August 18, 2018

मीडिया

टैग टीवी में हाइकु पर परिचर्चा
कनाडा(टोरंटो) के टैग टी वी (TAG  T.V.) पर हाल ही में एक नया कार्यक्रम 'साहित्य के रंग शैलजा के संग आरंभ हुआ है, जो विभिन्न भाषाओं के साहित्य की विभिन्न विधाओं पर केन्द्रित होगी। शृंखला की पहली कड़ी में हाइकु के उद्भव और विकास पर भारत के श्री रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु  से लम्बी बातचीत हुई। चर्चा में श्रीमती कृष्णा वर्मा और श्रीमती भुवनेश्वरी पांडे ने भी भाग लिया। डॉ. शैलजा सक्सेना द्वारा आयोजित इस परिचर्चा के यू ट्यूब का लिंक https://youtu.be/1QA0I2KCG0Y यहाँ दिया जा रहा है। कार्यक्रम में पढ़े गए कुछ हाइकु भी आपके अवलोकन के लिए यहाँ दे रहे हैं -
1- डॉ. भगवत शरण अग्रवाल
1. तुम्हारे बिना /दीवारें हैं, छत है/घर कहाँ है ?
2. वर्षा की रात /बतियाते मेंढक /चाय पकौड़ी।
2- डॉ. सुधा गुप्ता
1. लुक-छिपके/चारदीवारी फाँद/आ कूदा चाँद।
2. लाल गुलाल/पूरी देह पे लगा/हँसे पलाश।
3. नाज़ुक कली/आग की लपटों में/धोखे से जली।
3- डॉ. भावना कुँअर
1- लेटी थी धूप/सागर तट पर/प्यास बुझाने।
2- परदेस में/जब होली मनाई/तू याद आई।
4 – डॉ. हरदीप कौर संधु
1. पत्र जो मिला/लगा  बहुत पास/दूर का गाँव
2. भूल न पाया/जब-जब साँस ली/तू याद आया।
5- कमला निखुर्पा
1. आई हिचकी/अभी-अभी भाई ने/ज्यों चोटी खींची।
6- रचना श्रीवास्तव
1.बेटे का कोट/रोज़ धूप दिखाती/प्रतीक्षा में माँ।
2.आँसू से लिखी/वो चिट्ठी जब खोली/भीगी हथेली।
7- डॉ. जेन्नी शबनम
1. प्रेम बंधन/न रस्सी न साँकल/पर अटूट।
2-प्रीत रुलाए/मन को भरमाए/पर टूटे न।
8- डॉ. ज्योत्स्ना शर्मा
1. रजनी बाला/कहाँ खोया है बाला/हँसिया वाला।
2. पत्ता जो गिरा /मुस्कुराकर कहे/फिर आऊँगा।
 9- डॉ कुँवर दिनेश सिंह
1. मेघों का नाद/हृदय को बींधती /प्रिय की याद।
2. मन अधीर/दर-दर भटके /मौन समीर।
10- डॉ. कविता भट्ट
1. जब भी रोया/विकल मन मेरा/तुमको पाया।
2. तुम प्रणव/मैं श्वासों की लय हूँ/तुम्हें ही जपूँ।
3. पाहन हूँ मैं/तुम हीरा कहते/प्रेम तुम्हारा।
11- भावना सक्सेना
1. झील-दर्पन/देख रही घटाएँ/केश फैलाएँ।
12- अनिता ललित
1. माँ सिसकती/आँगन हुड़कता/हो बेटी विदा।
2. माँ तेरे आँसू/तूफानों में हैं सोते/ख़ुशी में 'सोते'
13- ज्योत्स्ना प्रदीप
1. सहेजे मैने /तेरे दिये वह काँटे /कभी ना बाँटे।
2. जीवन बीता/वह कभी बनी राधा/तो कभी सीता।
14- प्रियंका गुप्ता
1. प्रेम की नदी/सामने ही थी बही/प्यासी ही रही।
2. प्रेम की नदी/पार किया तो जाना/आग से भरी।
15- शशि पाधा
1. अक्षर झरे/कल्पना -सरसि से/गागर भरे|
16- सुदर्शन रत्नाकर
 1. सर्दी की रात/लोग सोएँ भीतर/चाँद अकेला।
 2. ज़रा सुनो तो/कराहते पर्वत/कटे हैं वन।
17- शैलजा सक्सेना
1- दिन कमान/धूप जलता तीर/ज़ख्मी शरीर!
2- सज्जित घर/खनकते न स्वर/बच्चे लापता!
18- कृष्णा वर्मा
नदी जल में/नहा के हवाएँ दें/सूर्य को अर्घ्य।

3 Comments:

Dr.Bhawna said...

Itni vistrit jankari haiku par you tube par dekha yanha haiku padhkar bhi bahut achchha laga kamboj ji ko meri bahut bahut badhai.

प्रियंका गुप्ता said...

बहुत ही सहज और बढ़िया साक्षात्कार हुआ है। सबको बधाई...और आपका आभार इस लिंक को शेयर करने के लिए...।

डॉ. जेन्नी शबनम said...

पूरा इंटरव्यू सुनी। बहुत अच्छा लगा देश से बाहर भी हिन्दी और विशेषकर हाइकु, ताँका, चोका इत्यादि पर इतना काम हो रहा है। काम्बोज भाई ने शुरू से ही एक गुरू की तरह हाथ पकड़ कर लिखना सिखाया और आज यहाँ मेरे हाइकु की भी चर्चा की। बहुत धन्यवाद। आभार सहित शुभकामनाएँ।

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष