July 12, 2018

वर्षा के देवता

हे इन्द्र देव
 - यशवंत कोठारी
बारिश हो रही हैं, बादल गरज रहें हैं।  मौसम मस्त-मस्त हैं। ऐसे में इंद्र को याद करना मानव स्वभाव है। वर्षा का राजा इंद्र हैं। हम लोग सम वृष्टि चाहते हैं, अनावृष्टि या अति वृष्टि से सब बचना चाहते हैं। इंद्र ही इस बात को तय करते हैं। भारतीय पौराणिक साहित्य में इंद्र का वर्णन बार- बार आता हैं। इंद्र का लोक इंद्रलोक कहलाता हैं, इसका स्थान अमरावती माना गया हैं, इंद्र के आवास का नाम वैजयंत माना गया हैं, इंद्र के बाग का नाम नंदन माना गया हैं, नंदन में कल्पवृक्ष  हैं  ,जो सभी कामनाओं को पूरा करता हैं। इंद्र के हाथी का नाम ऐरावत हैं,  इंद्र के घोड़े को उच्चैश्रवा  कहा गया हैं। इंद्र की रानी का नाम शची है। तथा पुत्र  का  नाम जयंत बताया गया है।
इंद्र वर्षा के देवता हैं ;लेकिन अन्य देवताओं की तरह उनकी पूजा- अर्चना नहीं की जाती हैं। इंद्र शूरवीर नहीं थे ,उनकों रावण पुत्र मेघनाद ने हराकर कैद कर लिया था बाद में देवताओं ने छुड़ाया। इसी प्रकार द्वापर में कृष्ण ने गोवेर्धन पर्वत को उँगली पर उठाकर इंद्र का मान- मर्दन कर दिया था।
एक कथा के अनुसार अर्जुन इंद्र के पुत्र थे। इसी प्रकार अहल्या की कथा में भी इंद्र खलनायक बन कर आते हैं और शीलहरण करते हैं। बलि को भी इंद्र का ही पुत्र बताया गया हैं।
दुश्चरित्र होने के कारण ही इंद्र की पूजा नहीं की जाती है। शतपथ ब्राह्मण  के अनुसार इंद्र के पिता प्रजापति माता निष्टिग्री  हैं।
इंद्र देवताओं के राजा थे, मगर घमंडी  थे। युद्ध  में लडऩे के लिए उन्होंने  दधिचि की हड्डियों से वज्र बनवाया था।
इंद्रपूरी में इंद्र ने कई यज्ञ किये थे।
पृथ्वी पर कोई तपस्या करता तो इंद्र का आसन डोलने लग जाता था। वे अपने सिंहासन की रक्षा में जुट जाते थे। अपना राज बचने के लिए इंद्र पृथ्वी पर तपस्या करने वाले का तप भंग करने के लिए अप्सराओं को भेजते थे, ये अप्सराएँ तप भंग कर आती थी।
उर्वशी, मेनका, तिलोत्तमा आदि इंद्र की खास अप्सराएँ थीं, जो तप भंग करने पृथ्वी लोक में भेजी जाती थी। इंद्र खुद भी जाकर कुछ गड़बड़ कर देते थे। एक बार राजा सगर के यज्ञ के घोड़े को  कपिल मुनि के आश्रम में बाँध दिया , सगर  के 60 हज़ार पुत्र मर गए, जिनको स्वर्ग दिलाने के लिए भगीरथ गंगा को  पृथ्वी पर लाए।
अहल्या प्रकरण में चंद्रमा ने इंद्र का साथ दिया था, ऋषि  गौतम ने इंद्र चंद्रमा दोनों को शाप दिया। तब से ही चन्द्रमा  पर कलंक लग गया।
शाप मुक्ति के लिए अहल्या को राम का इंतजार करना पड़ा। तथा इंद्र ने राम- विवाह को हज़ार आँखों से देखा।
इंद्र ने एक बार देवताओं के गुरु बृहस्पति का भी अपमान कर दिया था।
तो वर्षा के देवता इंद्र ऐसे थे।
फिर भी इंद्र वर्षा को सही समय पर सही मात्रा में बरसावें इस की प्रार्थना  हम सब करते हैं। सैकड़ो झरने, हजारो नदियाँ, नाले सब लवालब भर जाते है। और सर्वत्र पानी ही पानी हो जाता है। समुद्र की प्यास को बुझाने चल पड़ती है सैकड़ो नदियाँ, और समुद्र है कि फिर भी प्यासा ही रह जाता है ।वह प्यासा ही अगली वर्षा का इन्तजार करने लगता है।
   धरती पर बिछ गई है एक हरी चादर वर्षा की बूँदे सूर्य की किरणों के कारण हीरे सी चमक रही है। वीर बहूटियों से धरती अटी पड़ी है। चारो तरफ वर्षा की झड़ी लगी है। धरती और समुद्र की प्यास बुझाने वर्षा फिर आएगी। इन्द्र भगवान की कृपा रहेगी। कृष्ण गोवर्धन पर्वत को तर्जनी पर उठा लेंगे और वृन्दावन ही नहीं सम्पूर्ण विश्व को आनन्द देंगे।
सम्पर्क: 86, लक्ष्मी नगर, ब्रह्मपुरी जयपुर- 302002 मो- 09414461207, email : ykkothari3@gmail.com

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष