March 23, 2012

जिला बदर के नये मौके

-विनोद साव

'अरे! कल रात मैं सोया तब तो तहसील था और सबेरे उठा तो जिला बन गया! ऐसा कैसे हो गया?' वे अचंभित हुए। मैंने कहा 'ये सरकार का जादू है जिसे जादू की सरकार ने पूरा किया। रात में रमता जोगी को छोड़कर सोओ तो सबेरे राजा रमन मिलते हैं।''अब क्या बलौदा बाजार को रेलगाड़ी मिल जावेगी।' मैं साहू जी की इस मांग से घबरा उठा 'रेलगाड़ी! रेलगाड़ी देना रइपुरहीन सरकार के हाथ में नहीं है साहूजी ये दिल्ली वालों का काम है।'
मैंने बलौदा बाजार के साहूजी को मोबाइल लगाया। उनकी पत्नी ने उठाया 'साहू जी तो सो रहे है।' मैंने कहा 'आप लोगों को हार्दिक बधाई .. आपका बलौदा बाजार जिला बन गया है।'
'चीला बन गया है! बलौदा बाजार का चीला कैसे बन गया!' ये सरकार भी ना... कुछ भी करती रहती है। उधर से आवाज आई।
मैंने कहा 'अरे बहन जी चीला नहीं जिला बन गया है। हां.. इस खुशी में आप लोग चीला बनाकर खा सकते हैं। चीला खाइए और बधाई देने वालों को खिलाइए। अपने मुख्यमंत्री जी कहते हैं 'मुझे फास्टफुड पसंद नहीं है मैं तो चीला खाता हूं।' अगर सरकार चाहे तो तीजा- पोरा को छत्तीसगढ़ का मुख्य त्यौहार घोषित कर महिलाओं को तीन दिन की छुट्टियां दिलवाए और इस खुशी में राज्य भर में बोबरा- चीला बंटवाए तब जाकर जिला बनाना सार्थक होगा।
'बने तो कहात हौ। राह.. साहूजी ला उठावथौं।' सहुवाइन छत्तीसगढ़ी बोलते हुए पुलक उठी। अब की बार मोबाइल पर साहू जी थे -'जय जोहार गा.. साहेब।' मैंने कहा 'जय जोहार ..साहूजी। अरे आपका शहर जिला बन गया और आप सोए हुए हैं। इस तरह से लोग जिला बनने के बाद भी सोते रहेंगे तो इन नये जिलों का क्या होगा? जनता को जागना चाहिए। सोना प्रशासन का काम है।'
'अरे! कल रात मैं सोया तब तो तहसील था और सबेरे उठा तो जिला बन गया! ऐसा कैसे हो गया?' वे अचंभित हुए। मैंने कहा 'ये सरकार का जादू है जिसे जादू की सरकार ने पूरा किया। रात में रमता जोगी को छोड़कर सोओ तो सबेरे राजा रमन मिलते हैं।'
'अब क्या बलौदा बाजार को रेलगाड़ी मिल जावेगी।' मैं साहू जी की इस मांग से घबरा उठा 'रेलगाड़ी! रेलगाड़ी देना रइपुरहीन सरकार के हाथ में नहीं है साहूजी ये दिल्ली वालों का काम है।'
'तो कब तक हम लोग भाठापारा में रेलगाड़ी चढ़ते रहेंगे और कब हमारे कानों में रेलगाड़ी आने की घण्टी सुनाई देगी? उधर भाठापारा वाले जिला बनाने की भी मांग कर रहे हैं जबकि उनके पास रेलगाड़ी तो है ही। एक चीज उनके पास है तो एक चीज हमारे पास रहने दो।
रेल पकडऩे के लिए सीढ़ी हम भाठापारा में चढ़ते हैं तब जिला कचहरी की सीढ़ी भाठापारा वाले हमारे बलौदा में चढ़ें। तभी हिसाब किताब बराबर होगा। अच्छा आप ये बताव कि जिला बने के बाद हमला अउ काय काय मिलही?'
'आपको जिला कचहरी, जिला अस्पताल, जिला शिक्षा, जिला प्रशासन और जिला पुलिस मिल जावेगी। अब आप रायपुर के चक्कर लगाने से बच जावेंगे।' मैंने मिलने वाले दफ्तरों और महकमों की लम्बी सूची उन्हें सुनाई।
'और कोई मंत्री मिलेगा। आज तक हमारे बलौदा बाजार में कोई मंत्री नहीं बना है। खाली संतरी से ही काम चला रहे हैं। इतना पुराना हमारा ये तहसील मुख्यालय है पर यहां से आज तक कोई विधायक मंत्री नहीं बना है। एक महिला यहां पूर्व प्रधानमंत्री की भतीजी निकल गई थी उसे भी सांसद बनाकर दिल्ली भेजा गया पर वह भी मंत्री नहीं बन सकी बल्कि उनके दिल्ली पहुंचते ही उनके चचा प्रधानमंत्री से भी हाथ धो बैठे। हमारे इलाके को सीमेन्ट गारा के सिवा मिला क्या है? बलौदा में बाजार है और सिविल लाइन। बजार में नून तेल खरीद लेते हैं और सुबह सिविल लाइन में फोकट की ठण्डी हवा खा लेते हैं.. बस्स।
'मंत्री नहीं मिले तो क्या हुआ साहूजीे अब तो आपके शहर को कलेक्टर साहब मिल जावेंगे। एक कलेक्टर कई- कई नेताओं पर भारी पड़ता है।'
मैंने उनको अमरकांत की कथा सुनाई जिसमें एक आदमी की तपस्या पर भगवान प्रगट होते हैं और कहते हैं 'हम तुम्हारी तपस्या से प्रसन्न हुए भक्त.. अब तुम वर मांगो।' तपस्वी कहता है' भगवान! मुझे कलेक्टर बना दो।' तब भगवान कहते हैं 'अरे कलेक्टर क्या चीज है तुम और कुछ अच्छा मांगो।'
तब तपस्वी कहता है 'भगवान आप नहीं जानते कि कलेक्टर कितना बड़ा होता है! आप कभी कलेक्टर बने होते तो जानते।'
'तब हमारे चण्डाल भांठा के दिन बहुरेंगे?' साहूजी ने फिर कुछ उटपुटांग सवाल दागा। मैंने कहा 'ये चण्डाल भांठा क्या भाठापारा का भाई है।' वे बोले 'आपने ठीक कहा ये पूरा इलाका चटर्री भांठा से भरा हुआ है, इसीलिए भाठापारा बना है। इस पूरे इलाके में किसी भी सड़क पर जाओ दूर- दूर तक भांठा ही भांठा दीखता है, गांव बस्ती कम दिखती है। निर्जन प्रदेश की तरह लगता है। भांठा का सन्नाटा यहां लोगों के चेहरों पर दिखलाई पड़ता है। ज्यादा मोटर गाड़ी इसीलिए नहीं चलती कि भांठा में कौन सवार चढ़ेगा। इसकी एक नहर योजना साठ साल पुरानी है लेकिन आज तक नहरें नहीं खुदीं। न नहर न कोई बांध। पानी और हरियाली का संकट है। अब आप कह रहे हो यहां जिला पुलिस मिल जावेगी तब गड़बड़ घोटाला करने वाले कुछ लोगों को यहां से जिला बदर होने का मौका मिलेगा बस्स।'
मैंने कहा 'साहूजी .. अरे भई जिला बनने की कुछ तो खुशी मनाइये।' उन्होंने सहुवाइन को आवाज लगाई 'कहां हस वो बाई...चल तो दू रुपया किलो वाले चाऊंर के चीला बना।' अब वे दोनों चावल का चीला और मिरचा पताल की चटनी खाते हुए नये जिला बनने की खुशी मना रहे थे।

संपर्क- मुक्तनगर, दुर्ग छत्तीसगढ़, 491001, मो. 9407984014 Email- vinod.sao1955@gmail.com

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष