November 23, 2008

एक सूट की कीमत 30 लाख रुपए और 24 करोड़ की..... !

आर्थिक सुनामी की मार से ध्वस्त भारतीय अर्थ व्यवस्था के बावजूद भारतीय कपड़ा निर्माता कंपनी दिग्जाम ने एक स्काटिश कंपनी के सहयोग से भारतीय बाजार में एक सूट का ऊनी कपड़ा प्रस्तुत किया है। 14 लाख रुपए प्रति मीटर वाले इस कपड़े की एक सूट लेन्थ की कीमत है सिर्फ 30 लाख रूपए ! इस ऊनी कपड़े की खास बात है कि यह कपड़ा आल्प्स पर्वत श्रृंखला में पाई जाने वाली एक दुर्लभ भेंड़ विकूना के ऊन से बना है।
लेकिन यह तो कुछ भी नहीं है योरोप के मशहूर फै शन हाउस विक्योरियाज सीक्रेट ने विश्व की सबसे महंगी एक ऐसी ब्रा (चोली) बनाई है जिसमेंं लगभग चार हजार हीरे जड़े हुए हैं। क्या आप अंदाजा लगा सकते हैं कि कितनी कीमत होगी इस हीरो से जडि़त चोली की। अंदाजा नहीं लगा पाए ना? तो दिल थाम लीजिए इस चोली की कीमत पचास लाख डालर (24 करोड़ रुपए) रखी गई है !
अब भला इस करोड़ों की चोली के सामने 14 लाख रुपए प्रति मीटर वाले उस सूट के कपड़े की क्या बिसात। पहले तो हम यही सोच रहे थे कि 14 लाख रूपए मीटर का सूट पहनने वाले की शान कितनी निराली होगी । लेकिन अब उस 24 करोड़ के हीरों से जगमगाती चोली पहनने वाली की शान कितनी निराली होगी, यह तो कल्पना से परे है।


ईश्वर के

विरुद्ध दायर

मुकदमा खारिज
अमरीका के एक राज्य नेब्रास्का से खबर है कि है कि वहां के एक जज ने एक विधायक द्वारा ईश्वर के विरूद्ध दायर मुकदमा इसलिए खारिज कर दिया क्योंकि वादी ने अपनी याचिका में ईश्वर के स्थायी निवास का पता नहीं दिया था, अत: ईश्वर को अदालत का सम्मन भेजा जाना संभव नहीं था। विधायक अर्नी चैम्बर्स ने अपनी याचिका में ईश्वर पर अपने तथा अपने वोटरों पर आतंकवादी धमकियां (पाप के परिणाम) देने का आरोप लगाते हुए कहा था कि इसके कारण विश्व के अनगिनत निवासियों के मन में मृत्यु, विनाश एवं आतंक व्याप्त है।
लीजिए हम सोचते थे कि इस तरह की अंधविश्वास से भरी बातें भारतीय ही करते हैं पर अमरीका जैसे विकसित देश में भी ऐसे लोग हैं, वह भी वहां का एक जनप्रतिनिधि ऐसी बाते कर रहा है। कहते हैं न जब खुद पर से विश्वास उठ जाता है तब व्यक्ति ईश्वर पर भी शक करने लगता है।

Labels:

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home