September 15, 2017

खोज

         क्या पानी का स्वाद होता है?
यह बहस बहुत पुरानी है कि पानी का अपना कोई स्वाद होता है या वह सिर्फ विभिन्न स्वादों का वाहक है। अब तक यही मत बना है कि हमारी जीभ पाँच स्वादों को भाप सकती है - नमकीन, खट्टा, मीठा, कड़वा और उमामी। उमामी नामक स्वाद इस सूची में काफी देर से जुड़ा है और यह मोनो सोडियम ग्लूटामेट नामक पदार्थ का स्वाद होता है। इस स्वाद के लिए ऽिाम्मेदार घटक टमाटर में काफी मात्रा में पाए जाते हैं। इस सूची में पानी का नाम नहीं है। मगर ताऽाा अनुसंधान दर्शा रहा है कि पानी को पहचानने के लिए अलग से तंत्रिकाएँ होती हैं। इन तंत्रिकाओं की उपस्थिति पहले कीटों और उभयचरों में देखी गई थी और अब स्तनधारियों में ऐसी तंत्रिकाएँ खोजी गई हैं।
पहले किए गए प्रयोगों में पता चला था कि स्तनधारियों के मस्तिष्क के हायपोथेलेमस नामक हिस्से में पानी की उपस्थिति को पहचानने की क्षमता होती है और यहीं से किसी जीव को पानी पीने अथवा रुक जाने के संदेश मिलते हैं। किंतु हायपोथेलेमस को ये सूचनाएँ तो मुंह और जीभ से ही मिलती होंगी। तो कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नॉलॉजी के यूकी ओका व उनके साथियों ने इसे समझने के लिए कुछ प्रयोग किए।
पहले तो उन्होंने चूहे की जीभ पर पानी को भांपने वाली कोशिकाओं की तलाश की। इसके लिए उन्होंने स्वाद कोशिकाओं को चुन-चुनकर काम करने से रोकने की रणनीति अख्तियार की। इस प्रयास का सबसे रोचक नतीजा यह निकला कि जो कोशिकाएं तेऽााब (खट्टेपन) को भांपती हैं, वे पानी मिलने पर भी अति सक्रिय हो उठती हैं। जब खट्टी स्वाद कोशिकाओं से वंचित चूहों को पानी या एक अन्य तरल पीने को दिया गया तो उन्हें सामान्य चूहों की अपेक्षा यह निर्णय करने में ज़्यादा समय लगा कि पानी कौन-सा है।
इसके बाद टीम ने एक और तकनीक का सहारा लिया - इसे प्रकाशीय जेनेटिक्स कहते हैं। इसमें तंत्रिका कोशिका को लेसर प्रकाश देकर वही क्रिया करने को उकसाया जा सकता है जो वे तब करतीं जब उन्हें उनको उकसाने वाला पदार्थ मिलता। टीम ने ऐसे चूहे तैयार किए जो खट्टे स्वाद वाली कोशिका में ऐसी प्रकाशीय क्रिया दर्शाते हैं। नीला प्रकाश मिलने पर वे पानी पीने को प्रेरित होते हैं। जब इनके सामने नीले प्रकाश का एक फव्वारा रखा गया तो वे उस प्रकाश को पीने की कोशिश करने लगे मगर रुक ही नहीं रहे थे क्योंकि उन्हें पानी तो मिल नहीं रहा था। नीले प्रकाश से प्यास थोड़े ही बुझती है। नेचर न्यूरोसाइन्स में प्रकाशित इस शोध पत्र में बताया गया है कि ये चूहे कभी नहीं ताड़ पाए कि वह नीला प्रकाश पानी नहीं है। अर्थात लेसर से मिलने वाला संकेत उन्हें पानी पीने को तो उकसा सकता है मगर यह नहीं बता सकता कि कब रुकना है।
अभी यह स्पष्ट नहीं है कि खट्टे स्वाद वाली स्वाद ग्रंथियाँ पानी के प्रति संवेदनशील किस तरह से हो जाती हैं किंतु एक परिकल्पना यह है कि शायद पानी पीने से स्वाद ग्रंथियों पर से लार की परत ह ट जाती है और इसकी वजह से कोशिका के अंदर की अम्लीयता बदलती है और यह संदेश दिमाग को मिलता है। यही पानी का स्वाद है। अब इसे स्वाद कहें या मात्र पानी की चाह का नियमन, यह तो शायद शब्दों का खेल है। (स्रोत)

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष