July 12, 2018

विश्व जनसंख्या दिवस

जनसंख्या का बढ़ना
कहीं खुशी कहीं गम
- शर्मिला पाल
दुनिया की बढ़ती आबादी से चिंतित रहने वालों के लिए एक अच्छी खबर, दरअसल बहुत ही अच्छी खबर यह है कि हम 10 अरब के आंकड़े से आगे नहीं बढ़ेंगे। मतलब दुनिया की आबादी में स्थिरता आने वाली है। ये कोई दूरस्थ भविष्य की गल्प नहीं, बल्कि संयुक्त राष्ट्र के जनसंख्या प्रकोष्ठ का आकलन है। इस आकलन के अनुसार इस शताब्दी में मानव आबादी बढ़ते-बढ़ते 10 अरब तक पहुँच जाएगी, लेकिन उससे आगे नहीं बढ़ेगी। लेकिन जनसंख्या यदि बढ़ती भी है, तो उसे आज एक सकारात्मक दृष्टिकोण से देखा जा रहा है; क्योंकि जनसंख्या बढ़ने के मायने हैं विश्व बाज़ार में खपत का बढ़ना। इसलिए विशेषज्ञ कहते हैं- जनसंख्या का बढ़ना कहीं खुशी ,तो कहीं गम जैसा है।
आबादी के बारे में पिछले दिनों ब्रिटेन के एक आर्थिक विशेषज्ञ गैविन डेविस ने एक रोचक विश्लेषण किया। उनकी मानें तो आज से सैकड़ों साल बाद जब इतिहासकार पीछे मुड़कर देखेंगे तो बीसवीं सदी को सबसे ज़्यादा जिस बात के लिए याद किया जाएगा ,वह है जनसंख्या वृद्धि। मतलब विश्व युद्ध, चंद्रयात्रा, गांधी, आइंस्टाइन, माओ, पेले, तेंदुलकर, चर्चिल, हिटलर, स्टालिन, बुश आदि व्यापक मानव इतिहास के किसी कोने में होंगे जबकि आबादी बढ़ने की घटना निसंदेह पहले नंबर पर होगी।
हो भी क्यों ! मानव इतिहास में बीसवीं सदी जैसी जनसंख्या वृद्धि तो कभी हुई थी और ही आगे कभी होगी। आँकड़ों को देखें तो दुनिया की जनसंख्या ने 1800 ईस्वीं में एक अरब का आँकड़ा पार किया। एक से दो अरब पहुँचने में लगे 127 साल, दो से तीन अरब का आँकड़ा अगले 34 साल में पूरा हुआ। दुनिया तीन से चार अरब की आबादी तक पहुँची 13 साल में, चार से पाँच अरब पहुँचने में भी 13 साल ही लगे। इसके बाद की एक अरब आबादी जुड़ी 12 साल में। मतलब 1999 ईसवीं में हम छह अरब का आँकड़ा पार कर चुके थे। इस तरह बीसवीं सदी में दुनिया की आबादी में 4.31 अरब की बढ़ोतरी हुई। यह इससे ठीक पहले यानी 19वीं सदी में हुई बढ़ोतरी से सात गुना ज़्यादा है।
अब आगे का पैटर्न क्या रहेगा? इस सवाल का जवाब संयुक्त राष्ट्र के जनसंख्या विशेषज्ञ इस तरह देते हैं - आबादी के छह से सात अरब होने में लगेंगे 14 साल। लेकिन इसके बाद यह अंतराल बढ़ने लगेगा। सात से आठ अरब होने में एक साल ज़्यादा यानी 15 साल लगेंगे, आठ से नौ अरब तक पहुँचा जाएगा 26 वर्षों में, जबकि नौ से दस अरब तक पहुँचने में लगेंगे कोई 129 साल।
मतलब पिछली सदी में आबादी जितनी बढ़ी, आगे उतनी बढ़ोतरी होने में दो शताब्दी लगने वाली है। संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि 10 अरब तक पहुँचने के बाद दुनिया की आबादी में स्थिरता जाएगी। ऐसा क्यों होगा?
इसके पीछे एक सरल सिद्धांत है - किसी भी विकासशील देश में सबसे पहले मृत्यु दर में कमी देखने को मिलती है, फिर दीर्घावधि के विकास के साथ जन्म दर में कमी आती है। जब प्रति महिला जन्म दर दो या उससे कम हो जाती है तो आबादी बढ़ने की रफ्तार कम होने लगती है। कई दशकों तक यह स्थिति बने रहने पर अंतत: उस देश की आबादी स्थिर हो जाती है।
अधिकतर विकसित देशों में जनसंख्या स्थिरता के दौर में चुकी है। इटली जैसे देश में तो प्रति महिला औसत जन्म दर घटकर 1.3 तक पहुँची है। अधिकतर  विकासशील देशों में भी जन्म दर घटने लगी है ;लेकिन अब भी गिरावट की दर बहुत धीमी है। विशेषज्ञों की मानें तो 2050 तक विकसित देशों की कुल जनसंख्या अपरिवर्तित ही रहेगी यानी 1.2 अरब। लेकिन विकासशील देशों की कुल आबादी इस दौरान 5.2 अरब से आगे बढ़कर 7.8 अरब तक पहुँच सकती है। भारत की आबादी में 20 करोड़ से ज़्यादा वृद्धि होगी और संभवत: सन 2030 तक भारत जनसंख्या की दृष्टि से चीन को पीछे छोड़कर दुनिया में पहले स्थान पर पहुँचेगा। हालांकि भारत में गरीब लोगों की संख्या पहले की तरह बहुत बड़ी है किंतु गरीबी की रेखा के नीचे रहने वाले लोगों की संख्या लगातार घट रही है। अगर सन 2000 में उनकी संख्या आबादी में 51 प्रतिशत थी तो सन 2019 तक वह 22 प्रतिशत रह जाएगी।
भारत में हर मिनट 25 बच्चे पैदा होते हैं। यह आँकड़ा उन बच्चों का है, जो अस्पतालों में जन्म लेते हैं। अभी इसमें घरों में पैदा होने वाले बच्चों की संख्या नहीं जुड़ी है। एक मिनट में 25 बच्चों का जन्म यह साफ करता है कि आज चाहे भारत में कितनी भी प्रगति हुई हो या भारत शिक्षित होने का दावा करे, किंतु यह भी एक सच्चाई है कि अब भी देश के लोगों में जागरूकता की कमी है। जागरूकता के लिए भारत में कई कार्यक्रम चलाए गए, ‘हम दो हमारे दोका नारा लगाया गया। भारत में गरीबी, शिक्षा की कमी और बेरोज़गारी ऐसे अहम कारक हैं, जिनकी वजह से जनसंख्या का यह विस्फोट प्रतिदिन होता जा रहा है। आज जनसंख्या विस्फोट का आतंक इस कदर छा चुका है कि हम दो हमारे दोका नारा भी अब असफल सा हो गया है। इसलिए भारत सरकार ने नया नारा दिया है- छोटा परिवार, संपूर्ण परिवार लेकिन आजकल इन नारों की जैसे कोई  अहमियत नहीं रह गई है क्योंकि जनसंख्या मानो कोई प्राथमिक मुद्दा नहीं रह गया है।
भारत की बढ़ती हुई जनसंख्या का एक दूसरा पहलू भी है। चिंता की बजाय यह आने वाले समय में वरदान भी बन सकती है। अगर हम पूँजीपतियों की मानें तो आने वाले समय में खपत की बहुलता के चलते भारत विश्व का सबसे बड़ा बाज़ार होगा। परिणामत: विश्व के बड़े-बड़े उद्योगपतियों की नज़र भारत पर होगी। जिसकी शुरुआत वैश्वीकरण के नाम पर हो चुकी है। उदाहरणार्थ, ऑटोमोबाइल, शीतल पेय जैसी कंपनियाँ भारत के हर नागरिक तक अपनी पहुँच बनाने को बेकरार है तो वहीं भारतीय बाज़ारों में मोबाइल कंपनियों की बाढ़-सी गई है। और तो और, त्योहारों का भी पूंजीकरण कर समय-समय पर बाज़ार लुभावने तरीके निकालकर लोगों को आकर्षित करने का प्रयास करता है। आर्थिक सुधार के नाम पर प्रत्यक्ष विदेशी निवेश। जैसे भारत सरकार विश्व के लिए हर संभव रास्ता खोलना चाह रही है। दुनिया के बड़े-बड़े व्यापारी आज भारत में आना चाहते हैं। ((स्रोत फीचर्स)

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष