May 16, 2014

कहानी सुनाने की कला

विश्व की सर्वश्रेष्ठ किस्सागो थी वह बुढिय़ा

हरिकृष्ण देवसरे
 अपनी बात शुरू करने से पहले एक छोटा-सा किस्सा सुनाता हूँ। अकबर के दरबार में एक बार बीरबल विलम्ब से पहुँचे। अकबर ने बीरबल से विलम्ब का कारण पूछा तो बीरबल ने कहाहुजूरमेरे घर में एक छोटा बच्चा रूठ गया था। उसे मनाने में देर लग गई ।

क्या कहते हो बीरबल। भला बच्चे को मनाना कोई मुश्किल काम हैजो तुम्हे इतनी देर लगी। अकबर ने कहा।
यकीन कीजिए हुजूर बच्चों को मनाना बड़ा मुश्किल काम है। बीरबल ने कहा।
हम नहीं मानते। अकबर ने कहा। तब बीरबल बोलेहुजूर हाथ कंगन को आरसी क्यामैं बच्चा बन जाता हूँ आप मुझे मनाकर देखिए।
बादशाह अकबर सहमत हो गए। बीरबल ने बच्चा बनकर रोना शुरू किया।
अकबर ने पूछाक्यों रोता है?
मुझे गन्ना चाहिए। बीरबल ने कहा।
ठीक है गन्ना पेश किया जाये। अकबर ने आदेश दिया।
गन्ना आया तो बीरबल ने कहाइसकी गंडेरिया काट दो। तुरंत गन्ना छीलकर उसकी गंडेरिया काट दी गईंलेकिन बीरबल फिर रोने लगे।
‘’अब क्या चाहिए?’’- अकबर ने पूछा
इन गंडेरियों को जोड़ दो। बीरबल के यह कहने पर अकबर सचमुच चकरा गए और बोलेमान गए बीरबलतुम ठीक कहते थे। लेकिन अब हम असली बच्चे का मज़ा देखना चाहते हैं।
बीरबल ने तुरंत अपने नाती को बुलवा भेजा। नाती आया तो आते ही मचल गया।
अरे बच्चेक्या चाहिए। अकबर ने पूछा।
एक गिलास पानी चाहिए। बच्चे ने कहा।
तुरन्त पानी पेश किया गया। पानी आने पर बोलाअब नहीं पीना पानी। और रोने लगा।
तो क्या चाहिएबीरबल ने पूछा।
मुझे हाथी चाहिए!
अकबर बोलेबेटे इतना बड़ा हाथीहमारे दरबार में यहाँ कैसे आ सकता हैलेकिन बच्चे ने तो हाथी के लिए जिद पकड़ ली थी। वह रोने लगा।
बीरबल ने कहाहुजूर परेशान न हों। मैं कुछ उपाय करता हूँ। और बीरबल ने छोटा-सा हाथी का खिलौना मँगा दिया,
लेकिन बच्चा फिर रोने लगा। बोलाहाथी को पानी के गिलास में डाल दो।
लो डाल दिया! बीरबल ने कहा।
अब हाथी पर बादशाह को बिठा दो। बच्चे ने जैसे ही यह कहा तो सारे दरबार में हँसी का फौव्वारा छूट पड़ा।
अकबर ने कहाबीरबलहम बिल्कुल मान गए। बच्चे को मनाना बहुत मुश्किल काम है।
बच्चों की रुचि को समझनाउन्हें मनाना और प्रसन्न रखना सरल काम नहीं है। बच्चों को मनाने का पारम्परिक उपाय उन्हें तरह-तरह की कहानियाँ सुनाना भी रहा है। बड़ी उम्र के बच्चों को रात में आराम की नींद सुलाने में भी कहानियों की बड़ी  महत्त्वपूर्ण भूमिका रही है। कहानियाँ बच्चों को सपने में वास्तविकता का आनंद देती हैं। अपने कल्पना-जगत् में उन कहानियों के नायक वे स्वयं बनकर उनके सुख-दुख को अनुभव करते हैं। बच्चों को उन्हीं कहानियों को सुनने में आन्न्द आताजिन पात्रों से उनका तादात्म्य स्थापित हो जाता है। बच्चों को कहानियाँ सुनाने वाले दादा-दादी या नाना-नानी जानते हैं कि ऐसी कहानियों का चयन करना कितना मुश्किल काम है। बच्चों को वे जैसे ही कहानी सुनाना शुरू करते हैं कि बच्चे कह देते हैंये कहानी तो हम पहले सुन चुके हैं। तब हर दादा-दादी  या नाना-नानी के लिए रोज एक नई कहानी सुनाना भी मुश्किल हो जाता हैलेकिन तब भी वो कुछ न कुछ सोचकरकोई न कोई कहानी सुनाते ही हैं। मैंने ऐसे कई लोगों को देखा हैजो पुस्तकालयों में बैठकर कहानियों की किताबें पढ़ते हैं और फिर जाकर अपने पोते-पोतियों को कहानियाँ सुनाते है। लेकिन ऐसे भी लोग मैंने देखे हैंजिनके पास कहानियों का अटूट भंडार हुआ करता था। वे लोककथाओंपंचतंत्रकथा सरित्सागरअरेबियन नाइट्स आदि के अलावा अपने जीवन के अनुभवों के विपुल भंडार हुआ करते थे। ऐसे लोगों से कहानियाँ सुनने वाले बच्चे कभी ऊबते नहीं थेक्योंकि उन्हें उनसे हर बार नई  कहानी ही सुनने को मलती थी।
कहानियों के विपुल भंडार वाले ऐसे दादा-दादी या नाना-नानी की जो श्रोता बाल-मंडली होती थीउसकी स्थिति उल्टी होती थी। उन्हें जो कहानी बहुत पसंद होती थीउसे वे बार-बार सुनने की फरमाइश किया करते थे। उन सुनाने वालों की परेशानी यह होती थी कि उन्हें एक कहानी को कई बार सुनाने में ऊब अनुभव होने लगती थी। फिर भीबच्चों की फरमाइश के सामने उन्हें झुकना पड़ता था। अलीबाबा चालीस चोरसिंदबाद जहाजी के किस्सेकिस्सा चहार दरवेश आदि कुछ ऐसी ही कहानियाँ थीं। इसके अलावा वे सभी कहानियाँ भी बहुत अच्छी लगती थींजिनमें रहस्य-रोमांच होता थाजिनमें कौतूहल होता थाजैसे किस्सा गुलबकावली आदि।
बड़ों द्वारा बच्चों को कहानियाँ सुनाने की इस परम्परा का एक  सबसे बड़ा लाभ यह होता था कि उनसे बच्चों को अपने समाजइतिहासदेशधर्म और संस्कृति की बहुत-सी बातें जानने को मिलती थीं। आज के आधुनिक समाज मेंछोटे परिवारों मेंनौकरी के कारण माता-पिता से दूर रहकर जीवन जीने के लिए विवश परिवारों में यह परम्परा खत्म होती जा रही है। और पठन-पाठन में कम होती हुई रुचि के कारण भविष्य में दादा-दादी बनने वाली आज की पीढ़ी में तो कहानी सुनाने की इस कला का बिल्कुल लोप हो जाएगा। आज कुछ परिवार भले ही मिल जाएँजिनमें बुजुर्ग लोग अपनी भावी पीढ़ी को किस्से-कहानियाँ सुना देते होंलेकिन भविष्य के प्रति आज आशान्वित होना सम्भव नहीं दिखता।
बड़ों द्वारा बच्चों को कहानी सुनाने के कई उद्देश्य होते थे और  उन कहानियों से वे इन निश्चित लक्ष्यों को भी प्राप्त कर लेते थेजिन्हें वे उन कहानियों के माध्यम से पाने का प्रयास करते थे। उनकी लोककथाओं में जीवन के अनुभव हुआ करते थे- समाज व्यवस्थालोकव्यवहारआचार-विचार के साथ-साथ जीवन और समाज के कुछ ऐसे शाश्वत-मूल्यों को वे बच्चों में संप्रेषित करने में सफल होते थेजिन्हें उपदेश देकर समझाना कठिन था। ये शाश्वत- मूल्यउनमें सत्यन्यायईमानदारीआत्म-सम्मानबड़ों का आदर आदि अनेक सद्गुणों के बीच स्वत: ही अंकुरित करा देते थे। सर्दी की लम्बी रात हो या गर्मी की दोपहरऐसे बुजुर्ग लोगअपनी कहानियों के अक्षय भंडार से बच्चों को बाँध लेते थे। इतिहास की कथाओं में जहाँ प्राचीन ऐतिहासिक पात्रों की शूरवीरता की कहानियाँ होती थींवहीं उनमें अपने देश और गौरव की भावना भी जागृत होती थी। रामायणमहाभारतपुराणों की  कहानियाँ उनमें भारतीय धर्म और संस्कृति के प्रति जागरूकता लाती थीं। इसके अलावा उनके अपने जीवन की अनेक ऐसी घटनाएँ होती थींजिनसे जीवन के प्रति बच्चों को ऐसे निर्देश मिलते थेजिन्हें वे शायद सहज प्राप्त न कर सकें।

दादा-दादी या नाना-नानी से कहानियाँ सुनने के लिएबच्चों में आकर्षण का एक अन्य कारण भी था। वह थी- उनकी कहानी सुनाने की आकर्षक कला। हमारे यहाँ एक जमाने में किस्सागो हुआ करते थे। ये तो पेशेवर किस्सा सुनानेवाले होते थे। लेकिन घर के दादा-दादी भी कहानी सुनाने की कला में कुछ कम माहिर न हुआ करते थे। वास्तव में कहानी के साथ-साथउसे सुनाने की कलासोने में सुहागे का काम किया करती थी। वे उन कहानियों को बड़े ही नाटकीय और प्रभावशाली अन्दाज में सुनाते थे और बच्चे उन्हें सुनते हुए अपनी कल्पना में उन्हें चित्ररूप में देखने लगते थे। ऐसी कहानियों का संकलन करते हुए एक बार ग्रिम-बन्धु एक गाँव में पहुँचेजहाँ एक बुढिय़ा रहती थी और उसके पास कहानियों का भंडार था। ग्रिम बन्धु उसके पास पहुँचे और उन्होंने उससे कहानियाँ सुनाने का आग्रह किया। उस बुढिय़ा ने एक शर्त रखी कि मेरे सामने कोई श्रोता-बालक होगातभी मैं कहानियाँ सुनाऊँगी। ग्रिम बन्धुओं को भी बात ठीक लगी कि श्रोता  होना ही चाहिए। वे तुरंत गाँव के कुछ मित्रों के पास गएऔर उनके बच्चों को वहाँ ले जाने की बात कहीकिन्तु उनके आश्चर्य का ठिकाना न रहाजब उन मित्रों ने अपने बच्चों को उस  बुढिय़ा के पास भेजने से साफ इनकार कर दिया। उन लोगों ने कहाजानते होवह बुढिय़ा-जादूगरनी हैडायन हैचुड़ैल है... बच्चों पर ऐसा जादू करती है कि वे रात में डरावने सपने देखकर चीखते-चिल्लाते हैंना बाबाहम ऐसी जादूगरनी के पास अपने बच्चे नहीं भेज सकते। तब ग्रिम- बन्धु दूर किसी गाँव में गए। वहाँ से किसी मित्र के बच्चे को लेकर आए। ग्रिम- बन्धु अपने उस अनुभव में लिखते हैं कि हमने उस बुढिय़ा के सामने बच्चे को बिठा दिया और हम दोनों दूसरे कमरे के द्वार पर पर्दे के पीछे बैठ गए। बुढिय़ा कहानी सुनाने लगी और हम कहानियाँ लिखने लगे। वह बुढिय़ा जब कहानी सुनाने लगी तो हमने अनुभव किया कि वह शायद कहानी-सुनाने की कला में माहिर विश्व की सर्वश्रेष्ठ किस्सागो थी। वह कहानी सुनाने के दौरान आवश्यकतानुसार चिडिय़ों की आवाज निकालती या शेर की तरह गुर्राती। कहने का मतलब यह कि वो वर्षाआँधीजानवरोंचीड़िय़ों आदि के ध्वनि प्रभाव अपने मुँह से पैदा करती और कहानी को अत्यधिक प्रभावशाली बना देती। इसी कहानी-कला का प्रभाव वह जादू थाजो बच्चों के मस्तिष्क पर छा जाता थाऔर उसी के प्रभाव के कारण वे सपनों में उन चित्रों को साकार देखकर डर जाते थे। लोग इस राज को जानते न थे और कहानी-सुनाने की कला में श्रेष्ठता-प्राप्त उस बेचारी बुढिय़ा को जादूगरनी या डायन कहकरउसका तिरस्कार करते थे।

हमारे यहाँ कहानी सुनाने की कला तो लुप्त हो ही गई  हैकहानी सुनाने की परम्परा भी मिटती जा रही है। एक तरफ दादा-दादी के पास कहानियों का अभाव दूसरी ओर जनसंचार माध्यमों का प्रसार और छपाई की सुविधाओं का प्रसार होने से लोग बच्चों को कहानियाँ सुनाने से कतराने लगे और आज दशा ये हो गई  है कि बच्चे शायद यह भी नहीं जानते कि दादा-दादी या नाना-नानी के पास जाने या बैठने का एक अर्थ यह भी हुआ करता था कि उनसे बढिय़ा रोमांचक कहानियाँ सुनने को मिला करती थीं।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष