December 25, 2010

तीन अरब में नीलाम हुआ गुलाबी हीरा

दुनिया की सबसे खूबसूरत चीजों में से एक गुलाबी हीरा गत माह करीब 3 अरब रुपए में नीलाम हुआ। ब्रिटेन के मशहूर नीलामी घर सॉदबी ने इसका सौदा कराया। किसी एक हीरे के लिए चुकाई गई यह अब तक की सबसे बड़ी रकम है। इस गुलाबी हीरे के लिए लंदन के जाने- माने जौहरी लॉरेंस ग्रैफ ने 46 मिलियन अमेरिकी डॉलर देकर इसे खरीदा। ग्रैफ ने तुरंत ही इस हीरे को नाम दिया 'द ग्रैफ पिंक।'

सॉदबी ने इस नीलामी से पहले 24.78 कैरेट के इस दुर्लभ हीरे की कीमत करीब 1 अरब 20 करोड़ रुपये से 1 अरब 70 करोड़ रुपए के बीच आंकी थी। लेकिन खरीदारों के बीच लगी होड़ ने इसकी कीमत दोगुनी से भी ज्यादा कर दी और यह करीब 3 अरब रुपए में बिका। यूरोप और मध्यपूर्व में सॉदबी के अंतरराष्ट्रीय ज्वैलरी विभाग के चेयरमैन डेविड बेनेट ने इस हीरे को सबसे शुद्ध हीरों में से एक करार दिया है। सॉदबी की नीलामी में आए करीब 500 लोगों की आंखों में चमक भर देने वाले इस हीरे की तरह के दुनिया में बस दो फीसदी हीरे ही मौजूद हैं। बाजार में यह आखिरी बार 60 साल पहले तब आया था जब अमेरिका के जौहरी हैरी विंस्टन ने अपने निजी खजाने से निकाल कर इसे बेच दिया था। तब से यह फिर निजी खजाने में ही दबा हुआ था।
लंबाई ने दिलाई प्रसिद्धि
अमेरिका में कैलिफॉर्निया के वायेन और लॉरी हॉलक्विस्ट ने 7 साल पहले शादी की तो उन्हें नहीं पता था कि उनकी लंबाई का यह मिलन उन्हें दुनिया भर में मशहूर कर देगा। इस जोड़े को गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड्स ने दुनिया के सबसे लंबे जीवित पति- पत्नी के खिताब से नवाजा है।
कैलिफोर्निया के स्टॉक्टन में रहने वाले हॉलक्विस्ट पति- पत्नी की कुल लंबाई 13 फुट 4 इंच यानी 407.4 सेंटीमीटर है। पति की लंबाई है छह फुट 10 इंच और पत्नी की छह फुट 5.95 इंच। टेलीफोन कंपनी में काम करने वाले 57 साल के वायेन ने अपनी लंबाई को लेकर मजाक में कहा, 'ऊपर से देखने पर सारा नजारा ही अलग हो जाता है। हम एक दूसरे को भारी भीड़ में भी खोज सकते हैं।'
वायेन और लॉरी 2003 में एक चर्च सिंगल्स क्लब में मिले थे। वे पिछले 7 साल से एक साथ रह रहे हैं लेकिन इसी साल उन्होंने गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉर्ड्स से संपर्क किया। शुरू में वे थोड़ा झिझक रहे थे। उन्होंने किसी वेबसाइट पर पढ़ा कि पिछली बार 7 फुट से लंबे दो लोगों ने शादी 19वीं सदी में की थी। फिर उन्हें ध्यान आया कि वे लोग सबसे लंबे जीवित पति- पत्नी के रूप में अपना नाम दर्ज करा सकते हैं। और इस तरह वे मशहूर हो गए।
सूरज की रोशनी पर भी लगेगी फीस !
क्या उगते या ढलते सूरज को देख कर आपके मन में कभी उस पर अपना अधिकार जमाने का ख्याल आया है! जी हां स्पेन के गैलिसिया शहर में रहने वाली 49 वर्षीय एंजिल्स ड्यूरन ने सूर्य को अपनी निजी संपत्ति बताकर इसकी रोशनी का इस्तेमाल करने वालों पर फीस लगाने का दावा किया है।
ड्यूरन ने सूर्य को आधिकारिक तौर पर अपनी संपत्ति बताया है। उन्होंने सितंबर में सूर्य का स्थानीय नोटरी कार्यालय में अपने नाम पंजीयन भी कराया है। ऐसा उन्होंने अमेरिका के एक शख्स से प्रभावित होकर किया है। अमेरिका का यह शख्स चंद्रमा और कई ग्रह अपने नाम करा चुका है।
नोटरी कार्यालय के दस्तावेज में लिखा गया है कि मिस ड्यूरन को सूर्य की मालकिन घोषित किया जाता है। अब वह सूर्य की रोशनी इस्तेमाल करने वालों पर फीस लगाने की तैयारी में है। इसका आधा भाग वह स्पेनिश सरकार को देने के साथ 20 फीसदी देश के पेंशन फंड में जमा करेंगी। इसके अलावा दस प्रतिशत शोध कार्यों और दस प्रतिशत दुनिया की भुखमरी कम करने और बाकी दस प्रतिशत को खुद रखेंगी।
दुनिया के सभी देशों के बीच एक अंतरराष्ट्रीय सौदा होता है, जिसके तहत कोई भी देश किसी ग्रह या तारे पर अपना मालिकाना हक नहीं जमा सकता। मगर यह सौदा किसी व्यक्ति विशेष पर लागू नहीं होता। इसी का फायदा उठाते हुए एंजिल्स ड्यूरन ने सूर्य पर कब्जा कर लिया है।

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष