February 23, 2018

उदंती.com फ़रवरी 2018


 उदंती.com फ़रवरी 2018
श कूप समो वापीदश वापी समो हृद:। दश हृद सम: पुत्र:,  दश पुत्र: समो द्रुम:॥  (पाराशर ऋषि) -(दस कुओं के बराबर एक बावड़ीदस बावड़ी के बराबर एक तालाबदस तालाब के बराबर एक पुत्र और दस पुत्रों के बराबर है एक वृक्ष)

Labels:

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home