलाने के लिए बारिश का दृश्य फिल्माया जाता है पर आज से तीन चार दशक पहले फिल्मों में बारिश पर कई बेहतर गीत लिखे गये हैं- ऐसे गीत जिन्हें आज भी सुनकर मन मयूर नाच उठता है। अनजान का एक खूबसूरत गीत है-
पिपरा के पतवा सरीखे डोले मनवा
कि हियरा में उठत हिलौरे।
अरे, पुरवा के झोंकवा से आयो रे
संदेसवा कि चल आज देसबा की ओर।
लोक जीवन और लोक धुनों से बंधे इन गीतों में जीवन का रस टपकता है राजेंद्र कृष्ण का गीत कारे- कारे बदरा जा रे जा रे बदरा, मोरी अटरिया न शोर मचा... बिरहिणी नायिका के मनोभावों का सुंदर चित्रण है तो साहिर लुधियानवी का जिंदगी भर नहीं भूलेगी वो बरसात की रात, एक अनजान हसीना से मुलाकात की रात सौंदर्य चित्रण का अनुपम उदाहरण है। ये गीत आज भी उतने ही रसीले और मधुर हैं जितने लिखे गए थे तब।
दरअसल प्रकृति का यह रसीला रूप है ही इंद्रधनुषी कि इनके सात रंगों से कोई भी अछूता नहीं रह सकता।
तो मन को हर्षाता, नचाता, गाता, खुशियां बिखेरता यह मौसम आ गया है- अषाढ़ के लगते ही सूखी धरती हरीतिमा बन लहलहा उठेगी और सावनी फुहारों के साथ ही गांव की अमराइयों में झूले पडऩे लगेंगे। आज शहरी चकाचौंध के बीच सावन के झूले तो नजर नहीं आते पर गांवों में अब भी बरसती बंूदों के साथ लोक धुनों के स्वर यदा- कदा सुनाई दे जाते हैं-
मोर पपीहा बोलन लागे
मेंढक ताल लगावे ना।
चमक- चमक बिजुरी घन गरजे
शीतल जल बरसावे ना।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष