March 14, 2014

होली

     फागण आयो रसिया...

                   - ज्योत्स्ना 'प्रदीप'

बसंत ऋतु प्रकृति के यौवन की ऋतु है उस पर इस रूपसी के आँचल को स्पर्श करता- फागुन मास। सभी के आकर्षण का केन्द्र बन जाते हैं युगल प्रेमी। शायद इस महा-मिलन के अवसर पर ही भ्रमर आम्र मंजरियों को राग सुनाते हैं, सरसों मानो हल्दी का उबटन लगा और भी निखर जाती है गेहूँ की बालियाँ, नव परिधान मे खिलखिलाती हैं, कोकिल सबको मंगल गीत सुनाकर निमंत्रण देता है। एक मनचला अतिथि मुट्ठियों मे रंग, बाहों में ढेर सारा प्यार समेटे, अधरों पर लोकगीतों के मधुर स्वर लिये आता है, हमारा लाडला त्योहार- होली। होली भक्त प्रह्लाद की विजय का प्रतीक है, बुराई पर सत्य की जीत अर्थात् सत्य सतयुग से ही विजयी रहा है और बुराई को अग्नि भी क्षमा नहीं करती जैसे होलिका के साथ हुआ था।
हिन्दू पंचांग के अनुसार ये फागुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। पहले दिन को होलिका दहन तथा दूसरे दिन को धूलिवन्दन या दुल्हेंडी कहते हैं । वाद्य, नृत्य और लोकगीत होली के प्रमुख अंग है। हम बचपन से ही लोकगीतों की मिठास का रसास्वादन करते आ रहे हैं। फागुन मे लोकगीतों की परंपरा अत्यंत प्राचीन है शायद इस परंपरा का आरंभ तब से हुआ होगा जब से मानव के भीतर रसिकता का प्रादुर्भाव हुआ होगा। भारत मे लगभग सभी प्रांतों मे लोकगीत गाए जाते हैं; मगर उत्तर और पश्चिम भारत मे होली के लोकगीतों की छटा बड़ी निराली है। होली दहन के अंतर्गत गेहूँ की बालियाँ अग्निदेव को अर्पित करते हैं; तो लोगों की खुशी और भी बढ़ जाती है। सामूहिक रूप से होली दहन के बाद लोकगीत गाए जाते हैं। अग्नि के चारों ओर गाया जाने वाला ये लोकगीत प्रेम से परिपूर्ण हैं जिसे ढोल चंग और मंजीरों के साथ गाया जाता है -
फागण आया, फागण्यो रंगा द्यो रसिया,फागण आयो।
माथा ने मैमंद ल्याओ रंग रसिया,
काना न कुंडल ल्याओ रंग रसिया,
तो रखड़ी रतन जड़ाद्यो रसिया,फागण आयो।
राजी-राजी बोल गौरी,फागण्यो रंगाद्यू,
राखूं म्हारी प्यारी धण ने,
जीव की जड़ी, कचनार की कली, फागण आयो।
फागण आयो रसिया, खेला होली, फागण आयो।
दूसरे दिन को धूलिवन्दन कहते हैं सम्पूर्ण समाज को नव-चेतना  देने वाला दिन... रंगो तथा गुलाल की बरसात... सभी लोग इस उत्सव को बड़े उत्साह के साथ मनाते हैं। यह बड़ी मस्ती का दिन होता है । बच्चे, बूढ़े, जवान टोलियाँ बनाकर घर-घर जाकर खूब नाचते गाते हैं। प्रेम, मस्ती रंग और उस पर भंग! होली की टोली की मद भरी  ठिठोली देखिए।
होली का त्योहार है जमा हुआ है रंग,
छा जाएगा बाद में पहले घोट लो भंग।
दैनिक जीवन की ऊब को प्रसन्नता में बदलने वाला दिन लोक गीतों का इसमे बहुत बड़ा हाथ हैये गीत आनंद, हास-उल्लास के प्रतीक हैं। रंग, गुलाल,  केसर,  अबीर,  कुमकुम,  टेसू के फूल और साथ में बहुत सारी छेडख़ानी होती हैइन गीतों में-
जा साँवरियाँ के संग, रंग में कैसे होली खेलू री
कोरे-कोरे कलश भराये, जामे घोरौ ये रंग
भर पिचकारी सन्मुख मारी, चोली है गई तंग
ढोलक बाज़ै, मजीरा बाजै और बाजै मृदंग,
कान्हाजी की वंशी बाजै, राधाजी के संग
लहँगा त्यारो, दूम घुमारौ, चोली है पचरंग,
खसम तुम्हारे बड़े निखट्टू चलौ हमारे संग
उत्तर भारत में कई स्थानों में ऐसी मान्यता है कि लड़की का विवाह जिस साल हुआ हो उसे उस साल की होली को देखना नहीं चाहिए। ऐसी हालत में पिया अगर होली खेलने नहीं आता तो ये दशा तो होनी ही है उसकी-
फागुन में सखि फगुआ मचत है सब सखि खेलत फाग,
खेलत होली लोग करेला बोली, दगधत सकल शरीर।
एक लोक गीत-विरहिन की व्यथा का सुन्दर वर्णन -
पिया बिन नींद नहीं आवै
सखि फागुन मस्त महीना,
सब सखियन मंगल कीन्हा,
अरे तुम खेलत रंग गुलालै,
मोहे पिया बिन कौन दुलावै?
पिया  बिन नींद नहीं आवै
होली के लोक गीत मन मे छिपी संवेदनाओं को बरबस ही सबके समक्ष ले आते है। दु:ख व सुख दोनों को ही रागात्मक परिधान पहना देते है। सच पिया बिन होली का आनन्द है भी  कहाँ?
ब्रज के वायुमंडल में मानो राधा कृष्ण के दिव्य स्वर आज भी लोगो के पोर-पोर में रचे बसे हैं यहाँ के लोक गीत भक्ति रस का अनुष्ठान तो करते ही हैं साथ ही उल्लास की प्राणप्रतिष्ठा  भी करते हैं। कभी-कभी तो लोक गीत मन की शुद्धि को परमात्मा के मार्ग से मिला देते हैं। गुलाल...भोर की लाली -सा... कर्मों  की ओर अग्रसर करके ब्रज की धरा को आशीर्वादित करता है; जब वो बसंती पवन में नाचता ये लोक गीत सुनता है, तो धन्य हो जाता है-
आज बिरज में होरी है रे रसिया
उड़त गुलाल लाल भये बदरा
केसर की पिचकारी है रे रसिया। आज बिरज में ...
बाजत बीन,  मृदंग,  झाँझ ओ डफली
गावत दे-दे- तारी है रे रसिया। आज बिरज में ...
ब्रज से कुछ ही दूर बसा है बरसाना- जहाँ वो लोग रहते है जो नगरों के सुसंस्कृत समझे जाने वाले लोगों की अपेक्षा अधिक भोले हैं। शायद इसलिए वे उल्लास की परिधि को पार कर दिव्य-आनन्द को छू लेते है इस पर्व पर।  बरसाना- जहाँ  बरसती है होली की रसधार,  नन्दगाँव के हुरियारे... कृष्ण और उनके सखा बनकर राधा के गाँव बरसाने जाते है। वहाँ की बालाएँ राधाजी और उनकी सखियो के धर्म का पालन करते हुए उनको रंगो की वर्षा में भिगो-भिगो कर वातावरण में अमृत -सी मिठास लिये यह गीत गाती हैं-
फ़ागत खेलत बरसाने आये हैं
नटवर नन्द किशोर।
घेर लई सब गली रंगीली
छाय रही छवि घटा रंगीली
ढप, ढोल, मृदंग बजाये है
वंशी की घनघोर
कभी-कभी तो बालाओं के प्रहारो से गोप लहूलुहान भी हो जाते हैं, पर चिंता कैसी? भगवान -इस जग के पालनहार हैं ना उनके साथ! जै गिर राज  बोल कर लो फिर से कूद गये रंगो के इस अनोखे समर में -
ले रहे चोट ग्वालन ढालन पै
हरिहर बाँमँगाये हैं, चलन लगे चहुँओर
नमन है ऐसी होली... ऐसे गीत... जो संतापो के गर्त को हटाकर...प्रेम बरसा दें...जीवन को इन्द्रधनुष बना दें....ऐसा इन्द्रधनुष ....जो वाद्ययंत्र के समान ...अपने में समाये स्वर..उस पर लुटा दे, जो उसे केवल  स्पर्श करता है ...बिन जाने कि उसे छूने वाला कौन है।

सम्पर्क: क्वार्टर नं-5, टाइप-3, सी आर पी एफ कैम्पस, जलन्धर- 144801 (पंजाब), Email-jyotsanapardeep@gmail.com

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष