May 30, 2012

अगर प्यार में और कुछ नहीं

- रवीन्द्रनाथ टैगोर
अगर प्यार में और कुछ नहीं
केवल दर्द है फिर क्यों है यह प्यार ?
कैसी मूर्खता है यह
कि चूंकि हमने उसे अपना दिल दे दिया
इसलिए उसके दिल पर
दावा बनता है, हमारा भी
रक्त में जलती इच्छाओं और आंखों में
चमकते पागलपन के साथ
मरूस्थलों का यह बारंबार चक्कर क्यों कर ?
दुनिया में और कोई आकर्षण नहीं
उसके लिए
उसकी तरह मन का मालिक कौन है
वसंत की मीठी हवाएं उसके लिए हैं
फूल, पंक्षियों का कलरव सब कुछ
उसके लिए है
पर प्यार आता है
अपनी सर्वगासी छायाओं के साथ
पूरी दुनिया का सर्वनाश करता
जीवन और यौवन पर ग्रहण लगाता
फिर भी न जाने क्यों हमें
अस्तित्व को निगलते इस कोहरे की
तलाश रहती है?

Labels: ,

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home