November 02, 2008

बुरा मत सुनो , बुरा मत देखो , बुरा मत कहो

गांधी जी ने भारत को आजादी तो दिलाई ही साथ ही हमारे लिए जीवन के कुछ सूत्र भी छोड़ गए यदि उनके बताए मार्ग पर मानव चलने लगे तो आज देश भर में जिस तरह हिंसा और अराजकता का माहौल है वह कभी भी न हो।

पिछले साल मैं बच्चों को रायपुर छत्तीसगढ़ में स्थित महंत घासीदास संग्रहालय दिखाने ले गई। पुरातात्विक धरोहरों का अवलोकन करते हुए एक जगह मेरी नजर अचानक रूक गई । मैंने देखा कि वहां पत्थर से बने बापू के तीन बंदर रखें हैं। उसे देख मैं सोचने लगी कि इन पुरातन धरोहरों के बीच बापू के ये तीन बंदर क्या कर रहे हैं। बुरा मत सुनो, बुरा मत देखो और बुरा मत कहो का संदेश देते बापू के इन तीन बंदरों ने इनके बारे में और अधिक जानने के लिए मुझे आकर्षित कर लिया। यद्यपि ये आकृतियां अत्याधिक परिष्कृत नहीं है।

शोधकर्ताओं के अनुसार गांधी जी का प्रिय भजन वैष्णव जन तो तेने कहिए पीर पराई... गुजरात के नरसिंह मेहता द्वारा लिखे भजन पर आधारित है। एक गाल पर कोई चाटा मारे तो दूसरा गाल आगे कर दो उन्होंने बाइबल से ली है जबकि अहिंसा परमो धर्म बौद्ध साहित्य से लिया गया है। इसी तरह अभी तक ऐसा माना जाता रहा है कि महात्मा गांधी के तीन बंदर उनका अपना मौलिक चिंतन है। परंतु गांधी जी के इन तीन बंदरों पर हो रहे शोध और अध्ययन कुछ और ही कहानी बयां करते हैं। और हमें सोचने पर बाध्य करते हैं कि गांधी जी के ये तीन बंदर जो भारतीय जनता के लिए आज सूत्र वाक्य बन गए हैं क्या उपनिषद काल की देन हैं, जिसे बाद में गांधी जी ने भारतीय जनता में प्रचारित प्रसारित किया। क्योंकि रायपुर के महंत घासीदास संग्रहालय में रखी तीन बंदरों की मूर्तियों के बारे में संग्रहालय के अध्यक्ष ने जो जानकारी उपलब्ध कराई है, उसके अनुसार तो हमें अपनी भारतीय संस्कृति को खंगालना होगा।

एक ओर जहां ये मूर्तियां 16 वीं 17वीं शताब्दी की बताई जा रहीं हैं वहीं जब इंटरनेट में इन तीन बंदरों का इतिहास जानने का प्रयास किया गया तो वहां इन बंदरों के बारे में एक और नई जानकारी मिली - जिसमें तीन बंदरों के बारे में कुछ इस तरह बताया गया है - गांधी जी के पास देश- विदेश से लोग अक्सर सलाह लेने के लिए आया करते थे। एक दिन चीन का एक प्रतिनिधिमंडल उनसे मिलने आया। विदेशों से आए लोग गांधी जी को यादगार के लिए अपने देश की कोई न कोई यादगार वस्तु भेंट में देने के लिए लाया करते थे। बातचीत के बाद चीन के इन सदस्यों ने भी गांधी जी को एक भेंट देते हुए कहा कि यह एक बच्चे के खिलौने से बड़ा तो नहीं है लेकिन यह हमारे देश में बहुत ही प्रसिद्ध है।

गांधी जी ने जब इस भेंट को देखा तो उन्होंने पाया कि वह तीन बंदरों का एक सेट है। वे उसे पाकर बहुत खुश हुए, उन्होंने उसे अपने पास रख लिया और जिंदगी भर संभाल कर रखा। इस तरह ये तीन बंदर उनके नाम के साथ हमेशा के लिए जुड़ गए।

इसे पढऩे के बाद यह सोचने पर बाध्य होना पड़ता है कि आखिर ये तीन बंदर बापू के पास आए तो आए कहां से? अगर आपको भी है इसके बारे में कोई नई जानकारी तो आईए उसे सबको बताएं ।
(संकलित- उदंती.ष्शद्व)


गांधी जी के पास कैसे आए ये तीन बंदर


चीन के एक प्रतिनिधिमंडल से मिले तीन बंदरों के सेट को पाकर बापू बहुत खुश हुए, उन्होंने उसे अपने पास बहुत संभाल कर रख लिया।
इन तीन बंदरों के बारे में आपको भी हो कोई नई जानकारी तो हमें जरूर लिखें।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष