March 10, 2017

व्यंग्य:

अफ़सर करे न चाकरी 
- रामेश्वर काम्बोज हिमांशु
'अजगर करे ना चाकरी, पंछी करे ना काम। दास मलूका कह गए सबके दाता राम।'
राम सबके दाता हैं - अजगर के भी, पंछी के भी और आज के हालात में अफ़सर के भी। हम यह मानते कि अफ़सर भी नौकरी करता है, पापी पेट के लिए या यों कहें कि जो कुछ भी अफ़सर करता है केवल पापी पेट के लिए करता है, अपने पेट के लिए। दूसरों के भी पेट में कौर पहुँचे, इस बात का उसको अहसास नहीं होना चाहिए। वैसे यह अहसास उसे तब ज़रूर हो जाता है, जब उससे भी बड़े पेटवाला उसका पेट काटने के लिए आ धमकता है। ऐसी विषम परिस्थिति आने पर छोटे पेट में दर्द होना ज़रूरी है। जब तक खाने को मिले तब तक ही पेट-दर्द से मुक्ति मिल सकती है। जहाँ खाने के अवसर नगण्य होते हैं, वहाँ असली अफ़सर रहना नहीं चाहता। वह पराए माल पर ही मस्त रह सकता है। पराया माल खाए बिना उसके पेट में मरोड़ शुरू हो जाती है। वह जब चाहे जहाँ चाहे जिस समय खड़ेखड़े देश को बेच सकता है। भला यदि अफ़सर नहीं खाएगा तो क्या किसी मन्दिर में बैठकर शंख बजाएगा? अपना खाकर कोई कितने दिन ज़िन्दा रह सकता है!
     अफ़सर बनना एक खुशी का अवसर है। जैसे हर कोई डाकू नहीं बन सकता वैसे ही हर कोई अफ़सर नहीं बन सकता। अफ़सर बनने के लिए बहुत कुछ खोना पड़ता है, उनमें ये तीन चीज़े सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण हैं - समझदारी, संवेदना और दूरदृष्टि। समझदारी से काम करनेवाला व्यक्ति अफ़सर नहीं बन सकता। यदि दुर्भाग्य से बन भी गया, तो बहुत दिनों तक चल नहीं सकता। वह अफ़सर भी किस काम का, जिसके किए गए कार्यों पर लोगों को माथा न पीटना पड़े, छाती न कूटनी पड़े, हाय-हाय! न करनी पड़े। वह बेसिर -पैर की बात करता है, बेसिर-पैर के काम करता है। लोग जब उसकी करतूतों से दु:खी होकर कपड़े फाड़ने, बाल नोंचने को मजबूर होने लगते हैं, उस समय वह वातानुकूलित कक्ष में बैठकर मेज़ पर पैर रखकर आराम करता है या कैण्टीन वाले की मुफ़्त की चाय पीकर काजू-बादाम खाकर खुद को हल्का महसूस करता है।
संवेदना से उसका कोई लेना-देना नहीं होता है। संवेदनशील व्यक्ति तुरन्त द्रवित हो जाता है। अफ़सर अगर द्रवित हो जाएगा ,तो ग्लेशियर की तरह पिघलकर विलीन हो जाएगा। उसे तो 'बोलहिं मधुर वचन जिमि मोरा, खायहिं महा अहि हृदय कठोरा' जैसा होना चाहिए। कोई मर भी जाए तो उसे द्रवित नहीं होना चाहिए। उसके द्वारा ख़रीदी बुलेट्प्रूफ़ जैकेट से अगर गोली भी पार हो जाए तो उसकी सेहत पर असर नहीं पड़ता ;क्योंकि जिसको मरना है, वह तो तो मरेगा ही, चाहे दुश्मन की गोली से मरे ,चाहे डॉक्टर द्वारा दी गई दवाई की नकली गोली से। जनता पर उसका उसी तरह का अधिकार होता है, जिस तरह गरीब की जोरू पर सभी पड़ोसियों का अधिकार होता है। दान-पुण्य की बीमारी से उसे दूर रहना चाहिए। पूजा-पाठ दो-तीन घण्टे ज़रूर करना चाहिए। चाहे ऑफ़िस छूटे,चाहे ऑफ़िस का काम छूटे, इस बात की चिन्ता नहीं करनी चाहिए। अधीनस्थ कर्मचारी के साथ उसे 'यूज़ एण्ड थ्रो' का सिद्धान्त अपनाना चाहिए। प्रेम से रहने वाले लोग अफ़सरों के लिए सिरदर्द बनते हैं। भला वह अफ़सर किस काम का जो दूसरों के सिर-दर्द का ताज़ खुद पहनकर घूमता फिरे। सच्चा अफ़सर, तो वह है जो सिर-दर्द को मन्दिर के प्रसाद की तरह सब मातहतों में बाँटता रहता है।      
परफ़ैक्ट अफ़सर वही है,जिसमें दृष्टि का अभाव हो। अफ़सर अगर हर बात को तुरन्त समझने की मशक्कत करेगा, तो सक्रिय होना पड़ेगा। सक्रियता से अफ़सरशाही पर बट्टा लगता है। हर काम को पेचीदा बनाकर इतना उलझा दो कि कोई माई का लाल उसे सुलझाने की हिमाक़त न करे, जो कोशिश करे वह भी उसी में फँसा रह जाए। फँसे हुए लोग ही अफ़सर के पास आते हैं। जो फँसते नहीं, वे अफ़सर के दिल में बसते नहीं।
    निकम्मापन किसी भी अफ़सर की सबसे बड़ी शक्ति है। यदि लोगों का काम समय पर होता रहे ,तो कोई किसी को घास डालनेवाला नहीं। जहाँ कर्मठ अफ़सर होगा, वहाँ के सभी काम समय पर होते रहेंगे। सभी को काम करना पड़ेगा। किसी का काम फ़ाइलों में दबा नहीं रहेगा। इस कर्मठता के चलते पूरा दफ़्तर अपना महत्त्व खो देगा। बड़े बाबू को कोई सलाम क्यों करेगा? छोटे बाबू तो बेचारे वैसे ही कम पाते हैं। इनके पेट पर लाठी मारना भला कहाँ का न्याय है? भूखे लोगों के चेहरे की आभा महीने भर में खत्म हो जाती है। अपना पैसा खाने से चेहरे की सारी रौनक चली जाती है। लोग काम के लिए सिर पर सवार रहने लगते हैं। कर्मठ अफ़सर की छूट मिलने पर तो वे सिर पर चौकी बिछाकर जगराता करने के लिए बैठ जाएँगे।

   हर धार्मिक कार्यक्रम के समापन पर तथा पार्टी के जलसों के बाद कुछ जैकारे गूँजा करते हैं, जैसे -जो बोले सो अभय। इसका अर्थ बहुत गम्भीर है। चालीस साल बाद इसका अर्थ समझ में आ पाया है कि जो भी बोला जाए ,एकदम निर्भीक होकर बोला जाए, बेखटके होकर। मैं समझता हूँ कि केवल बेसिर-पैर की बातें ही बेखटके बोली जा सकती हैं। बाते ऐसी हों कि उनका जब चाहे जो अर्थ निकाल लिया जाए। अपने नेताओं को ही देखिए -बड़ी से बड़ी बेहूदी बात को भी कितने आत्मविश्वास से बोल लेते हैं। यह महारत बड़ी तपस्या के बाद हासिल होती है। सरकार की रेल को फ़ेल करने में अधिकारी का बहुत बड़ा हाथ है। बड़े अफ़सर की बड़ी चोरी पर सरकार से पूछे बिना कार्यवाही नहीं होती, उसको चरने और विचरने की पूरी छूट होती है। लोकतन्त्र में ऐसी सुविधा नहीं होगी, तो आधे अफ़सर तो जेल में मिलेंगे। इनके लिए जेल नहीं है। जेल केवल छुटभैये लोगों के लिए है।
   निकम्मे अफ़सर का अपना विशेष महत्त्व है ई-मेल खोलने के लिए जब एक तपस्वी अफ़सर से उनका पासवर्ड पूछा गया, तो बड़ी ही मासूमियत से बोले, 'भई वो तो सब पुराने ऑफ़िस में ही छूट गया। वहाँ जाऊँगा, तब लेकर आऊँगा। देखो बड़े बाबू! इस दफ़्तर का भी इण्टरनेट नहीं चल रहा है। लगता है पहलेवाले अधिकारी चाबी ले उड़े। आप मँगवा लो, नहीं तो कैसे काम चलेगा?
''ठीक है साहब,'' बड़े बाबू ने समर्थन में गर्दन हिलाई। मन ही मन मुस्कराए भी-अब मौका हाथ लगा है माल छीलने का। तीन चार-बरस दफ़्तर हम लोगों के लिए कालाहाँडी बना रहा।
''हाँ साहब, कुछ भी हो सकता है।'' छोटे बाबू ने हामी भरी, ''जो करते थे, वे ही करते थे, ई-मेल-फ़ीमेल पता नहीं क्या-क्या! हम लोग तो यहाँ 'ड्राई डे' मनाते रह गए। साहब आपने आकर हमको बचा लिया।
''देखो भाई! कुछ काम तो करना चाहिए। काम भले ही कम करो, काम करने का प्रचार ज़्यादा करो। बेईमानी करो, लेकिन बातें ईमानदारी की करो। पचास प्रतिशत से ज़्यादा खाने वाले को बेईमान कहा जा सकता। दुनिया में फ़िफ़्टी-फ़िफ़्टी का ही महत्त्व है।''
   ''पचास प्रतिशत!'' बगल में खड़े एक मातहत ने अफ़सर के पैर छू लिये, ''धन्य है साहब, इस कलयुग में भी आप जैसे लोग हैं, तभी तो यह धरती टिकी हुई है, वर्ना न जाने कब की डूब गई होती।
इस भागवत-कथा का यही सारांश निकलता है कि...
अफ़सर-अजगर दोऊ खड़े, काके लागों पाँय।
बलिहारी अफ़सर करौं, अजगर दियो बताय।
सम्पर्कः जी-902, जे एम अरोमा, सेक्टर-75 , नोएडा-201301 (उत्तर प्रदेश)

7 Comments:

रश्मि शर्मा said...

बहुत बढ़िया लगा। शानदार

Vibha Rashmi said...

अफ़सर-अजगर दोऊ खड़े, काके लागों पाँय।
बलिहारी अफ़सर करौं, अजगर दियो बताय।
आ. रामेश्वर काम्बोज हिमांशु भाई का सुन्दर व्यंग्य हास्य की हल्की - फुल्की , कभी गंभीर शब्दावली में लिखा बहुत सटीक कटाक्ष करता हुआ व्यंग्य । आज की व्यवस्था व मानसिकता की पोल खोलती रचना के लिये बहुत बधाई ।

sunita kamboj said...

भ्रष्टाचार पर उत्तम सार्थक व्यंग आदरणीय भैया जी हार्दिक बधाई

Dr. Surendra Verma said...

अफसर और अफसरी पर ज़बरदस्त कटाक्ष ।व्यंग्यकार को हार्दिक बधाई। सुरेन्द्र वर्मा ।

Dr. Surendra Verma said...
This comment has been removed by a blog administrator.
Seema Singh said...

आज की अफसरशाही पर करारा तंज करती रचना! वास्तव में ऊँची कुर्सी पर बैठा व्यक्ति भूल जाता है कि वह भी हम में से ही एक है। बधाई आदरणीय ।

Asha Pandey said...

Bahut sunder vyng.

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष