February 23, 2018

प्रदूषण

शुद्ध हवा के साथ घर भी सुन्दर
दिल्ली में प्रदूषण का स्तर दिनों-दिन बढ़ता जा रहा है। सबसे ज्यादा खतरनाक तो ये है कि बाहर ही नहीं, घर के अन्दर भी हवा ज़हरीली होती जा रही है। हवा में मौजूद कण साँसों में घुलकर लोगों को बीमार बना रहे हैं। प्रदूषण से कोई भी अछूता नहीं है और हर आम--खास इससे डरा हुआ भी है। इसी डर ने लोगों को पौधों से प्यार करना सिखा दिया है। जिन लोगों के घर में कभी एक गमला नहीं होता था, उनकी बालकनी और छत पर मिनी गार्डन सज रहे हैं। घर के भीतर की हवा को शुद्ध रखने के लिये लोग कमरों में गमले रख रहे हैं और बोनसाई पौधे लगा रहे हैं। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन की रिपोर्ट के अनुसार, हर साल विश्व भर में करीब 4.3 मिलियन लोग इंडोर पॉल्यूशन से मर जाते हैं। मतलब साफ है कि इंडोर हो या आउटडोर, पॉल्यूशन जानलेवा ही है।
घर के भीतर की हवा अशुद्ध हो रही है ,तो एयर प्यूरीफायर का नया चलन देखने को मिल रहा है।यह इन्तजाम जेब पर तो भारी पड़ता ही है, बिजली की खपत भी बढ़ जाती है। ऐसे में पौधों को लगाकर घर की हवा को शुद्ध बनाए रखने का चलन तेजी से बढ़ रहा है। इससे स्वस्थ साँसें तो मिलती ही हैं, घर भी सुन्दर दिखाई देता है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि इंडोर एयर की कॉम्पोजिशन बाहर की प्रदूषित हवा से अलग होती है। जहाँ बाहर की हवा में प्रदूषण को पार्टिकुलेट मैटर, कार्बन मोनोऑक्साइड, ओजोन और सल्फर डाइऑक्साइड के स्तर को माप कर पता किया जा सकता है, वहीं घर में इसका पता वोलाटाइल ऑर्गेनिक कम्पाउंड्स, बायो एयरोसोल्स और नाइट्रस ऑक्साइड से चलता है।
इंडोर पॉल्यूशन पर काबू पाया जा सकता है

वल्लभभाई पटेल चेस्ट इंस्टीट्यूट ऑफ पल्मोनोलॉजीविभाग के हेड डॉ.राज कुमार का कहना है कि जो पॉल्यूटेंट बाहर होते हैं, वही हमारे घर के अन्दर भी होते हैं लेकिन फर्क सिर्फ इतना है कि उनकी डेंसिटी इंडोर में कम रहती है;लेकिन सबसे अच्छी बात ये है कि इंडोर पॉल्यूशन पर काबू पाया जा सकता है। जहाँ आउटडोर पॉल्यूशन के लिए सरकार और दूसरी एजेंसियाँ ही समाधान ढूँढ़ सकती हैं। इंडोर पॉल्यूशन को काबू करना खुद के हाथ में है। इसके लिये आप एलोवेरा और क्रिजैंथेमस जैसे पौधे लगा सकते हैं। ये जहरीले पदार्थों को फिल्टर करते हैं और ऑक्सीजन के स्तर को बढ़ाते हैं।
प्रदूषण से बचना है तो इन पौधों को लाएँ घर
ऐसे कई इंडोर प्लांट हैं, जिनसे घर की हवा को शुद्ध किया जा सकता है। दिल्ली के लोग एयर प्यूरीफायर को छोड़कर घरों में ये प्लांट लगा रहे हैं। ये पौधे जहरीली हवा से होने वाले नुकसान से लोगों को बचा रहे हैं।
एलोवेरा: इस पौधे को घर में रखने से यह कार्बन डाइऑक्साइड, फॉर्मेल्डिहाइड और कार्बन मोनोऑक्साइड को अवशोषित कर लेता है। यह 9 एयर प्यूरीफायर के बराबर काम करता है।
फिकस एलास्टिका: इस पौधे को ज्यादा रोशनी की जरूरत नहीं होती; इसलिए आप इसे आसानी से रख सकते हैं। यह भी हवा से फॉर्मेल्डिहाइड को खत्म करता है। हालाँकि अगर आपके घर में बच्चे और पालतू जानवर हैं, तो इसे न ही लगाएँ क्योंकि, इसके पत्ते जहरीले होते हैं।
 इंग्लिश ईवी: इस पौधे के बारे में कहा जाता है कि 6 घण्टे के भीतर ये 58 प्रतिशत तक हवा को शुद्ध कर सकता है।
स्पाइडर प्लांट: यह पौधा कम रोशनी में फोटोसिंथेसिस की प्रक्रिया को पूरा करने के लिए जाना जाता है। यह फॉर्मेल्डिहाइड, कार्बन मोनोऑक्साइड, गैसोलिन और स्टाइरिन को हवा से अवशोषित करता है। एक पौधा 200 स्क्वायर मीटर तक के स्पेस में हवा को शुद्ध कर सकता है।
स्नेक प्लांट: स्पाइडर प्लांट की तरह ही, स्नेक प्लांट भी काफी टिकाऊ होता है। यह भी कम रोशनी में फोटोसिंथेसिस की प्रक्रिया को पूरा कर लेता है। आप इसे बेडरूम में लगा सकते हैं क्योंकि, यह रात में ऑक्सीजन पैदा करता है।
पीस लिली: यह पौधा भी फॉर्मेल्डिहाइड और ट्राइक्लोरोइथलीन को हवा से खत्म करने का काम करता है। नासा की एक रिपोर्ट की मानें तो 500 स्क्वायर मीटर में इसके 15-18 पौधे रखने से हवा पूरी तरह से शुद्ध हो जाती है। आप इसे बेडरूम में भी लगा सकते हैं।
बोस्टन फर्न: ये पौधा इंडोर एयर पॉल्यूटेंट्स को दूर करने में काफी कारगर है। यह हवा से बेंजीन, फॉर्मेल्डिहाइड और जाइलिन को खत्म कर हवा को शुद्ध बनाता है। इसे हेंगिंग बास्केट्स में भी उगाया जा सकता है।
एरेका पाम: इसे बैम्बू पाम, गोल्डन केन पाम और यलो पाम भी कहते हैं। नासा की रिपोर्ट के मुताबिक, ये पौधा हवा से जाइलिन और टालुइन को खत्म करता है। यह एक प्रभावी ह्यूमिडिफायर भी है, जो वातावरण में नमी को बनाए रखता है।
महिलाओं और बच्चों को सबसे ज्यादा खतरा
डॉक्टरों का कहना है कि अगर घर में वेंटीलेशन अच्छा नहीं, कोई स्मोक करता है तो इन बातों से हवा में कणों का स्तर बढ़ जाता है। इससे सबसे ज्यादा खतरा महिलाओं और बच्चों को रहता है;क्योंकि, ये घर के अन्दर ज्यादा समय बिताते हैं। अगर हम इंडोर एलर्जेन्स और पॉल्यूटेंट्स को कम करते हैं तो जिन बच्चों को अस्थमा है, उन्हें काफी राहत मिलती है। इससे उनकी दवाई की जरूरत को भी कम किया जा सकता है। एक्सपर्ट्स की मानें तो बिल्डिंगों में इस्तेमाल किए जाने वाले केमिकल कम्पाउंड जैसे पेंट आदि का स्वास्थ्य पर खराब असर पड़ता है। बायोलॉजिकल एजेंट्स से होने वाला इंडोर एयर पॉल्यूशन साँस की बीमारियों के खतरे को बढ़ाता है। शोधकर्ताओं ने पाया है कि घरों में लोग अगरबत्ती का इस्तेमाल करते हैं और इससे निकलने वाला धुआँ पार्टिकुलेट मैटर (पीएम) को 15 गुणा तक बढ़ा देता है। अगरबत्ती से निकलने वाले धुएँ से पीएम 1.0, पीएम 2.5 और पीएम 10 जैसे हानिकारक पॉल्यूटेंट निकलते हैं।
50 गज की छत पर गार्डन
जनकपुरी के दिल्ली हाट के निवासी राकेश शर्मा ने अपनी 50 गज की छत पर पूरा गार्डन बनाया हुआ है। उन्होंने करीब 20 औषधीय पौधे लगाए हैं। टोकरियों में पौधे और चिड़ियों के घोंसले उन्होंने सजा रखे हैं।
उन्होंने बताया कि उनका खुद का अनुभव है कि सुबह के समय पौधों को निहारने से आँखों की रोशनी बढ़ती है। शर्मा ने बताया कि उन्होंने अपने घर में श्यामा तुलसी, गिलोय, घृतकुमारी, धनिया, पुदीना, पत्थर चट, बेलपत्र, लेमन ग्रास, करी पत्ता, अदरक, हल्दी, कपूर, तुलसी, ब्राह्मी, अश्वगंधा आदि औषधीय पौधे लगाए हैं। (इंडिया वॉटर पोर्टल से साभार- स्रोत-नवोदय टाइम)

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष