February 23, 2018

सेहत

स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है
 झपकी
- डॉ. डी. बालसुब्रमण्यन
साठ साल पहले एला फिट्ज़गैराल्ड गाया करती थी: परिंदे करते हैं, मधुमक्खियाँ करती हैं। हालांकि उनका आशय प्यार करने से था, मगर हम इस पंक्ति में प्यार की जगह नींद भी रख सकते हैं। नींद सभी प्राणियों के दैनिक जीवन का एक ज़रूरी पहलू है। यह न केवल आराम और आरोग्यता देती है बल्कि स्वयं मस्तिष्क को व्यवस्थित करने में भी मदद करती है।
और तो और, मछलियाँ भी सोती हैं, हालांकि खुली आंखों के साथ। डॉल्फिन जैसी बड़ी मछलियाँ भी रोज़ाना 10 घंटे से ज़्यादा सोती हैं। नींद की भूमिका की समझ जंतुओं, खासकर स्तनधारियों और अंतत: हम मनुष्यों के विकास के सुराग प्रदान करती है। कुत्ते एक दिन में 12-14 घंटे सोते हैं लेकिन इस दौरान बहुत चौकन्ने रहते हैं। इसे देखकर ही भारतीय मुनियों ने छात्रों के लिए कुत्तों जैसी नींद (श्वान-निद्रा) की सलाह दी है। जैव विकास की सीढ़ी में उससे ऊपर चलें तो बोनट बंदर 12 घंटे या उससे भी ज़्यादा की नींद लेता है। चिंम्पैज़ी (मानव के निकटतम जीव) भी 10 घंटे की नींद लेते हैं जबकि हम मनुष्य दिन में 8 घंटे ही सोते हैं।
दिलचस्प बात है कि बोनट बंदर तो कहीं भी सो जाता है जबकि चिम्पैंज़ी सोने के लिए पेड़ पर बिस्तर (पत्तियों और शाखाओं को इकट्ठा करके) बिछाता है और 10 या ज़्यादा घंटे या उससे ज़्यादा आराम फरमाता है। ओरांगुटान बंदर भी इसी तरह से अपना बिस्तर बिछाता है लेकिन वह रोज़ाना नया बिस्तर बिछाता है और अपने आपको पत्तियों, टहनियों से ढक लेता है ताकि शिकारियों और रक्त चूसने वाले कीटों से सुरक्षा हो सके। ड्यूक युनिवर्सिटी के डॉ. डेविड आर. सैमसन ने सावधानीपूर्वक इन विकसित वानरों के नींद के घंटे और पैटर्न देखे और उनकी तुलना अफ्रीका के शिकारी-संग्रहकर्ता मनुष्यों और यूएस के आधुनिक मनुष्यों से की।
उन्होंने जंतुओं, वनमानुषों और मनुष्यों की नींद (कितनी लंबी और कितनी गहरी) और संज्ञान क्षमता के बीच सम्बन्ध बताया। यह तथ्य कि ओरांगुटान और चिम्पैंज़ी बिस्तर बिछाते हैं और अपने आपको सुरक्षित रूप से ढक लेते हैं ताकि लंबी और गहरी नींद सो सकें, उनकी सोचने, नवाचार करने और स्वयं की रक्षा करने की क्षमता की ओर इशारा करता है। जब सैमसन ने उनके सोने के पैटर्न को देखा तो पाया कि वे नींद के दौरान रेपिड आई मूवमेंट (आरईएम) वाली निद्रा सिर्फ 18 प्रतिशत समय ही सोते हैं। आरईएम निद्रा इंगित करती है कि इस दौरान सपने देखने, यादों को संग्रहित करने और पुनरावृत्ति करने से मस्तिष्क और शरीर को ऊर्जा मिलती है और याददाश्त, सीखना और दूसरे संज्ञानात्मक कार्य होते हैं। और बाकी 10 घंटों की 82 प्रतिशत गहरी और आरामदायक नींद होती है। इसकी तुलना में बोनट बंदर में आरईएम नींद केवल 12 प्रतिशत होती है और बाकी 88 प्रतिशत गैर-आरईएम नींद होती है।
सभी प्रजातियों में आरईएम नींद का प्रतिशत मौटे तौर पर संज्ञान, मस्तिष्क के विकास और उसकी गतिविधि से देखा गया है। इसका सबसे अच्छा उदाहरण नवजात मनुष्य शिशु में देखा जा सकता है। आरईएम नींद सबसे ज़्यादा बढ़ते नवजातों में होती है (अक्सर 50 प्रतिशत से ज़्यादा) जो यह इंगित करती है कि उनका मस्तिष्क जानकारी के संग्रहण, समेकन, व्यवस्थित करने और उपयोग करने में लगा हुआ है। उम्र के साथ आरईएम नींद कम होती जाती है और 65 की उम्र तक 22 प्रतिशत बच जाती है। (जापानी प्राइमेट वैज्ञानिकों ने आरईएम में उम्र-आधारित ऐसा ही पैटर्न चिम्पैंज़ी में भी देखा है)
उस समय क्या हुआ होगा जब आदिमानव शिकारी-संग्रहकर्ता समूह गांवों में बसने लगे और आग जलाना, रहने के लिए घर बनाना, खेतीबाड़ी करना आदि तकनीकों की खोज की। सचमुच, इसी के साथ सोने-जागने के पैटर्न भी बदले। डॉ. सैमसन और उनके साथी तंज़ानिया की शिकारी जनजातियों (हाडज़ास का एक समूह जो आज भी अस्तित्व में है) के सोने-जागने के पैटर्न की तुलना यूएस के पश्चिमी आधुनिक मनुष्यों से करने में कामयाब हुए हैं। इससे सम्बंधित पर्चा हाल ही में अमेरिकन जर्नल ऑफ फिज़ियोलॉजी एंड एंथ्रोपोलॉजी में प्रकाशित हुआ है। ये आदिवासी प्राकृतिक रूप से जीते हैं और इनके शरीर की दैनिक घड़ी सूरज और चाँद जैसे रोशनी के स्रोतों से जुड़ी है। इसके विपरीत हम आधुनिक मनुष्य कृत्रिम रोशनी का उपयोग करते हैं और बंद कमरे में सोते हैं और मनुष्य-निर्मित दिनचर्या को जीते हैं। इस प्रकार हमारे शरीर की घड़ी प्राकृतिक नहीं रही है।
डॉ. सैमसन और डॉ. नन ने इवॉल्यूशनरी एंथ्रोपोलॉजी में 2015 के अपने पर्चे में लिखा था कि जब उन्होंने नींद पैटर्न की तुलना की तो पाया कि हाडज़ास प्रतिदिन केवल 6.25 घंटों की नींद ही ले पाते हैं और उसकी कार्यक्षमता मात्र 69 प्रतिशत होती है। इसकी तुलना में आधुनिक मानव 8 घंटों की लंबी और गहरी नींद सोते हैं, जिसकी कार्यक्षमता 90-94 प्रतिशत होती है। शिकारी शिकारी संग्रहकर्ता चौकन्ने होकर सोते हैं। किसी भी गड़बड़ी के प्रति सचेत, जैसे जानवरों से खतरा, आसपास का शोर, मौसमी उतार-चढ़ाव वगैरह। जबकि आधुनिक मनुष्य अपने सुरक्षित परिवेश की बदौलत इन सबसे मुक्त आराम से सोते हैं।
एक मायने में ये आदिमानव श्वान-निद्रा लेते हैं, चौकन्ने और तैयारी के साथ लेकिन जितना हम सोचते हैं उससे बहुत कम समय के लिए। हालांकि वे दोपहर में 90 मिनिट या अधिक की झपकी ले कर इसकी पूर्ति कर लेते हैं। यह एक बात है जिसे हम आधुनिक मनुष्यों को सीखने की ज़रूरत है। शुक्र है कि दोपहर की यह झपकी या स्पेनिश में सिएस्टा अब भी युरोप के कुछ हिस्सों में प्रचलन में है। स्लीप फाउंडेशन संस्था दोपहर की झपकी का गुणगान करती है। उनका कहना है कि झपकी सतर्कता को बहाल करती है, कार्य निष्पादन को बेहतर बनाती है और गलतियों और दुर्घटनाओं को कम करती है। नासा द्वारा फौजी पायलटों और अंतरिक्ष यात्रियों पर किए गए अध्ययन में पाया गया है कि 40 मिनट की झपकी उनके प्रदर्शन को 34 प्रतिशत और सतर्कता को 100 प्रतिशत तक बढ़ा देती है। अंतरिक्ष यात्रियों के लिए सही है तो हमारे लिए भी सही होगा। (स्रोत फीचर्स)
नींद की कमी कोशिकाओं को बूढ़ा करती है
नींद की कमी या अनिद्रा हम सभी के स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव डालती है। इसकी वजह से चिड़चिड़ापन, हाथ-पैरों में दर्द वगैरह पैदा होते हैं; किंतु बच्चों में कुछ अन्य प्रभाव होते हैं।
बच्चों में अनिद्रा की वजह से उनकी कोशिकाएँ जल्दी बूढ़ी होती हैं जिसका स्वास्थ्य पर दूरगामी प्रभाव पड़ता है। दरअसल कोशिका की उम्र का सम्बंध उसके गुणसूत्रों पर पाई जाने वाली रचना टीलोमीयर से है।
गुणसूत्रों के अंत में टोपी समान संरचना टीलोमीयर कहलाती है। कोशिकाओं के प्रत्येक विभाजन पर यह छोटी होती जाती है और जब यह बहुत छोटी हो जाती है तो वह कोशिका विभाजन नहीं कर सकती। वयस्कों पर किए गए अध्ययन से लगता है कि टीलोमीयर की लंबाई का सम्बन्ध नींद से है।
प्रिंसटन युनिवर्सिटी की सारा जेम्स और डेनियल नोटरमैन ने अपनी टीम के साथ मिलकर यूएस के 9 वर्ष की उम्र के 1567 बच्चों की नींद की अवधि का डैटा इकट्ठा किया। इसके अलावा उन्होंने बच्चों की लार के सेम्पल इकट्ठा किए। इस लार के सेम्पल से डीएनए को अलग करके टीलोमीयर की लंबाई का आकलन किया।
उन्होंने पाया कि जो बच्चे कम सोते हैं उनका टीलोमीयर छोटा था। दी जर्नल ऑफ पिडियाट्रिक्स में प्रकाशित शोध पत्र के मुताबिक जो बच्चे कम सोते थे ,उनके टीलोमीयर की लंबाई नींद में प्रत्येक घंटे की कमी से 1.5 प्रतिशत छोटी होती है बजाय पूरी रात सोने वाले बच्चों के।
टीलोमीयर के छोटे आकार का सम्बन्ध कैंसर, हृदय सम्बन्धी बीमारियों और संज्ञान में गिरावट से देखा गया है ;लेकिन इन बच्चों की कम उम्र के चलते उनमें ऐसी किसी भी बीमारी के संकेत तो दिखाई नहीं दिए। जेम्स का कहना है कि अनिद्रा की वजह से बाद की उम्र में इन बीमारियों के जोखिम ज़्यादा हो सकते हैं।
कुछ अध्ययनों से पता चला है कि वयस्कों के लिए अनिद्रा के साथ-साथ ज़्यादा सोना भी स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। लेकिन इस अध्ययन में प्रतिभागी बच्चों में ज़्यादा सोने का सीधा सम्बन्ध टीलोमीयर की अधिक लंबाई के साथ देखा गया है।
हालांकि शोधकर्ता अभी यह नहीं जानते कि इन बच्चों को ज़्यादा नींद मिले तो टीलोमीयर दुबारा ठीक हो सकते हैं या नहीं;  लेकिन इस उम्र के बच्चों के लिए यह ज़रूरी है कि वे 9 से 11 घंटों की नींद लें। (स्रोत फीचर्स)

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष