October 03, 2011

पद्मश्री सम्मान और मूंगफल्ली

- रवि श्रीवास्तव

वे दो दिन बाद फिर आए। मैंने पद्मश्री के लिए आवेदन करने से साफ मना कर दिया। वे निराश हुए। थोड़ी देर चुप रहने के बाद उचकते हुए बोले- 'यह आपका आखिरी फैसाल है।' मैंने कहा- 'ऐसे मामलों में मैं अपना इरादा नहीं बदलता। अपने को फिलहाल इस लायक नहीं समझता।' वे तुरंत बोले- 'आप मुझे आशीर्वाद दीजिए।'
इक्कीसवीं सदी से महज दो माह पूर्व कुछ नए राज्य अस्तित्व में आए। इन राज्यों में पद्म सम्मानों के प्रति स्वाभाविक जिज्ञासा बढ़ी। बढ़ते चली गई। जिज्ञासा इस हद तक बढ़ी, पूरा समाज जिज्ञासु हो गया। ऐसा नहीं कि नया राज्य बनने से पहले सम्मानों के प्रति कोई जानकारी नहीं थी। लोगों को जानकारी तो थी लेकिन सीमित। छब्बीस जनवरी के आसपास सम्मानों की घोषणा की परंपरा है। अखबार और टीवी के माध्यम से उसी समय चर्चा के केंद्र में रहते हैं। इधर के कुछ वर्षों में पूरे देश में सम्मानों को लेकर हलचल बढ़ी है। खासकर पद्मश्री को लेकर पाने वालों में होड़ मची है। डॉक्टरों का एक बड़ा वर्ग सक्रिय है। इनमें वे शामिल हैं जो बड़े नेताओं के फेमिली डॉक्टर होकर इलाज के बहाने उन्हें उपकृत करते हैं। अधिवक्ता वर्ग भी पीछे नहीं है। मामले- मुकदमें में फंसे नेताओं के मददगार बन अपना दावा सम्मान के लिए पुख्ता करते हैं। उद्योगपतियों के घरानों से निकले पप्पू और गप्पू किस्म के कारोबारी भी सक्रिय हैं। नवधनाढ्यों में लालसा बढ़ी है। खिलाडिय़ों की बड़ी संख्या हाथ धोकर पीछे पड़ी रहती है। मांगने वाले तो यहां तक मांगते हैं कि पूरी क्रिकेट टीम को पद्मश्री मिल जाए। बड़े-बड़े पदों से सेवानिवृत्त नौकरशाह और विदेश सेवा में कार्यरत नौकरशाहों की पूरी लॉबी में पद्मश्री की चर्चा गरम रहती है। कुछ पत्रकार तो ऐसे हैं कि उनके साल भर का लेखा-जोखा, लेखन प्रकाशन, पद्म सम्मानों के इर्द-गिर्द सिमटा रहता है। साहित्यकारों में गजब की होड़ है। साहित्य से लुंज-पूंज और उमर से थके हारे साहित्यकार लाईन में लगे-लगे थक गये हैं। उनका स्वाभिमान संस्कृति विभाग की सीढिय़ों पर है। कलाकार, लोक कलाकार, सिने अभिनेता इस मैराथन दौड़ में शामिल हैं। वे इस सितारा रूपी सम्मान को पाने दिन में सपनाते नजर आते हैं।
पद्मश्री सम्मानों की स्थिति गरीब की भौजाई से बदतर हो चली है। जिसे देखो वहीं हाथ ठोक रहा है। सूची हर साल बढ़ती जाती है। बढ़ती हुई सूची के साथ विवाद भी बढ़ता जाता है। एक दूसरे को नीचा दिखाने का मौन संघर्ष भी चलता दिखाई देता है। राज्यों की राजधानियों से लेकर देश की राजधानी तक दलालों का एक वर्ग सक्रिय है। उनका अपना नेटवर्क है। वे ठेका लेकर सम्मान दिलवाने का वादा करते हैं। इसके लिए मोटी रकम की डिमांड भी बनी रहती है। देश और लोकतंत्र का इससे बड़ा दुर्भाग्य और क्या हो सकता है। सबसे महत्वपूर्ण सम्मानों के पीछे दलाल लग गए। यही हाल रहा तो साल दर साल ये पुुरस्कार अपनी चमक खोते जाएंगे। लोग लेने से परहेज करते नजर आएं तो आश्चर्य नहीं। गत दो वर्षों की सूची देखने मिली। खासकर पद्मश्री सम्मानों की सूची। एक बारगी ऐसा लगा कि पॉलिथिन की छोटी-छोटी थैलियों में चिरौंजी दाना और मूंगफल्ली प्रसाद की शक्ल में भक्तों के बीच निर्विकार भाव में बांटा जा रहा हो।
शाम के समय घूमने निकलने की तैयारी में था। एक परिचित सज्जन आ धमके। भला चाहने वालों में से हंै। आते ही बोले- आप तो एप्लाई कीजिए। आपका एप्लाई करना जरुरी है। इतना कहकर वे कुर्सी पर बिराजमान हुए। मुझे रिटायर हुए तीन माह बीते थे। मैंने कहा- 'अभी तो रिटायर हुए तीन माह बीते हैं।' मैं और कहीं काम का इच्छुक नहीं हूं। वे बोले 'हम नौकरी के लिए एप्लाई की बात नहीं कर रहे हैं। ये दूसरे किस्म का एप्लाई है। आप समझ नहीं पा रहे हैं।' इसके आगे वे बोल नहीं पा रहे थे। मैंने कहा देखिए। पिछले एक माह से अपने छोटे से कस्बेनुमा शहर में विदेश यात्रा की बड़ी चर्चा रही है। खासकर बैकांक की। जिसे देखो, वहीं पासपोर्ट दफ्तर की ओर राजधानी भागा जा रहा है। लेकिन मेरी कोई दिलचस्पी विदेश यात्रा में नहीं है। अपना घर फूंककर तमाशा देखने से क्या फायदा। और अब उमर भी नहीं रही पटाया, बैंकाक घूमने की। मेरी बात सुनकर और मेरे चेहरे पर आई परेशानी देखकर वे तुरंत बोले- 'आ समझे नहीं, हमें समझाने लगे दरअसल हम पद्मश्री के लिए एप्लाई करने की बात कह रहे हैं।Ó इतना कहकर वे मुसकुराने लगे। मुझे उनकी मुसकुराहट में पद्म सम्मान की झलक दिखाई दी।
मैंने लम्बी सांस लेते हुए सिर पर हाथ फेरा चेहरे के हावभाव को विनम्र बनाते हुए बोला- 'मैं और पद्मश्री? मैं तो अपने को इस लायक नहीं समझता।' वे कुर्सी के हत्थे को ठोकते हुए बोले- 'भाई साहब। ऐरे- गैरे जब एप्लाई कर रहे हैं तब आप क्यों नहीं? आप तो उनसे कई गुणा प्रतिभा सम्पन्न है।' मैंने कहा- ये प्रतिष्ठित पुरस्कार हैं। इसे कोई ऐरा- गैरा नहीं पा सकता। ऐसा कहना इन सम्मानों का अपमान है। जो पा चुके, उनका भी अपमान है। मेरी बात सुनकर वे खीजते हुए बोले- 'इसमें मान- अपमान की क्या बात है, जो है सो है। सही- गलत सब नजर आता है। मैं कहता हूं ऐरे- गैरे सम्मान पाने के लिए लगे हुए हैं। नथ्थू- खैरे तो कब के पा चुके हैं। और आप कहते हैं, अपमान हो रहा है। दरअसल समाज के बुद्धिजीवियों का अपमान हो रहा है। आप जैसे काबिल लोगों के एप्लाई नहीं करने से नथ्थू खैरे मजा मार रहे है। इसीलिए तो आपके पास आए हैं। हम कल ही पूरी जानकारी लेकर आते हैं। आप तैयार रहिए।' इतना कहकर वे हल्के हुए। गुबार निकला। बिना चाय पिए चल दिए। ये अलग किस्म का अहसान है। मैं उन्हें दूर तक जाता देख रहा हूं।
वे दो दिन बाद फिर आए। मैंने पद्मश्री के लिए आवेदन करने से साफ मना कर दिया। वे निराश हुए। थोड़ी देर चुप रहने के बाद उचकते हुए बोले- 'यह आपका आखिरी फैसला है।' मैंने कहा- 'ऐसे मामलों में मैं अपना इरादा नहीं बदलता। अपने को फिलहाल इस लायक नहीं समझता।' वे तुरंत बोले- 'आप मुझे आशीर्वाद दीजिए।' 'आशीर्वाद तो दे ही दूंगा। लेकिन यह तो मालूम हो कि मैं किस शुभकार्य या उपलब्धि के लिए आशीर्वाद दे रहा हूं।' वे गंभीर मुखमुद्रा बनाकर बोले- 'अब मैं स्वयं पद्मश्री प्राप्त करने के लिए एप्लाई करूंगा। इसकी शुरुआत, आपके आशीर्वाद से।' अब चौंकने की मेरी पारी थी। मैं चौंका नहीं। मुसकुराया। घर में मिठाई थी। उनका मुंह मीठा कराया। एक चारित्रिक प्रमाणपत्र भी दिया, जो आवेदन के साथ नत्थी होता है। वे लौट रहे हैं। मुड़- मुड़ कर देखते हुए। मेरा घर ही कुछ ऐसा बना है कि जाता हुआ व्यक्ति दूर तक दिखाई देता है। मैं खुश हूं, बला मेरे सर से टली। इससे अच्छा शब्द फिलहाल मुझे सूझ नहीं रहा है।
बाहरी दरवाजे से भीतर लौटते हुए देश के वरिष्ठतम गीतकार जानकीवल्लभ शास्त्री याद आए। उन्हें नब्बे वर्ष की उम्र में सरकार ने पद्मश्री देने की घोषणा की थी। उन्होंने इसे अपना घोर अपमान समझा। विनम्रता पूर्वक ठुकरा दिया। वे सम्मान लौटाकर सम्मानित हो गए। जितना मान देश भर में ठुकराने से बढ़ा उतना स्वीकार करने से शायद ही बढ़ता। अब तो सम्मान ऐरे-गैरे तक जा पहुंचा है। उसकी गरिमा अतीत के पन्नों में सिमट कर रह गई है। वर्तमान बेहद कडुवा। और भविष्य... नहीं लेने में सुरक्षित।



लेखक के बारे में : 19 दिसंबर 1942 ग्राम कोमा, राजिम में जन्म। शिक्षा : एमए (राजनीति, इतिहास) बीएड। काव्य संग्रह: पहाड़ पर चढ़ते पांव, नदी थकने नहीं देती, फौलाद ढालते हाथों के दिन। व्यंग्य संग्रह: लालबत्ती का डूबता सूरज। कहानी संग्रह: हाथों के दिन। भिलाई इस्पात संयंत्र शिक्षा विभाग से सेवानिवृत्त।
संपर्क: मकान नम्बर 20/बी, सड़क-30, सेक्टर- 10,
भिलाई
नगर 490006
मो
. 09300547033

2 Comments:

Harihar Vaishnav said...

Samman maagaa nahin jaataa, diyaa jaataa hai. Samman praapt karane ke liye 'apply' karane se badaa apmaan aur kyaa ho sakataa hai? Koii bhii swaabhimaanii vyakti maang kar samman praapt karnaa nahin chaahegaa.

Harihar Vaishnav said...

Sammaan maangaa nahin jaataa, diyaa jaataa hai. Iske liye 'apply' karne se badaa apmaan bhalaa aur kyaa ho saktaa hai? Koii bhii swaabhimaani vyakti na to 'apply' karegaa aur na koii guntaadaa hii lagaayegaa.

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष