May 16, 2014

लोरी

आजा रे चंदा...
- डॉ. सुधा गुप्ता
आ जा रे चन्दा !
मुनिया की आँखों में
निंदिया छाई
रेशम के पंखों पे
बैठ के आई
शहद -भरी लोरी
सुना जा रे चन्दा !
आ जा रे चन्दा !
मुनिया की आँखों में
मीठे सपने

घूम-घूमझूम
तितली लगी बुनने
जादू -भरी छड़ी
छुआ जा रे चन्दा !
        आ जा रे चन्दा !          

Labels: ,

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home