February 02, 2014

पुण्य स्मरण

 महात्मा गाँधी

अपने युग के निराले इन्सान


                                                                                                                                                                                                                                           - पी.डी.टण्डन
महात्मा गाँधी जहाँ बैठते थे वह स्थान मन्दिर की पवित्रता प्राप्त कर लेता था। जब वह चलते थे, तो वह देश-प्रेम की यात्रा होती थी। गाँधी जी की खामोशी भी एक जबरदस्त आवाज़ होती थी। जब वह आँखें मूँद कर मनन करते थे, जब वह सब बातों और वाकयात को और ज़्यादा सफाई से देखते और समझते थे। वह अपने विरोधियों से भी बड़ी नम्रता से बरताव करते थे, मगर उनकी विनम्रता के पीछे फौलादी मजबूती होती थी, जब सिद्धान्त का सवाल होता था।
1946 में जब क्रिप्स मिशन आया था उस समय बापू पूना में थे। सर स्टेफर्ड क्रिप्स और पैटिक लारेन्स गाँधी जी से मिलने के लिए बड़े उत्सुक थे। गाँधी जी के दिल्ली आने के लिए खास गाड़ी का इंतजाम किया गया और उनके साथियों के लिए तीसरे दर्जे में। जहाँ-जहाँ से गाड़ी निकलती थी वहाँ लोग जमा होते थे और गाड़ी रुकवा कर गाँधी जी की जय-जयकार करते। जब गाँधी जी दिल्ली पहुँचे तो उन्होंने वाइसराय के प्राइवेट सेक्रेटरी के पास तीसरे दर्जे के हिसाब से रेल का किराया जो तीन सौ पचपन रुपया चौदह आने होता था भिजवाया। प्राइवेट सेक्रेटरी जार्ज ऐविल को यह बात खली और उन्होंने सुधीर घोष से जो रुपया लेकर गए थे, कहा: यह क्या बेकार बात है। क्या मैं कोई स्टेशन मास्टर हूँ और रुपया किसने माँगा है। गाड़ी का इन्तजाम तो सरकार की ओर से हुआ है।
जब उनको समझाया गया कि बापू बिना किराया दिये नहीं रहेंगे तो उन्होंने कहा कि तब तो उन्हे स्पेशल ट्रेन का 18000/- रुपये देना होगा। जब यह बात गाँधी जी को बताई गयी तो उन्होंने कहा 18000/- रुपये की माँग गलत है; क्योंकि वे तो हमेशा तीसरे दर्ज़े में ही चलते हैं और वहीं किराया देना है। स्पेशल ट्रेन उन्होंने नहीं माँगी थी। अगर सरकार ने दी तो वह जाने। मगर गाँधी जी से और उनके साथियों से तीसरे दर्जे का ही किराया लेना मुनासिब है।
गाँधी जी ने स्पेशल गाड़ी का किराया देने से इनकार किया और तीसरे दर्जे का किराया देने की जिद की। सेक्रेटरी साहब ने परेशान होकर रुपया ले लिया और रेलवे बोर्ड के सभापति को भेज दिया।
एक लड़की ने आश्रम में गाँधी जी से कहा: बापू देख कुत्ते की पूँछ है। बापू ने उत्तर दिया, अरे कुत्ते की पूँछ है, और कुछ आश्चर्य जाहिर किया, एक दो क्षण के बाद बापू ने बच्चे से पूछा, क्या तुम्हारी भी पूँछ है। बच्चा कहकहा मार कर हँसा और बोला-अरे बापू तुम इतने बड़े और बूढ़े हो गए हो; लेकिन तुम्हे यह भी नहीं मालूम कि आदमी की पूँछ नहीं होती, आप वाकई बड़े बुद्धू हैं। बापू और दूसरे लोग जो वहाँ खड़े थे खूब हँसे।
बापू जब बच्चों के साथ होते थे, वह अपने आपको भूल जाते थे और स्वयं एक बच्चे की तरह व्यवहार करते थे। चाहे वह कितने ही काम में फँसे हों; परन्तु वह बच्चा को सदैव याद रखते थे। उनका अद्भुत तरीका था। एक दिन बम्बई में बापू कोई चीज जोरों से ढूँढ रहे थे। आचार्य काका साहेब कालेलकर ने उनसे पूछा, बापू आप क्या ढूँढ रहे हैं। बापू ने उत्तर दिया, एक छोटी सी पेंसिल। काका कालेलकर ने अपनी अटैची से एक पेंसिल निकाल कर बापू को दे दी। बापू ने कहा, नहीं, नहीं मैं छोटी पेंसिल चाहता हूँ ; जिसकों मैं ढूँढ रहा हूँ।
1945 में बापू बंगाल गए थे और वहाँ के गर्वनर से मुलाकात की। जब बापू घर वापस चलने के लिए उठे ; तब गवर्नर साहब अचानक बापू को पहुँचाने नीचे आ गए और उन्हें उनकी मोटर तक छोड़ऩे चले गए, जैसा कभी नहीं होता था। उस दिन उन्होंने एक अजीब नज़ारा देखा।उनकी कोठी के सारे नौकर, जो करीब दो सौ थे, सब नीचे हाल में हाथ जोड़े गाँधी के दर्शन के लिए खड़े हुए थे। कुछ लोगों के कपड़े ठीक भी नहीं थे। ऐसे कपड़ों में वे कभी लाट साहब के सामने आ ही नहीं सकते थे। बात यह थी कि जब उन सबको यह पता चला कि गाँधी जी उस दिन कोठी पर जाएँगे तो उन्होंने सोचा कि उससे अच्छा उन्हें कौन सा मौका बापू के दर्शन का सकताथा। लाट साहब को उन सब को देखकर बड़ी हैरत हुई। उन्होंने नौकरों की तरफ हाथ उठाते हुए कहा, गाँधी जी, यह देखिए मैं आपको यकीन दिलाना चाहता हूँ कि मैंने उनको यहाँ जमा होने को नहीं कहा था।
बापू आनन्द भवन वालों को हर मामले में सलाह देते थे और सारे घर वाले उनके सामने अपनी समस्याएँ रखते थे। रंजीत पंडित के देहान्त के बाद विजयलक्ष्मी जी को उनके देवर वगैरह से कुछ अनबन हो गई। उनका चित्त बड़ा खिन्न था। वे बापू से मिलने गईं। बापू ने उनसे पूछा -क्या रिश्तेदारों से तुम्हारी सुलह हो गई?
श्रीमती पंडित ने कहा, मैंने किसी से झगड़ा नहीं किया है, लेकिन मैं उन लोगों से कोई सम्बन्ध नहीं रखना चाहती, जो एक पुराने कानून का फायदा उठाकर मुझे मुसीबत में डालना चाहते हैं।
बात यह थी कि रंजीत पंडित के कोई लड़का नहीं था और उनके भाई वगैरह श्रीमती पंडित को या उनकी लड़कियों को उनका वारिस नहीं मानते थे। उस समय श्रीमती पंडित को बापू ने समझाया और यह सलाह दी, तुम्हें कोई नुकसान नहीं पहुँचा सकता। सिर्फ तुम्हीं अपने आपको नुकसान पँहुचा सकती हो। तुम्हारे चित्त में बड़ा रोष है, जिससे तुमको नुकसान पहुँचेगा। श्रीमती पंडित को ये शब्द बहुत जमे और बापू की यह सलाह उन्हें सदैव याद रहती थी। उन्होंने कहा था कि जीवन में उन्हें सबसे अच्छी सलाह यही मिली, जो बापू ने दी थी।
बापू अपने युग के एक निराले इन्सान थे। जैसे-जैसे हम उनकी मानवता और शराफत की कहानियाँ सुनते रहेंगे, हमारा यकीन इस बात में बढ़ता ही जाएगा कि बापू एक बड़े महान पुरुष थे। उन्होंने अपनी योग्यता और वीरता की छाप दुनिया के लोगों पर छोड़ी थी। जब उनकी मृत्यु हुई तो करोड़ों आदमियों ने सोचा कि उनके घर का एक प्यारा इन्सान उनसे जुदा हो गया है। बापू अमर हैं।

उनका राजनीति करने का ढंग निराला था उन्होंने हर गम  को खुशी में ढाला था। लोग जिन हादसों में मरते हैं, उन्हें उन हादसों ने पाला था।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष