August 15, 2008

मन की गांठ/ आदत

कृपया क्षमा कीजिए
- लोकेन्द्रसिंह कोट
एक लोककथा के अनुसार दो व्यक्तियों में एक ऑंगन के पेड़ को लेकर झगड़ा हुआ। ऑंगन का पेड़ न हुआ प्रतिष्ठा का सूचक बन गया। कुछ समय बाद बेचारा पेड़ हाशिये पर था और मध्य में था सिर्फ, झगड़ा ! झगड़ा बढ़ता गया....और झगड़े का अन्त दोनों के अन्त के साथ हुआ। दोनों परिवारों में दुश्मनी की गांठे बंध गई। कहते हैं, उनका यह झगड़ा पीढ़ी-दर-पीढ़ी चता रहा और कलयुग में आकर सारे समाज में व्याप्त हो गया और आज के समाज की वास्तविकता हमारे समक्ष है। हम लोककथा की काल्पनिकता को झुठला नहीं सकतें। उतरोत्तर प्रगति के साथ हमने चांद-तारे तो छू लिये मगर सांमजस्य को अपने पास नहीं रख पाये। बिगड़ते सामंजस्य ने विवादों की एक नई श्रृंखा को जन्म दे दिया है। ज्यादा दूर नहीं, अपने आस-पास ही यदि हम एक संवेदनशील नजर दौड़ायें तो पाते हैं कि हर तीसरे की भौंहें तनी हुई हैं। कई विवाद तो धैर्य की कमी की वजह से ही सम्पन्न हो जाते हैं।
आम जन को थोड़ा अगल कर लें, तो भी हम देखते हैं कि श्रेष्ठ और उदात्त भावनाओं वाले लोग भी इन्हीं सब पचड़ों में पड़े मिलते हैं। श्रेष्ठ विचारों के लिहाज से हमारे दोनों कंधों पर लटके झोले ठसाठस भरे हुए हैं, लेंकिन हमारी जेबों में आधुनिक जमाने का 'इगो’ बैठा हुआ है। वक्त के अनुसार हमें जब जिसका प्रयोग करना होता है, तब कर बैठते हैं। आज एक आदमी किसी दूसरे आदमी से मिलने में थोड़ा सहमता है, सोचता है....ठीक उसी तरह जिस तरह जंग में एक जानवर, दूसरे से मिलने से पहले करता है। हमारे मध्य बियावान जंगल आ गया है और विवादों की प्रदूषणयुक्त हवा उसमें बह रही हैं। विवादों के तले समझ तो पहले ही दब जाती है, साथ ही जीवन का रस, महत्व भी झुंझाहठ में बदल जाता है।

बहुत कुछ पाने का नाम है क्षमा
कहते हैं, प्रत्येक समस्या का हल उसी समस्या के घर में किसी कोने में दुबका पडा रहता है। झगड़ों के साथ भी ऐसा ही कुछ है। उन्हीं की जड़ों में उनका हल विद्यमान है -'क्षमा’ किसी पेड़ की जड़े भी पेड़ को इसी आशा के साथ भोजन देती हैं कि वह 'पत्थर’ की प्रतिक्रिया 'फल’ के रूप में दे। क्षमा भी यही कहती है। आतंरिक और वास्तविक सुखद प्रेम का प्रतीक है, क्षमा! हमारे द्वारा निर्मित अविश्वास, फसाद, संवेदनहीनता और संवादहीनता के घटाटोप भरे अंधेरे बियावान जंग में आशा की किरण बिखेरता एक दिया है, क्षमा! सामंजस्य और जीवन का रस है क्षमा!
बहुत कुछ पा लेंने का नाम है, क्षमा! हमारे आसपास भी कई विवाद लिपटे हुये होते हैं, कुछ हमारी गलती से, कुछ सामने वाले की, जो लम्बे समय से हमे परेशान किये रहते हैं या फिर हो सकता है, ऐसी ठेस जो हृदय में धंसी हुई है, टीसती रहती है..... इस मामले में हम कोई अलग नहीं हैं, ऐसा आम होता है और इन सभी का सुखांत यही है कि क्षमा के मूल बिंदु को पहचान लिया जाए। एक विशिष्ट घटना इस तथ्य को और बल प्रदान करती है। दिसम्बर १९८३ में किसी धार्मिक कार्य के लिये पोप जॉन पाल द्वितीय रवाना हुये, तभी उन पर किसी ने गोली चलाई वे बच गये। गोली चलाने वले को जेल में डाल दिया गया। पोप एक दिन स्वयं उसी से मिलने काल कोठरी गए और उन्होंने अपराधी को क्षमा कर दिया, अपराधी नतमस्तक था, उसने अपना जीवन ही बदल लिया।
क्षमा करना आसान नहीं है
साधारण व्यक्ति के लिये क्षमा कर देना इतना आसान नहीं होता है। हमारी विवेक, बुद्घि और तन-मन में लगी आग हमेशा प्रेरित करती है कि ‘उसे अपने किये की सजा मिलनी चाहिए।' किसी के द्वारा अन्याय, धोखे, गलत व्यवहार की तीव्र प्रतिक्रिया यही होती है कि उसे दोगुनी सजा मिेले। वास्तव में यह सब विचार ऐसे बीज हैं जो कैंसर की भॉंति फैलते हैं। इन्हीं सब चक्कर में पडक़र हम अपनी खुशियों का गला तो घोटते ही हैं, साथ ही आपसी माहौल को भी घुटन-भरा बना लेंते हैं। इससे तो अच्छा है कि हम सामने वाले को क्षमा कर दें, नतमस्तक कर दें और खुद भी जीवन का मजा लें। कुल मिलाकर विवाद, नफरत के गणित में विवाद, नफरत को मन में पाले रखने वाला ही घाटे में रहता है।
अक्सर विवाद होने पर हममें नफरत, गुब्बारे में हवा की तरह भर जाती है और हमे स्वयं इसका पता नहीं होता है कि हम ‘उसे' नीचा दिखाने, हराने की कुसंरचनाओं को रचने में ही अधिकतम समय दे रहे होते हैं। इस मामले में हम स्वयं से ही छिपाते हैं, हम स्वीकार नहीं कर पाते है कि हम नफरत के जाल में फँस चुके हैं। वास्तव में उस स्थिति में हम स्वयं से लड़ भी रहे होते हैं। इस नफरत, विवाद का अंत संभव है, बशर्ते हम अपने आप से लडऩा बंद कर दें, दोषी से सीधे मिलें और कहें कि ‘तुमने मेरे साथ यह गलत व्यवहार किया है।' हो सकता है यह सब तत्काल प्रभाव न करे, परन्तु उसके विचारों के तंतुओं को हल्का सा स्पन्दन तो मिल ही जाएगा, उसे इस दिशा में सोचने पर मजबूर किया जा सकेगा। मुझे याद है कालेज के दिनों में कुख्यात लडक़े ने परीक्षा के नकल के केस में मेरे सहपाठी मित्र को धोखे से फँसवा दिया। प्रतिक्रिया स्वरूप उसमें नफरत उत्पन्न हुई और रात दिन उन्हीं बातों में उलझा रहने लगा। फिर एक दिन शाम को उसने उसी कुख्यात लडक़े से मुलाकात की और सीधे उससे पूछा कि उसने ऐसा क्यों किया। इस पर उसने तत्काल तो कुछ नहीं कहा, पंरतु दूसरे दिन उसने अपना सारा गुनाह स्वीकार कर लिया और मित्र से सभी के सामने माफी भी मांगी।
क्षमा कायरता नहीं है
कई ऐसे विवाद होते हैं, जिनमें क्षमा कर देना आसान नहीं होते हुए कायरता लगती है। लगता है कि हमने किसी डर की वजह से क्षमा कर दिया है। विश्व प्रसिद्घ नाटककार बनार्ड शा तो क्षमा को ‘भिखारी की बहानेबाजी' तक मानते हैं कुछ विद्यानों का कहना है कि क्षमा अपने आप में अन्याय है, क्योंकि न्यायत: अपराधी को दंड मिलना ही चाहिए। फिर भी इन सबसे इसलिये सहमत नहीं हुआ जा सकता है, क्योंकि हम भी गुनाह करते हैं, उसी तरह का नहीं, तो दूसरी तरह का और देव स्थलों पर जाकर इसी आशा में शीश नवाते हैं कि हमारे पापों को देवता हर लें और हमें वांछित फल प्रदान करें। जब हम एक तरफ अपने लिये क्षमा की आशा रखते है तो हम दूसरे को क्षमा क्यों नहीं कर सकते हैं? हम किस तरह से क्षमा किए बगैर क्षमा लेंने की बात कर सकते हैं?क्षमा कीजिए, अच्छा है !किसी अपराध का बदला लें लेंने से जीवन की तराजू का पड़ला बराबर नहीं हो जाता है। वास्तव में हम अपने आपको ही कम तोलते हैं और हमारी विचारधारा भी अपराधी के समानांतर हो जाती है। अपराध करने वाला व सहन करने वाले दोनों ही प्रतिहिंसा के अंतहीन चक्र में फँस जाते हैं। गांधी जी ने एक जगह ठीक लिखा है - अगर हम सभी ‘ऑंख के बदले ऑंख' वो सिद्घांत पर चलें तो सारी दुनिया ही अंधी हो जाएगी। किसी से नफरत हो और उस नफरत को दूसरे पल ही भुला दें, यह एक कठिन प्रक्रिया है, जिस तरह से कोई बुरी आदत को छोडऩे में कठिनाई महसूस होती है, उसी तरह नफरत भी उन्हीं में आती है। कई बार हमें भ्रम होता है कि हम किसी से नफरत नहीं करते हैं, परन्तु ठेस जितनी गहरी होती है उतना ही उसे मन से निकाने में समय लगता है। इसके बाद भी निरन्तर सकारात्मक एवं क्षमा के विषय में सोचते रहेंगे तो समय के चलते एक दिन हम उस ठेस को क्षमा में बदल सकते हैं। व्यवहारगत अनुभव भी यही कहता है कि इंसान के निरन्तर संपर्क में रहने पर जानवरों तक में समझ की दृष्टि आना प्रारम्भ हो जाती है। क्षमा हमारे मन पर पीड़ा की जकड़ को दूर करके सम्भावनाओं के द्वार खोल देती है। क्षमा वास्तव में दृढ़ता का प्रतीक है, न कि निर्बलता का। निर्बल व्यक्तित्व क्षमा जैसा कार्य कर ही नहीं सकता है और अपने प्रति की गई दुष्टता से निपटने के लिये धैर्य और साहस की जरूरत होती है, साथ ही प्रेम की, जो क्षमा की वास्तविक प्रेरक शक्ति है। क्षमा के साथ दो सशक्त घटक जुड़े होते हैं सम्मान और प्रतिबद्घता। श्रेष्ठ जीवन के लिये यही दो प्रमुख आधार स्तम्भ भी होते हैं, इसलिये कृपया सदैव क्षमा कीजिए।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष