May 30, 2012

श्रद्धांजलिः कुछ नजर हंसी कुछ नजर झुकी

- शिशिर कृष्ण शर्मा
कवि, कथाकार, उपन्यासकार और गीतकार होने के साथ- साथ जीवन को जीने की जद्दोजहद में कभी रेडियो में तो कभी संपादन में तो कभी अभिनय करके जीवन को सिद्दत सो जीने वाले मधुप शर्मा का लम्बी बीमारी के बाद गत माह 13 अप्रैल 2012 को निधन हो गया। यह आलेख पिछले माह ही उदंती छपने के लिए तैयार था। पर अफसोस इस बीच वे हमारे बीच से चले गए। उन्हें उदंती परिवार की विनम्र श्रद्धांजलि।
मधुप शर्मा
फिल्म दारा 1953 में एक मनमोहक गीत हेमंत कुमार, लता मंगेशकर और साथियों के अत्यंत कोमल स्वरों में है- कुछ नजर हंसी, कुछ नजर झुकी... दो बोल तेरे मीठे- मीठे, दिल जान के मालिक बन बैठे... बालकृष्ण जी के लिखे इस पुराने सुरीले गीत को संगीतकार मोहम्मद शफी ने बहुत ही मनमोहक धुन में बांधा था। कुछ प्रयास के बाद पता चला कि ऑल इंडिया रेडियो की विविध भारती सेवा की स्थापना से लेकर बरसों तक जुड़े रहे मधुप शर्मा ही इसके लेखक हैं।
 14 दिसम्बर 1921 को भरतपुर (राजस्थान) में जन्में श्री बाल कृष्ण शर्मा 'मधुप' जो लगभग 92 वर्ष के हो चुके हैं  तथा गत वर्ष वे दूसरी बार सूचक अस्पताल के कमरा नं. 40 में अपनी छोटी बेटी आभा और डॉक्टर दामाद (डॉ. अनिल सूचक) की चिकित्सीय देख- रेख में भर्ती थे तब मैंने उनसे मुलाकात की और उनसे उनके अन्य फिल्मों में लिखे गीतों की जानकारी लेनी चाही तो वृद्धावस्था के कारण वे कुछ खास याद नहीं कर सके और बार- बार यही कहते रहे कि बहुत लिखे, बहुत लिखे। छोटी बेटी आभा के अनुसार उन्होंने सातवें- आठवें दशक की कई हिन्दी फिल्मों सत्यकाम, जॉनी मेरा नाम, अमर प्रेम, राजा जानी, गीत गाता चल, बॉबी, अनामिका, हीरा पन्ना, दोस्त, रोटी कपड़ा और मकान, जख्मी,  आंधी, सन्यासी, दस नम्बरी, आपकी खातिर, आशिक हूं बहारों का, अनुरोध, ड्रीमगर्ल, कालाबाजार, आजाद, दिल से मिले दिल, खून की पुकार, पतिता, राम बलराम, जेल यात्रा, आस- पास, दर्द, लव इन गोवा, प्यासे नैन में अभिनय भी किया था।
उन्होंने सन् 1942 में आगरा विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री हासिल की। सन् 1946 में उनका पहला गीत- संग्रह यह पथ अनन्त, उसके बाद सन् 1948 में टुकड़े प्रकाशित हुआ और इसके साथ- साथ वे साहित्यिक पत्रिका परख का संपादन भी करते रहे। सन् 1952-53 में फिल्मों में गीत लिखने का कार्य किया और उसके बाद सन् 1954 से 1967 तक आकाशवाणी, मुम्बई से जुड़े रहे। विविध भारती के सुप्रसिद्ध हवा महल कार्यक्रम हेतु नाटकों के निर्देशन के अलावा, गीतों भरी कहानियां और अन्य कार्यक्रमों हेतु लेखन कार्य करते रहे, फिल्म कलाकारों से भेंट- वार्ताएं कीं। विविध भारती छोडऩे के बाद कुछ प्रायोजित कार्यक्रमों में भाग लेने के अलावा आठवें दशक में टाइम्स ऑफ इंडिया द्वारा प्रकाशित सुप्रसिद्ध सिने पाक्षिक माधुरी से जुड़े रहे। बाद में वर्षों तक उन्होंने केवल साहित्यिक लेखन किया। कहानी, कविता, उपन्यास विधाओं में उनकी लगभग 20 पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं।
फिल्म श्री नगद नारायण 1955 के एक लम्बे हास्य गीत- यह मुंह मसूर की दाल.. के 78rpm रिकार्ड पर गीतकार के रूप में डी.एन.मधोक का नाम दिया है जबकि वास्तव में यह गीत उनकी ही कलम से निकला था और फिल्म की प्रचार पुस्तिका में स्पष्ट रूप से उनका नाम 'मधुप' अंकित है। हिन्दी फिल्म गीत कोश, खंड-3 (1951-60) में ढूंढने पर फिल्मों हेतु उनके लिखे अन्य गीतों कोई जानकारी नहीं मिल सकी है। उनकी बड़ी बेटी पूनम, सेना से सेवानिवृत्त अपने पति अमरेश प्रसाद के साथ एवरशाइन नगर, मलाड (पश्चिम) में रहती हैं, उनकी पत्नी का निधन सन् 2002 में हो गया था उसके बाद से मधुप जी पुष्पा पार्क, मलाड (पूर्व) में अकेले ही रहते थे लेकिन पिछले 1 वर्ष से उनकी देख- रेख सूचक अस्पताल में हो रही थी। 
सन् 1959-60 में मीनाकुमारी से होने वाली उनकी मुलाकात बाद के वर्षों में घनिष्ठता में बदल गई। मीनाकुमारी के दु:ख- दर्द के सहभागी प्रत्यक्षदर्शी बने मधुप शर्मा ने उनके उन लम्हों का सजीव चित्रण अपने लिखे उपन्यास (जीवनी) 'आखिरी अढाई दिन' में किया है। इस उपन्यास को किताबघर प्रकाशन दरिया गंज, नई दिल्ली द्वारा पेपरबैक में इसे प्रकाशित किया गया है। (लिस्नर्स बुलेटिन से)

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष