July 25, 2017

अनकही:

 बात
 खुशियों
 की... 
- डॉ. रत्ना वर्मा
बारिश का मौसम है और हमारे आसपास हरियाली दिखाई देने लगी है। पेड़-पौधों के पत्तों से धूल की परतों को बारिश ने धो दिया है और वे चमक रही हैं। रंग- बिरंगे फूलों में तितलियाँ और भौंरों का गुंजन सुनाई देने लगा है। तरह तरह के पंछी चहचहाते हुए इस डाल से उस डाल फुदक रहे हैं। बया अपना नया संसार बसाने तिनके तिनके जोड़कर खूबसूरत घोसला बनाने में जुट गई है । ऐसे खुशनुमा माहौल में बादलों का उमड़ना घुमड़ना देख कर मन प्रसन्न हो जाता है। रिमझिम बारिश में किसी को चाय और पकौड़े खाने का मन करने लगता है, तो कोई गरमा गरम भुट्टे का आनन्द लेना चाहता है। कहने का तात्पर्य यही कि भीषण गर्मी के बाद जब बादल बरसते हैं तो धरती की तपन को तो राहत मिलती ही है, हम सब भी सुकून की साँस लेते है... कुछ इसी तरह के खुशनुमा मौसम में आज बादलों को बरसते देख विचारों का एक ठंडा झोंका सा आया... और मैं सोचने लगी कि मौसम बदलता है तो हम अपने जीने का तरीका भी थोड़ा बहुत बदल लेते हैं। बदलाव जीवन का अंग है चाहे फिर वह मौसम हो या इंसान। पर प्रश्न यहाँ यह उठता है कि हम इस बदलाव को जीवन में ढालते कैसे है। अच्छा खाना, अच्छा पहनना और अच्छे से खुशी-खुशी जीवन गुजारना। यह तो हर कोई चाहता है, लेकिन क्या हम इतने मात्र से संतोष प्राप्त कर लेते है, समस्या यही है हमारी चाहतों का कोई अंत नहीं होता। अंतहीन चाहतों का नतीजा परेशानी, मुसीबतें और दुख। थोड़े में खुश होना हमें आता नहीं तो बहुत के बीच से खुश होने के कोई एक बहाना ढूँढ़ते हैं, पर खुशी कोई चीज तो है नहीं कि बाजार से खरीदी और खुश हो लिए। हाँ अक्सर लोग खुश होने के लिए पार्टी करते हैं, फिल्में देखते हैं और सोचते हैं कि हमने खुशी पा ली। पर सच तो यह है यह सब क्षणिक खुशी है।
जब हम अपने लिए अच्छा घर अच्छा काम और अच्छा परिवार पा लेते हैं अपनी और अपने परिवार की सभी ज़रूरतेँ बिना किसी परेशानी के पूरा कर लेते हैं, पैसा कमा रहे हैं तो उन्हें अच्छे से खर्च तो करना ही है सब कुछ है फिर भी और अच्छे की चाहत में भागते ही रहते हैं। अब आप ये कह सकते हैं कि अच्छा जीवन गुजार रहे हैं तो क्या चुपचाप बैठ जाएँ....क्येंकि परमसंतोषी जीव बनकर बैठ जाना भी तो जीवन को नीरस बना देता हैं । तब क्या करें, क्या चाहतों और उपभोग की वस्तुओं के पीछे भागना ही कुछ करते रहने का नाम है। क्या हम कुछ अलग हट कर थोड़ा सा दूसरों के लिए मानवता के नाम पर काम करके अपनी ऊर्जा को बनाए नहीं रख सकते, कर सकते हैं और बहुत अच्छे से कर सकते हैं। अपने लिए तो हम हर मुसीबत हर पहाड़ चढ़ने को तैयार रहते हैं तो थोड़ी मेहनत एक ऐसी खुशी से लिए जिसका कोई मोल नहीं होता भी कर लें-बहुत बड़ा करने या बहुत ज्यादा कुछ करने की बात मत सोचिए। अपने रोज की दिनचर्या में न सही महीने में एक दिन या साल में कुछ दिन समाज के लिए देश के, लिए, उपेक्षित, पीड़ित मानवता के लिए तो समय हम निकाल ही सकते हैं।
दसअसल आज हमनें अपना जीवन इतना अधिक उलझा लिया हैं कि बेहतर तरीके से जीना छोड़कर समस्याओं के जाल में उलझ गए हैं। जितनी जरुरत है उतनी आश्यकताओं में जीना सीखने के बजाए और अधिक और अधिक के पीछे भागते चले जाते हैं। इस भागमभाग में हम छोटी छोटी खुशियों के लिए भी तरसते रहते हैं। याद करने की कोशिश कीजिए कि आपने अपने पूरे परिवार के साथ एकसाथ बैठकर कब खाना खाया था। मुझे याद है अपने बचपन में हम सब भाई बहन दिन का तो नहीं पर रात का खाना एक साथ बैठकर खाते थे। टेबल में खाना लगते ही सबको खाने के लिए आवाज लगाई जाती थी और सब हाज़िर। स्कूल कॉलेज की बात हो या किसी की कोई आवश्यकता हो, कोई परेशानी हो सब कह सुन लिया जाता था और हल भी उसी समय निकाल लिया जाता था। कोई काम की बात न हो तो भी हँसी खुशी से गप्प- बाजी करते हुए खाना समाप्त करते थे। एक और बात जो आजकल के परिवारों में मुझे देखने को मिलती है वह ज़रूरत का समान खरीदने में –चाहे वह कपड़े हों, घर की सजावट का सामान हो या जेवर, बतर्न आदि...एक समय था जब साल में एक या दो बार खासकर दीपावली में नए कपड़े खरीदे जाते थे। बहुत उत्साह के साथ उस नए कपड़े को पहन कर दीपावली मनाते थे। आज नए कपड़े पहनने की वैसी खुशी महसूस ही नहीं होती। जन्म दिन मनाने जैसा कोई उत्सव तब होता ही नहीं था। कब जन्म दिन आया कब निकल गया याद ही नहीं रहता था। तो जन्म दिन पर कपड़े लेने का प्रश्न ही नहीं उठता था। अब तो कपड़े खरीदने का जैसे कोई अवसर ही नहीं होता बिना अवसर के ही जब चाहे तब कपड़े खरीद लिए जाते हैं। जरूरत हो या न हो। 50 प्रतिशत छूट जो चल रही है तो दो चार क्यों न ले लिया जाए। कपड़ों से आपका वार्डरोब कितना भर गया है यह बिना देखे। पर बात सिर्फ कपड़ों की नहीं है अपनी ज़रूरतों की हर चीज़ की है। हमने अपनी आवश्यकताएँ बढ़ा-बढ़ाकर ही जीवन को उलझा लिया है। खुशियाँ कहीं गुम हो गईं हैं। जो हमारे पास है उसमे खुश रहना हम सीख ही नहीं पाए हैं, जो नहीं है उसके पीछे भागते हुए खुशी ढ़ूँढ़ते हैं। परिणाम, मुसीबतों का पहाड़ खड़ा कर लेते हैं और दिन रात उसी का रोना।
तो जीवन बस इन्हीं आवश्यकताओँ को पूरा करते करते कट जाता है। जब सोचने बैठते हैं कि जीवन में किया क्या तो नतीज़ा शून्य निकलता है...अरे हमने तो कुछ किया ही नहीं बस भागते ही रहे। जीवन तो व्यर्थ ही चला गया।

तो आइए सब मिलकर थोड़ा- थोड़ा करके अपने अंदर की छोटी-छोटी खुशियों को हासिल करने का प्रयास करें। अब आप सोचेंगे छोटी खुशी क्या होती है- चलिए एक छोटे से उदाहरण से शुरू करते हैं- आप हर साल नए कपड़े खरीदते हैं । हर साल कुछ कपड़े पुराने भी हो जाते हैं- क्या करते हैं आप उनका- आपकी अलमारी के किसी कोने में पड़े जगह ही तो घेरते रहते हैं। तो साल में एक बार ऐसे कपड़ों को जो आप उपयोग में नहीं ला रहे हैं अलग करिये और उन लोगों तक पहुँचाने की कोशिश कीजिए जिन्हें इसकी जरूरत है। ऐसे बहुत लोग आपको अपने आसपास ही मिल जाएंगे। आपको अपनी अलमारी का वह कोना खाली होने पर तो खुशी मिलेगी ही पर ज्यादा खुशी मिलेगी किसी जरूरतमंद की आवश्यकता पूरी करके। ये तो हुई पुराने कपड़ों की बात किसी त्योहार में या दीपावली में आप अपने लिए ,तो नए कपड़े खरीदते ही हैं,एक बार आप कुछ ऐसे बच्चों को भी नए कपड़े दे कर देखिए जो दीवाली में तो क्या किसी भी अवसर पर कभी भी नए कपड़े नहीं पहन पाते। तब उनके चेहरे की खुशी देखकर आपको जो खुशी मिलेगी वह अनमोल होगी। इसी तरह की खुशी हम घर के अन्य सामान को देकर भी हासिल कर सकते हैं बशर्ते वे कपड़े, जूते चप्पल, बतर्न, गद्दे चादर, पर्दे, फर्नीचर आदि कुछ भी जिन्हें आप दे रहे हों वह उनके काम की हो। विदेशों में तो इस तरह की पुरानी चीजों को दान में देने के लिए सेंटर खुले होते हैं। लोग वहाँ अपना सामान रख जाते हैं जहाँ से जरूरतमंदों को सेंटर खुद ही पहुँचा देता है।  मुझे याद है एक दो साल पहले हमारे देश में भी कुछ इसी तरह का काम करने की कोशिश हुई थी। फेसबुक में एक खबर बहुत शेयर की गई थी- नेकी की दीवार  जिस पर लिखा था- जो आपके पास अधिक है यहाँ छोड़ जाएँ, जो आपकी ज़रूरत का है यहाँ से ले जाएँ – यह शहर का कोई सार्वजनिक जगह होता था जहाँ एक दीवार होती थी और सामने कुछ जगह दीवार में कुछ कीलें ठोंक दी जाती थीं और नीचे जमीन पर कोई बड़ा कपड़ा या चादर बिछा कर उसमें लोग अपने घर की अनुपयोगी पर सही काम आने वाली वस्तुएँ रख जाया करते थे, कपड़े दीवार में टाँग देते थे। जरूरतमंद व्यक्ति आते जाते अपने काम की वस्तु वहाँ से उठा कर ले जाता था। यह अभियान कितना सफल हुआ यह तो पता नहीं पर जिसने भी शुरू किया था उसकी नीयत साफ थी। यदि कुछ लोग मिलकर ऐसा कुछ काम माह में एक दिन वालिंटियर के तौर पर ही सही करना शुरू कर दें तो मेरा विचार है अपनी खुशी के साथ साथ हम दूसरे बहुत लोगों को खुशियाँ बाँट सकते हैं।

बात बारिश की खुशियों से हुई थी... पर खतम कहीं और की खुशियों से हो रही है। जो भी है बात तो खुशियों की ही है। 

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष