April 10, 2011

जन- जन में पैठ जमा चुकी मिलावट

- दीपक मशाल

कैसे चंद पैसे कमाने के लालच में हमारे बीच ही उठने- बैठने वाले लोग हमारी ही जान खतरे में डालने को तैयार हो जाते हैं। कैसे ये लोग भूल जाते हैं कि अगर वो बबूल बो रहे हैं तो उन्हें भी आम हाथ नहीं आने वाला।
नवरात्र का शुभ त्यौहार शुरु होने के साथ- साथ अत्यंत अशुभ समाचार भी आया कि दिल्ली, हरियाणा और पश्चिम उत्तरप्रदेश में सैकड़ों लोग (बहुत बड़ी संख्या में स्त्रियां) कूट्टू खाकर अस्पतालों में भर्ती हैं। इसी प्रकार से होली के पूर्व भारत के कई हिस्सों में खाद्य निरीक्षकों द्वारा डाले गए छापों के दौरान जिस तरह से काफी बड़ी तादाद में नकली या मिलावटी खोवा, घी, क्रीम, दूध, मिठाई और किराना सामग्री इत्यादि के बरामद होने के मामले प्रकाश में आये, उससे मन में यह विश्वास बैठ गया है कि भ्रष्टाचार, मिलावट, मुनाफाखोरी अब सतही बुराईयां नहीं रहीं, बल्कि यह जन- जन में संस्कार के रूप में अपनी पैठ जमा चुकी हैं। अब शायद ही ऐसा कोई व्यक्ति भारत में शेष हो जो इन क्रियाकलापों से अछूता रहा हो, चाहे वह इस अपराध के अपराधी के रूप में रहा हो या फिर भुक्तभोगी के रूप में। यूँ तो यह सब सिर्फ आज की बात नहीं है ये लालच की (संतान) बुराईयां सालों पहले हमारे यहाँ पैदा हो चुकी थीं और कितनी ही बार ऐसी खबरें हमारी आँखों के सामने से गुजर गईं लेकिन जिस तरह से बीते होली और दीवाली पर मिलावट की घटनाएं देखने को मिलीं उससे लगता है कि देश को तबाह करने के लिए एक अप्राकृतिक और अदृश्य सुनामी भारत और विशेष रूप से उत्तर और मध्य भारत में भी आया हुआ है।
समझ नहीं आता कि कैसे चंद पैसे कमाने के लालच में हमारे बीच ही उठने- बैठने वाले लोग हमारी ही जान खतरे में डालने को तैयार हो जाते हैं। कैसे ये लोग भूल जाते हैं कि अगर वो बबूल बो रहे हैं तो उन्हें भी आम हाथ नहीं आने वाला। कल को हर व्यक्ति मिलावट से ही मुनाफे के चक्कर में उलझकर एक दूसरे के स्वास्थ्य को नुकसान पहुँचाता मिलेगा। एक व्यक्ति जो जल्दी अमीर बनने के लिए खोवा नकली बनाकर बेचेगा वह फिर उन्ही पैसों से खुद के लिए भी नकली दाल, सब्जियां, मसाले, तेल इत्यादि खरीदेगा। हम सभी तो एक दूसरे को कहने में लगे हैं की 'तू डाल-डाल, मैं पात-पात'।
जिसके जो हाथ में आ रहा है वह उसी को मिलावटी बना देता है। पेट्रोल पम्प हाथ आ गया तो पेट्रोल, डीजल में केरोसिन मिला दिया, किराने की दुकान है तो दाल- चावल, मसाले, घी में अशुद्धिकरण, दूधवाले हैं तो यूरिया मिलाकर दूध ही नकली बना दिया, अगर थोड़े ईमानदार हैं तो पानी मिला कर ही काम चला लिया। बाजारों में उपलब्ध सब्जियों, फलों को कृत्रिम तरीके से आकर्षक एवं बड़े आकार का बनाया जा रहा है। फलों को कैल्शियम कार्बाइड का छिड़काव कर पकाने की बातें तो हम सालों से सुनते आ रहे हैं, ये कार्बाइड मस्तिष्क से सम्बंधित कई छोटी- बड़ी बीमारियों का स्रोत हैं। सब्जियों को बड़ा आकार देने के लिए उनके पौधों की जड़ों में ऑक्सीटोसिन के इंजेक्शन लगाये जा रहे हैं, ये वही ऑक्सीटोसिन है जो कि प्राकृतिक रूप से मादा के शरीर में बनता है और प्रसव के दौरान शिशु को बाहर लाने में एवं उसके बाद दुग्ध उत्पन्न करने में सहायक होता है। गाय- भैंसों को यही इंजेक्शन देकर 'ज्यादा दूध निकाला जा रहा है, जबकि इस हारमोन का इस तरह मानव शरीर में पहुँचने से होने वाले गंभीर दुष्प्रभावों पर रिसर्च चल रही है। मटर को हरा रंग देने के लिए कॉपर सल्फेट का प्रयोग होता है जो हमारे शरीर के लिए काफी नुकसानदेह है। एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत के बाजार में उपलब्ध खाद्य पदार्थों में 90 प्रतिशत खाद्य पदार्थ मिलावटी होते हैं। यानी हम हर रोज कितना धीमा जहर ले रहे हैं हमें पता भी नहीं है। अब हम इन्हें खाते हैं तो अपनी मौत को दावत देते हैं और नहीं खाते तो जिंदा कैसे रहें?
वैसे ये सब खेल सिर्फ भारत में ही नहीं अन्य कई विकसित देशों में भी चल रहा है, लेकिन वहां के शुद्धता मानक अलग हैं और वहाँ की सक्रिय मीडिया समय- समय पर सरकार और लोगों को इस सब के खिलाफ चेताती रहती है इसलिए स्थिति काफी हद तक नियंत्रण में रहती है।
ये मिलावटी पदार्थ भले ही तुरंत दुष्प्रभाव ना दिखाए लेकिन इनके दूरगामी परिणाम तब समझ आते हैं जब किसी व्यक्ति को या उसके परिवारजन को किसी न किसी जानलेवा बीमारी के रूप में इसके दुष्परिणाम भुगतने पड़ते हैं। उस समय हम सिर्फ यही कहते रह जाते हैं कि 'हे ईश्वर! हमने किसी का क्या बिगाड़ा था जो यह दिन देखने को मिला...'
उस समय वह यह भूल जाता है कि प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से कहीं ना कहीं उसने स्वयं यह जहर अपने आस- पास फैलाया है। मोटे तौर पर कहें तो वह दस रुपये कमाने के लिए अपने ही लोगों का नुकसान कर रहा है।
पिछले साल ऐसे अप्राकृतिक तरीके से आकर्षक और बड़े आकार की बनाई गई सब्जियां- फल बाजार में लाने वालों के खिलाफ कानपुर में एक समूह ने आवाज उठाई जरूर थी, लेकिन उसके बाद क्या हुआ पता नहीं चला। सरकारी अमला ऊपर से आदेश आने से पहले इस तरफ ध्यान देता नहीं और ऊपर से आदेश आने से रहा। क्योंकि देश को चलाने वाले ही इन माफियाओं के साथ लंच- डिनर करते देखे जाते हैं।
आखिर कब तक सिर्फ पैसों की खनक के लिए हम अपने ही लोगों के प्राणों से खिलवाड़ करते रहेंगे।
हम सभी विश्व को खूबसूरत बनाने और जीवनशैली को बेहतर बनाने की दिशा में एक इकाई कार्यकर्ता की तरह कार्य करें तो समाज, देश, दुनिया बदलने में ज्यादा देर नहीं लगेगी। इस सोच को दिल से निकालना होगा कि 'एक अकेले हम नहीं करेंगे तो क्या फर्क पड़ जाएगा?' हम सभी इसी सोच के तहत दूध की बजाय सुरम्य तालाब को पानी से भर रहे हैं, सभी यही सोच रहे हैं कि सारा गाँव तो दूध डाल रहा है एक मैं पानी डाल दूंगा तो किसे पता चलेगा। इस तरह सभी एक दूसरे को धोखा देते रहे तो हम और न जाने कितने सालों तक सिर्फ विकासशील ही बने रहेंगे।
दूसरी तरफ खाद्य और आपूर्ति विभाग को भी कड़े कानून बनाने, उनको पालन कराने और लोगों में जागरूकता फैलाने की सख्त आवश्यकता है। वर्ना पहले से ही हमारे देश में प्रति दस हजार व्यक्ति पर सिर्फ एक डॉक्टर है...।
लेखक के बारे में
24 सितम्बर 1980 को उत्तर प्रदेश के उरई (जालौन) जिले में जन्म। प्रारंभिक शिक्षा जनपद के कोंच नामक स्थान पर। जैव- प्रौद्योगिकी में परास्नातक तक शिक्षा। वर्तमान में उत्तरी आयरलैंड (यूके) के क्वींंस विश्वविद्यालय से कैंसर पर शोध। साहित्य रचना के साथ चित्रकारी, अभिनय, समीक्षा, निर्देशन, मॉडलिंग तथा संगीत में भी गहरी रूचि। अब तक विविध विधाओं की रचनाओं का राष्ट्रीय, अंतर्राष्ट्रीय पत्र- पत्रिकाओं में प्रकाशन। यूके हिन्दी समिति द्वारा प्रकाशित पुस्तक 'ब्रिटेन की प्रतिनिधि कहानियाँ' में 'उज्जवला अब खुश थी' कहानी को स्थान। 'मसि-कागद' नाम से हिन्दी ब्लॉग। Email- mashal।com@gmail.com

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष