November 20, 2009

इस अंक के लेखक

रूपसिंह चन्देल
12 मार्च, 1951 को कानपुर के गांव नौगवां (गौतम) में जन्म। कानपुर विश्वविद्यालय से एम.ए. (हिन्दी), पी-एच.डी.। अब तक उनकी 38 पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। 6 उपन्यास  जिसमें से रमला बहू, पाथरटीला, नटसार और शहर गवाह है चर्चित रहे हैं। 10 कहानी संग्रह, 3 किशोर उपन्यास, 10 बाल कहानी संग्रह, 2 लघु-कहानी संग्रह, यात्रा संस्मरण, आलोचना, अपराध विज्ञान, 2 संपादित पुस्तकें सम्मिलित हैं। इनके अतिरिक्त बहुचर्चित पुस्तक दॉस्तोएव्स्की के प्रेम (जीवनी)  संवाद प्रकाशन, मेरठ से प्रकाशित हुई है। उन्होंने रूसी लेखक लियो तोल्स्तोय के अंतिम उपन्यास हाजी मुराद का हिन्दी में पहली बार अनुवाद किया है जो 2008 में संवाद प्रकाशन मेरठ से प्रकाशित हुआ है। सम्प्रति- स्वतंत्र लेखन, दो चिट्ठे- रचना समय और वातायन पता- बी-3/230,सादतपुर विस्तार, दिल्ली - 110094, मो. 09810830957
Email- roopchandel@gmail.com, roopschandel@gmail.com 
जीवन यदु
खैरागढ़ (छ.ग.) के निम्न वर्गीय परिवार में 1 फरवरी 1947 को जन्म। एमए (हिन्दी), पीएचडी तक शिक्षा, इंदिरा कला एवं संगीत विश्वविद्यालय खैरागढ़ से कथाकार डॉ. रमाकांत श्रीवास्तव के मार्गदर्शन में छत्तीसगढ़ी कविता पर लोक संस्कृति का प्रभाव विषय पर शोध। झील की मुक्ति के लिए (कविता संग्रह), अनकहा है जो तुम्हारा (गीत संग्रह), लोक स्वप्न में लिलिहंसा (निबंध संग्रह), अइसनेच रात पहाड़ी (छत्तीसगढ़ी काव्य नाटिका), छत्तीसगढ़ी कविता - संदर्भ एवं मूल्य तथा साक्षरता संबंधी चार पुस्तकें प्रकाशित। 1967 से विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में गीतों एवं लोक जीवन से संबंधित विश्लेषणपरक लेखों का प्रकाशन। प्रलेस का इकाई सचिव। छत्तीसगढ़ हिन्दी साहित्य सम्मेलन का प्रांतीय साहित्य मंत्री। पता - गीतिका, दाऊचौरा खैरागढ़ 491881।
बालसुब्रमण्यम लक्ष्मीनारायण
मेरा पूरा नाम बालसुब्रमण्यम लक्ष्मीनारायण है, पर लोग मुझे आमतौर पर बाला ही कहते हैं। पेशे से हिंदी अनुवादक और अहमदाबाद का निवासी हूं। वैसे मैं केरल का तमिल हूं। मेरा जन्म वर्ष 1962 में केरल के पोन्नानी नाम के समुद्र-तटीय गावं में हुआ था। केरल में ही, चिट्टूर और नूरणी नामक स्थानों में मेरी प्राथमिक शिक्षा मलयालम भाषा में हुई, पर मैं केरल में अधिक समय के लिए नहीं रहा। 7-8 साल का था, हम लखनऊ चले गए, जहां मेरी स्कूली पढ़ाई सेंट फ्रांसेस कालेज में पूरी हुई। बीएससी दिल्ली के हंसराज कालेज से की। हिंदी में दिल्ली विश्वविद्यालय से एमए भी किया। तत्पश्चात इग्नू से एमसीए (मास्टर ओफ कंप्यूटर एप्लिकेशेन्स) की डिग्री भी हासिल की। ग्रेजुएशन के बाद मुझे अहमदाबाद स्थित एक पर्यावरण शिक्षण संस्था में लेखक-अनुवादक की नौकरी मिली। यह 1985 की बात है। तब से मैं अहमदाबाद में ही हूं। वर्ष 2007 में मैंने नौकरी छोड़कर अनुवाद और स्वतंत्र लेखन को ही पूरा समय देना शुरू कर दिया। मैं हिंदी, अंग्रेजी, गुजराती, तमिल और मलयालम भाषाएं जानता हूं, और इनमें से प्रथम दो भाषाओं में खूब लिखता और अनुवाद करता हूं। मेरे ब्लाग - कुदरतनामा, प्रिंटेफ-स्कैनेफ, जयहिंदी, बाल जयहिंदी, केरल पुराण। Email- l.balasubramaniam@gmail.com
मुन्ना कुमार पांडे 

23 दिसंबर 1982 को बिहार के गोपालगंज में जन्म। दिल्ली के रामजस कॉलेज से बीए, एमए की शिक्षा। साहित्य, रंगमंच सिनेमा और घुमककड़ी से गहरा लगाव। दिल्ली यूनीवर्सिटी से एमफिल में हबीब तनवीर के बहादुर कालारिन के लोक आख्यान विषय पर लघु शोध प्रबंध। वर्तमान में इसी यूनीवर्सिटी के हिन्दी विभाग में यूनीवर्सिटी  शिक्षा सहयोगी होने के साथ ही पीएचडी।  jaaneanjaane.blogspot.com के नाम से ब्लॉग जगत में भी सक्रिय। पता- सेक्टर-41, माल अपार्टमेंट (गेट नं.1), माल रोड (दिल्ली यूनिवर्सिटी के पास) दिल्ली - 110054 मो. 09968734648 Email- kunal23rs@gmail.com
संतोष कुमार
मीडिया में माखन लाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय से मास्टर डिग्री। अमर उजाला, यूनिवार्ता और नवज्योति का कार्य अनुभव। दिल्ली में रहकर दिल्ली की रिपोर्टिंग और नवज्योति में नियमित इंडिया गेट कालम का लेखन। पत्रकार के साथ- साथ समालोचक। विस्फोट.कॉम के लिए विशेष लेखन।
आशा तनेजा

अलवर (राजस्थान) में जन्म। पत्रकारिता में स्नाकोत्तर, कुछ वर्षो तक पत्रकारिता महाविद्यालय में अध्यापन, संप्रति साहित्य पत्रिका 'पाखी' में उप- संपादक, कई पत्र-पत्रिकाओं में कहानियां एवं कवितायें प्रकाशित। स्थाई पता- 363, लाजपत नगर, अलवर-301001( राजस्थान) वर्तमान पता - बी-107, सेक्टर-63, नोएडा-201301(उप्र)। मोबाइल-  9711850979  Email- taneja.asha@gmail.com
***********

वाह भई वाह

कमाल की दवा

बंठू को देर से उठने की आदत थी इसलिये वह हमेशा ऑफिस देर से पहुंचता था। उसका बॉस इस बात से बहुत नाराज था अंतत: उसने बंठू को चेतावनी दे डाली कि या तो समय पर आओ या नौकरी छोड़ दो।
हार कर बंठू एक डॉक्टर के पास गया। डॉक्टर ने उसे कुछ गोलियां दी और कहा कि अब वह बिल्कुल समय पर जाग जाया करेगा।
रात को बंठू दवा खाकर सो गया। सुबह जब वह जागा तो सचमुच सूरज नहीं निकला था। दवा ने तो कमाल ही कर दिया था। वह खुशी- खुशी तैयार हुआ और समय से थोड़ा पहले ही ऑफिस पहुंच गया।
'सर' उसने बॉस से कहा, 'उस डॉक्टर की दवा तो कमाल की है!'
'वह तो ठीक है,' बॉस ने रुखाई से जवाब दिया, 'पहले यह बताओ कि कल तुम कहां थे ?'

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष