February 19, 2017

चार लघुकथाएँ

1. ज़रूरत
सीमा सिंह
शूटिंग की तैयारी थी। सेट लग चुका था। बस निर्देशक महोदय के आने की प्रतीक्षा थी। उनके आते ही सब सचेत हो उठे।
'सब रेडी है?’ आते ही अपने असिस्टेंट से पूछा।
'जी सर!उसने मुस्तैदी से उत्तर दिया।
'एक बार सीन ब्रीफ करो।
'जी, सीन है, माँ-बाप का लाड़ला बेटा रूठ गया है, तो माता पिता तरह-तरह की खाने पीने की चीको लाकर उसको मना रहे हैं और बच्चा गुस्से में फेंक रहा है।
'और वो बाल कलाकार? उसका क्या हुआ? अस्पताल से छुट्टी मिल गई?’
'नहीं सर, पर दूसरे बच्चे का इंतजाम कर लिया है ! यहीं पास की बस्ती से अरेंज किया है। सिर्फ दो सीन हैं बच्चे के, दो सौ रुपये रोज़ पर बुलाया है।
'काम कर सकेगा?’
'जी सर, मैंने सब समझ दिया है।
'ओके, चलो फिर, लाइट, कैमरा एक्शन!
'कट, कट, कट!
'हाथ से रखना नहीं है, उठाकर फेंकना हैं,’ असिस्टेंट ने झुँझलाहट काबू करते हुए कहा, 'पहले केक और पेस्ट्री हाथ मारकर दूर गिराओ, फिर दूध का गिलास गिरा दो। ठीक?’
'चलो, फिर से,’ डायरेक्टर ने खीजकर कहा- 'एक्शन!
'ओहो! कट! कट! कट! अबे, तुझको समझाया था ना? फेंक दे, नीचे गिरा दे! ये इतना सँभालकर क्यों रख रहा है?’
बच्चे ने सुबकते हुए कहा, 'न अंकल ने कहा था शूटिंग के बाद खाने का सारा सामान मैं घर ले जा सकता हूँ।
2. जूठन 
निशा इस घर की नौकरानी नहीं थी, मगर उससे ज्यादा भी कुछ ना थी। कहने को तो उसके चाचा-चाची का ही घर था, परन्तु माँ-पापा के जाने के बाद निशा कभी परिवार के सदस्य का सा सम्मान ना पा सकी।
'निशा...!चाची ने पुकारा, 'कहाँ थी? चल तैयार हो जा कुछ माँग ले मुदिता से अच्छा सा पहनने को, लडक़े वाले आते ही होंगे।फिर मुदिता से उन्मुख होकर कहा, 'बेटा तू तैयार है? जल्दी कर ले.. और हाँ इसको भी कुछ दे दे ठीक-ठाक सा पहनने को।
'इसको क्या देना, ये तो हमेशा से उतरन में ही जँचती है... पहन ले ना मेरी कोई भी साड़ी। देख सामने पड़ी हैं।फोन में घुसी अपने मंगेतर से चैट करती मुदिता ने निशा को व्यंग्यात्मक दृष्टि से देखा।
निशा भीतर तक बिंध गई।
कमरे से निकलते हुए मुदिता अपनी जूठी प्लेट उसके हाथ में थमा गई, 'ले खा ले। मैं चली जाऊँगी , तो मेरी जूठन नहीं मिलेगी
पत्थर बनी निशा जाती हुई मुदिता और जूठी थाली को देखती रही। अचानक उसके चेहरे पर कुटिल मुस्कान बिखर गई। विद्रुप हँसी के साथ निशा बुदबुदाई, 'तू क्या जाने मुदिता, तुझको तो मेरी उतरन के साथ जीवन बिताना है
निशा के मन की सारी कड़वाहट शांत हो चुकी थी।
 3. तीर्थ-यात्रा
'सब कुछ रख लिया है ना?’ प्रफुल्लित स्वर में पत्नी के हाथ से सामान का बैग लेते हए मोहित ने पूछा।
'कितनी बार पूछोगे, जी?’ पत्नी ने भी मुस्कुरा कर प्रश्न के उत्तर प्रश्न किया।
'बस आ गई है न, मोड़ पर दिख रही है। सब होंगे तो देर लगाना अच्छा नहीं लगेगा।
मोहित बहुत खुश था। दफ्तर से एक मिनी बस जा रही थी गौरीकुंड। वहाँ से सिर्फ दो घंटे लगते हैं केदारनाथ तक के। सरकारी खर्च पर जाना आना, और परिवार को भी साथ ले जाने की अनुमति। अनुमति क्या, सब परिवार के साथ ही जा रहे थे; इसीलिए उस पर भी ज़ोर डाल रहे थे। थोड़ी सी खुशामद से पत्नी मान गई, और बच्चे, वो बेचारे तो कहीं जा ही नहीं पातें हैं। तो उनकी खुशी का पारावार न था।
बस माँ नहीं जा रही थीं, इसका दुख था। माँ भी जाती तो अच्छा रहता, पर उनके घुटनों की तकलीफ और डॉक्टर की हिदायत दोनों ने अनुमति न दी। वो तो परिवार के जाने से ही खुश थी। उन्होंने भगवान पर चढ़ाने के लिए वस्त्र, मेवा-माला, और भी ना जाने क्या-क्या बाँध कर दे दिया था, उनकी ओर से भगवान को अर्पित करने के लिए।
वहाँ की सर्दी की सोच, सामान थोड़ा अधिक हो ही गया था। एक झोला भर तो खाने-पीने का सामान ही बाँध लिया था पत्नी ने, ये कह कर कि सब साथ होंगे तो सिर्फ अपना अपना तो नहीं खा सकते ना।
बच्चों ने भी कॉमिक्स और वीडियो-गेम रख लिये थे, इस दलील के साथ जब रास्ते में बड़े अपनी बातों में लग जाएँगे, तो वे क्या करेंगे।
बच्चों की बात सुन मोहित ने भी ताश की गड्डी जेब में डाल ली थी।
सब बस में चढऩे को हुए, कि एक मित्र ने मोहित से कहा, 'वहाँ ठण्ड बहुत होती है, बंधु, अपना भी कुछ इंतजाम किया है? ये खाली स्वेटर-कोट काम नहीं आते हैं।।।
मोहित तुरंत उतरकर सर्दी का इंतजाम भी निकाल लाया था। बस चलते ही पत्नी से कहा, 'सामान चैक कर लो कुछ छूटा तो नहीं हैं।
पत्नी ने एक नज़र घुमाते हुए देखा, कपड़ों का बैग, खाने का बैग, पीने का पानी, बच्चों के रैकेट और स्नैक्स, सब थे।
केवल माँ का भगवान को चढ़ाने वाले सामान का झोला नहीं था और उसका छूटना किसी को याद भी नहीं था।
4. तोहफा
सुबह से घर की सफाई और किचन में जुटी नीना चौंक गई, 'बाप रे ! अतुल के आने सिर्फ दो घंटे बचे हैं और मैं भूत जैसी घूम रही हूँ! माँ, आप ज़रा गैस बंद कर देना, प्लीज, मैं नहाने जा रही हूँ!
अतुल की पसंद की पीली साड़ी में तैयार होकर आई तो माँ अर्थ पूर्ण ढंग से मुस्कुरा रही थी। 'वाह, जी! खाने से लेकर सजावट तक सब अतुल का मनपसंद, अब तो साड़ी भी,’ माँ ने कहा तो नीना शरमा गई।
'क्या बात हुई थी वैसे तेरी?’ माँ ने उत्सुकता से पूछा।
'आवा्ज़ कट रही थी, माँ, अतुल की। वो अमेरिका से पिछले ही सप्ताह लौटा है। मुझसे मिलने तो सीधे यहीं आना चाहता, था मगर माता-पिता सबसे पहले हैं। तो अब आ रहा है। उसकी माँ को अब शादी की बहुत जल्दी है!
शादी के नाम पर नीना की रंगत और गुलाबी हो गई। माँ ने दुलार से नीना के सिर पर हाथ फिराते हुए कहा, 'बेटा तूने बहुत तपस्या की। पाँच साल बहुत होते हैं।
'दीदी आपके लिए तो गिफ्ट-शिफ्ट भी आ रहें होगे ना?’ छोटे भाई ने बहन को छेड़ते हुए कहा।
'वो खुद आ गया वापस, इस से बड़ा क्या तोहफा होगा?’ माँ ने कहा।
तभी बाहर घंटी बजी नीना ने दौड़ कर दरवाज़ा खोला। हाँ अतुल ही था, हाथ में बड़ा सा पैकिट पकड़े।
'अरे! रुक क्यों गए? अंदर आओ ना!
'नहीं, बहुत जल्दी में हूँ! ये सारे बाँटने हैं, फिर कभी जरूर आऊँगा। अभी ये पकड़ो; सबको आना है, बहाना नहीं चलेगा!
नीना को कार्ड थमाकर चला। वापस मुडक़र आँख दबाते हुए कहा, 'गज़ब लग रही हो! अब तो तुम भी शादी कर ही डालो
सम्पर्क: 111 A /39 अशोक नगर, कानपुर - 208012

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष