August 15, 2014

मौसम

    हड़प्पा सभ्यता की तबाही का कारण 

 
सिंधु घाटी सभ्यता, जिसे हड़प्पा सभ्यता भी कहते हैं, एक सुविकसित सभ्यता थी जो वर्तमान उत्तर पश्चिमी भारत और पाकिस्तान में पनपी थी। हाल ही में किए गए अध्ययनों से संकेत मिलता है कि इस सभ्यता के विनाश का एक प्रमुख कारण करीब 200 वर्षों तक लगातार मानसून की नाकामी थी।
सिंधु घाटी सभ्यता के अवशेषों से पता चलता है कि यह एक विकसित नगरीय सभ्यता थी जहां उम्दा व्यवस्थाएं थीं। इनमें शहरों में नालियाँ तथा निकास व्यवस्था प्रमुख थीं। मगर करीब 4000 साल पहले यह सभ्यता और इसके शहर धीरे-धीरे वीरान होते गए और अंतत: नष्ट हो गए। इस तबाही के कारण अस्पष्ट रहे हैं।
वैसे कांस्य युग की अन्य सभ्यताएं, जैसे मिस्र, यूनान और मेसोपोटामिया की सभ्यताओं के लोप का कारण 2000 ईसा पूर्व में पड़े लगातार सूखे को माना जाता है। अब पता चला है कि शायद यही हाल हड़प्पा सभ्यता का भी हुआ था। इस संदर्भ में खोज के मार्ग में एक बाधा यह थी कि हड़प्पा सभ्यता के क्षेत्र का जलवायु रिकॉर्ड उपलब्ध नहीं था।
इसी संदर्भ में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय की पुरा-जलवायु वैज्ञानिक यामा दीक्षित और उनके साथियों ने हड़प्पा सभ्यता के एक स्थल कोटला डहार से प्राप्त तलछटों का विश्लेषण करके अतीत की जलवायु का अनुमान लगाने की कोशिश की है। कोटला डहार हरियाणा में है और यह एक ऐसा स्थल है जहां पानी भर जाता है। निकासी का कोई मार्ग न होने की वजह से पानी सिर्फ वाष्पीकरण के द्वारा ही उतरता है।
दीक्षित व साथियों ने कोटला डहार से विभिन्न गहराइयों की तलछट की परतें एकत्रित कीं। इन विभिन्न परतों में उन्हें झील में पाए जाने वाले घोंघे (मेलानॉइड्स ट्यूबरकुलेटा) की खोलें प्राप्त हुईं। ये खोल कैल्शियम कार्बोनेट से बनी होती हैं। कैल्शियम कार्बोनेट में जो ऑक्सीजन पाई जाती है उसमें ऑक्सीजन का दो में से एक समस्थानिक यानी आइसोटोप हो सकता है - ऑक्सीजन-16 या ऑक्सीजन-18। समस्थानिक का मतलब होता है कि एक ही तत्व के ऐसे परमाणु जिनके परमाणु भार अलग-अलग होते हैं।
आम तौर पर देखा गया है कि सूखे के दिनों में जब पानी का वाष्पन होता है तो ऑक्सीजन-16 वाले पानी का वाष्पीकरण ऑक्सीजन-18 की तुलना में ज़्यादा तेज़ी से होता है। जब दीक्षित व उनके साथियों ने विभिन्न परतों में घोंघे की खोल के कैल्शियम कार्बोनेट में ऑक्सीजन-16 व ऑक्सीजन-18 के अनुपात की तुलना की तो पता चला कि करीब 4200 से 4000 वर्ष पूर्व की अवधि में वर्षा अचानक कम हो गई थी।
इसका मतलब यह निकलता है कि आज से करीब 4000-4200 वर्ष पूर्व की 200 साल की अवधि में बारिश बहुत कम हो रही थी।
इसी प्रकार का एक अध्ययन जर्मनी के जियोसाइंस रिसर्च सेंटर की सुषमा प्रसाद ने मध्य भारत में स्थित लोनार झील पर भी किया है। उनका निष्कर्ष है कि इस क्षेत्र में करीब 4600 वर्ष पूर्व सूखे की स्थिति शु डिग्री हुई थी। यानी यहां सूखे की स्थिति काफी पहले शुरू हो चुकी थी।
अभी यह स्पष्ट नहीं है कि 4000 वर्ष पूर्व यह जलवायु परिवर्तन क्यों हुआ था लेकिन इतना स्पष्ट है कि जलवायु के ऐसे परिवर्तन सभ्यताओं को तबाह कर सकते हैं। आजकल जलवायु परिवर्तन की स्थिति में यह चिंता का विषय होना चाहिए। (स्रोत फीचर्स)

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष