November 13, 2019

सर्वेक्षण




मानव अतिक्रमण के चलते प्रकृति का ह्यास
दुनिया भर में लगभग 2 लाख आरक्षित क्षेत्र हैं। इन क्षेत्रों को प्रकृति की खातिर, वन्य जीवों की खातिर आरक्षित किया गया है। इन क्षेत्रों का कुल क्षेत्रफल लगभग 180 लाख वर्ग कि.मी. है। किंतु एक ताज़ा सर्वेक्षण से पता चला है कि इसमें से 32.8 प्रतिशत भूमि 'कठोर मानवजनित दबावÓ में है। सर्वेक्षण का नेतृत्व ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड विश्वविद्यालय के जेम्स वॉटसन ने किया है। उनका कहना है कि इसी वजह से आरक्षित क्षेत्र में वृद्धि के बावजूद जैव विविधता में लगातार कमी आ रही है।
1992 में रियो डी जेनेरो में हुई जैव विविधता संधि के अंतर्गत जो लक्ष्य निर्धारित किए गए थे उनके मुताबिक सदस्य राष्ट्रों को 2020 तक अपनी भूमि का 17 प्रतिशत हिस्सा आरक्षित क्षेत्रों में तबदील करना है। अलबत्ता, पता यह चला है कि जिन 111 राष्ट्रों ने यह लक्ष्य पूरा करने का दावा किया है उनमें से 74 ने वास्तव में ऐसा नहीं किया है। इन 74 देशों में हालत यह है कि आरक्षित क्षेत्रों में मानव अतिक्रमण के चलते प्रकृति का ह्यास जारी है।
वॉटसन और उनके साथियों ने प्रत्येक आरक्षित क्षेत्र में 'मानव पदचिन्होंकी छानबीन की। इसके लिए उन्होंने प्रत्येक आरक्षित क्षेत्र को 1-1 वर्ग किलोमीटर के चौखानों में बाँटा और फिर यह नापा कि इंसान वहाँ 8 तरीकों से प्रकृति को प्रभावित करते हैं। जैसे सड़क निर्माण, सघन खेती और पथ-प्रकाश वगैरह। इसके आधार पर उन्होंने प्रत्येक चौखाने में मानव पदचिह्न की गणना की। यह देखा गया कि आरक्षित क्षेत्रों में मानव पदचिन्ह वैश्विक औसत से आधा थे किंतु चिन्ताजनक बात यह है कि 1992 के बाद से स्थिति बदतर होती गई है। वॉटसन की टीम ने पाया कि आरक्षित क्षेत्रों की सबसे बुरी स्थिति पश्चिमी यूरोप, दक्षिण एशिया और अफ्रीका में है।
अच्छी बात यह पता चली है कि 42 प्रतिशत आरक्षित भूमि मानव दखलंदााी से लगभग मुक्त है। टीम ने कुछ आदर्श स्थल भी चिन्हित किए हैं। इनमें से एक है कंबोडिया का किओ सीमा वन्यजीव अभयारण्य और दूसरा है बोलिविया का मादिदी राष्ट्रीय उद्यान। टीम का कहना है कि अभयारण्य अथवा राष्ट्रीय उद्यान की स्थापना कर देना एक बात है किंतु उसके लिए संसाधन जुटाना और उसका प्रबंधन करना ज़्यादा महत्त्पूर्ण है।

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष