February 28, 2011

आने दो वसंत

- राजीव कुमार
आज
क्यों हर तरफ सूखा है,
भीतर-बाहर
सब कुछ रुखा-रुखा है
बादल भी हो रहे हैं सफेद
इन्सान की कौन कहे
पेड़ों ने भी नहीं ओढ़ी है,
हरे पत्तों की चटक शाल
उतरा हुआ है
खेतों का भी रंग,

इस बार
आने दो वसंत
छाने दो हरियाली
चारो ओर,
भर जाने दो
नदियों में पानी,
कल-कल, कल-कल
बहने दो झरनों को
झर-झर, झर-झर
झरने दो।

खिल जाने दो खेतों में
सरसों के पीले-पीले फूल,
चुन लेने दो तितलियों को
मनचाहे फूल,
भवरों को झूम लेने दो
पीकर मकरंद।

बिछ जाने दो
हरियाली की चादर
चारो ओर
बह लेने दो
एक बार फिर
मंद- मंद
सिहरन भरा समीर।
घुल जाने
दो हवाओं में भंग,
छा जाने दो
चतुर्दिक उमंग।

शेमल के फूलों से
चुरा कर लाल रंग
बना लो गुलाल,
खेलो होली
एक- दूजे के संग।

रंग दो
मन का कोना- कोना,
अंग- अंग,
दो रिश्तों को
नया जीवन,
वसंत को आने का अवसर
बार- बार, बार- बार।
पता: वरिष्ठ अनुवादक,
रसायन और उर्वरक मंत्रालय,
रसायन और पेट्रो- रसायन विभाग
भारत सरकार, नई दिल्ली
http://ghonsla.blogspot.com
***********
कोयल की मधुर कूक
- कैलाशचंद्र शर्मा
सरसों के खिले फूल,
ओढ़े पीला दुकूल,
हरियाली नाच रही, आया वसंत है
प्रियतम हैं आन मिले,
मन के सब द्वार खुले,
तन- मन में नाच रहा जैसे अनंग है।
हिरणी सा मन चंचल,
गिरता सिर से आंचल,
बार बार तके द्वार, आया न कन्त है।
पढ़ती बार- बार पाती,
क्यों न उन्हें याद आती,
क्यों मेरी राहें ही, सूनी अनंत है
सरसों का पीलापन,
चहरे पर आया छन,
हो गये कपोल पीत, कैसा वसंत है।
कोयल की मधुर कूक,
उर में बढ़ जाती हूक,
पतझड़ है चहुं ओर,
कहाँ पर वसंत है ?

पता: HU- 44, Vishakha Enclave,
itampura (Uttari), Delhi- 110088

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष