September 27, 2012

विज्ञान

आकाश से टपकता सौंदर्य हिमकण

- नरेन्द्र देवांगन
हिमकण प्रकृति की अनंतता के प्रतीक हैं। ये गिरते हैं, हवा में तैरते हैं और फिर पिघल जाते हैं, दुबारा अनेकानेक रूप बदलकर वापस आने को। कहते हैं कि विल्सन बैंटली मानते थे। 

लड़कपन में विल्सन बैंटली ने एक हिमकण को सूक्ष्मदर्शी से देखा और उन्होंने जो कुछ देखा उसने उनकी जीवन की धारा का रुख ही मोड़ दिया, सर्दियों के प्रति उनका दृष्टिकोण ही बदल गया। बिना किसी से फोटोग्राफी सीखे या विज्ञान पढ़े, पेशे से किसान बैंटली ने अकेले ही तुषार कणों का अध्ययन आरंभ किया। उन्हें एक काले पटल पर रखकर पिघलने से पहले ही वे उनके फोटो उतार लेते। वरमोंट की कड़ाके की 46 सर्दियों में अकेले ही एक झोपड़ी में उन्होंने हिमपात की सुंदरता और रहस्यों पर विचार कर उन्हें कैमरे में कैद कर लिया। 1931 में अपनी मृत्यु तक उन्होंने हिमकणों के और कुछ नहीं तो 6 हजार फोटो खींचे। बैंटली का यह कार्य पत्र-पत्रिकाओं में क्रमबद्ध रूप से छपने से मौसम विज्ञान की एक नई शाखा का जन्म हुआ। जौहरियों ने आभूषणों के लिए नए-नए नमूनों के तौर पर उनके चित्रों को खरीदा और बच्चे उनके चित्रों के आकार-प्रकार में कागज के हिमकण काटने लगे।
हिमकण, जिन्होंने बैंटली को इतना अचंभित किया, प्रकृति की विशिष्ट सृजन शक्ति के उत्कृष्ट नमूने हैं। तुषार के ये कण किसी स्फटिक सदृश होते हैं और अनेक स्फटिकों के समूह भी। ये स्फटिक वायुमंडल के अत्यंत ऊंचे स्थानों पर बनते हैं। तापमान जहां अधिक होता है, वहां यही हिमकण पिघल कर वर्षा की बूंद बन जाते हैं। पर जहां अत्यधिक ठंड हो वहां स्फटिक का कोमल स्वरूप बना रहता है। 
धूल, ज्वालामुखी की राख या प्रदूषण का कोई भी कण 'बीज रूप में' स्फटिक का केंद्रक बन जाता है और आसपास के पानी के अणुओं को आकर्षित कर लेता है, जो उसकी सतह पर जम जाते हैं। हवा के कंधों पर सवार यह कण तापमान तथा आर्द्रता की विभिन्न परतों में मंडराता रहता है और हर परत इसे विविध आकार देती रहती है। ऐसे कण बार-बार एक दूसरे से टकराते भी हैं जिससे उनके आकार और स्वरूप बदलते रहते हैं।
हालांकि हम आमतौर पर हिमकणों को 6 कोनों वाला सितारा मात्र समझते हैं, परंतु इंटरनेशनल कमीशन ऑन स्नो एंड आइस के पास हिमकणों की अनेक श्रेणियां हैं और इनमें से प्रत्येक का निर्माण विभिन्न परिस्थितियों में होता है। मसलन, हल्के आर्द्र तूफान में हवा की तेजी कम हो, तो इससे वृक्षों के आकार के त्रिआयामी हिमकण बनते हैं जबकि अधिक ठंडे, शुष्क बादल सूई नुमा विन्यास वाले तुषार कणों को जन्म देते हैं। परंतु हर कण तापमान तथा आद्र्रता का अनूठा उत्पाद होता है, वायुमंडलीय परिस्थितियों की प्राकृतिक छाप।
हिमकणों के प्रति एक प्रश्न आज भी अनुत्तरित है। क्या कोई भी दो हिमकण सचमुच एक-से नहीं होते? आंकड़े इसके विरुद्ध हैं। आधे मीटर मैदान को 25 सेंटीमीटर हिमपात से ढंकने के लिए एक ही बर्फानी तूफान में 10 लाख से अधिक हिमकणों की आवश्यकता होती है। ऐसे में हर कण बेजोड़ हो, संभव नहीं लगता। तो भी अनुमान है कि वायुमंडल में विभिन्न तापमान तथा आर्द्रता वाली कम से कम 10 लाख परतें संभव हैं, जिससे 10 की संख्या पर 50 लाख घात के बराबर विविधता की सृजन क्षमता पैदा होती है। किन्हीं दो हिमकणों को हर लिहाज से एक जैसा होने के लिए एक से 'बीजों' को एक ही समय जीवन आरंभ करके एक-सी परिस्थितियों से एक ही कालावधि तक गुजरते हुए नीचे गिरते समय एक जैसे टकरावों से गुजरना होगा। फिर उन दो तुषार कणों को एक ही वैज्ञानिक द्वारा उठाए जाकर सत्यापित होना होगा। इन मुश्किलों के मद्देनजर हिमकणों के अनूठेपन की अवधारणा शायद बनी ही रहेगी। इसके अलावा हम सब यह विश्वास सीने से लगाए हैं, कि प्रकृति के पास ऐसा अपार खजाना है कि वह अनगिनत संख्या में ये मोती आकाश से बरसाती रह सकती है।
हिमकण प्रकृति की अनंतता के प्रतीक हैं। ये गिरते हैं, हवा में तैरते हैं और फिर पिघल जाते हैं, दुबारा अनेकानेक रूप बदलकर वापस आने को। कहते हैं कि विल्सन बैंटली मानते थे, कि हिमकण 'आकाश से टपकता एक विचार है, अतुल सौंदर्य का खंड जो एक बार खो गया तो सदा के लिए खो गया।' यह अद्भुत संयोग है कि एक हिमकण में हमें क्षणभंगुरता और अमरत्व दोनों की झलक मिलती है। इसी ने बैंटली को भी वर्षों तक ठिठुरने पर विवश किया था। (स्रोत फीचर्स)

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष