July 10, 2020

लघुकथा

पेट का कछुआ
- युगल
गरीब बन्ने का बारह साल का लड़का पेट दर्द से परेशान था और शरीर से बहुत कमज़ोर होता गया था। टोनाटोटका और घरेलू इलाज के बावजूद हालत बिगड़ती ग थी। दर्द उठता, तो लड़का चीखता और माँबाप की आँखों में आँसू आ जाते। एक रात जब लड़का ज्यादा बदहवास हुआ, तो माँ ने बन्ने को बच्चे का पेट दिखलाया। बन्ने ने देखा, छोटे कछुए के आकारसा कुछ पेट के अन्दर से थोड़ा उठा हुआ है और हिल रहा है। गाँव के डाक्टर ने भी हैरत से देखा और सलाह दी कि लड़के को शहर के अस्पताल में ले जाओ।
बन्ने पत्नी के जेवर बेच लड़के को शहर ले आया। अस्पताल के सर्जन का भी अचरज हुआपेट में कछुआ। सर्जन ने जब पेट को ऊपर से दबाया तो कछुएजैसी वह चीज इर होने लगी और लड़के के पेट का दर्द बर्दाश्त के बाहर हो गया। सर्जन ने बतलाया– ‘‘लड़के को बचाना है, तो प्राइवेट से आपरेशन के लिए दो हजार रुपये का इन्तज़ाम करो।’’
दो हजार! बन्ने की आँखें चौंधिया गईं । दो क्षण साँस ऊपर ही अटकी रह ग। न! लड़के को वह कभी नहीं बचा सकेगा। उसके जिस्म की ताकत चुकती लगी। वह बेटे को लेकर अस्पताल के बाहर आ गया और सड़क के किनारे बैठ गया।
लड़के को कराहता देखकर किसी ने सहानुभूति से पूछा– ‘‘क्या हुआ है?’’
बन्ने बोला – ‘‘ पेट  में कछुआ है साहब’’
‘‘पेट में कछुआ?’’ मुसाफिर को अचरज हुआ।
‘‘हाँ साहब! कई महीनों से है। और बन्ने ने लड़के का पेट दिखलाया। पेट पर उँगलियों का टहोका दिया, तो वह कछुएजैसी चीज ज़रा हिली। बन्ने का गला भर आया – ‘‘आपरेशन होगा साहब। डॉक्टर दो हजार माँगता है। मैं आदमी....’’ और वह रो पड़ा।
तब कई लोग वहाँ खड़े हो ग थे। उस मुसाफिर ने दो रुपये का नोट निकाला और कहा– ‘‘चन्दा इकट्ठा कर लो और लड़के का आपरेशन करा लो।’’
फिर कई लोगों ने एकएक दोदो रुपये और दिये। जो सुनता, टिक जातापेट में कछुआ? ..... हाँ जी चलता है.... चलाओ तो!
बन्ने लड़के के पेट पर उँगलियों से ठोकर देता। कछुआ हिलता। लड़के के पेट का दर्द आँखों में उभर आता। लोग एक, एक दो या पाँच के नोट उसकी ओर फेंकते–‘‘ऑपरेशन करा लो भाई। शायद लड़का बच जाए!’’
साँझ तक बन्ने के अधकुर्ते की जेब में नोट और आँखों में  आशा की चमक भर गई थी।
अगले दिन बन्ने उस बड़े शहर के दूसरे छोर पर चला गया। वह लड़के के पेट पर टकोरा मारता। पेट के अन्दर का कछुआ ज़रा हिलता। लोग प्रकृति के इस मखौल पर चमत्कृत होते और रुपये देते। बन्ने दस दिनों तक उस शहर के इस नुक्कड़ से उस नुक्कड़ पर पेट के कछुए का तमाशा दिखलाता रहा और लोग रुपये देते रहे। बीच में  लड़के की माँ बेटे को देखने आती। बन्ने उसे रुपये थमा देता।
लड़के ने पूछा –‘‘ बाबू आपरेसन कब होगा?’’
बन्ने बोला –‘‘ हम लोग दूसरे शहर में जाकर रुपये इकट्ठे करेंगे।’’ फिर कुछ सोचता हुआ बोला – ‘‘मुन्ने, तेरा क्या ख्याल है कि पेट चीरा जाकर भी तू बच जाएगा? डाक्टर भगवान तो नहीं। थोड़ा दर्द ही होता है न? बर्दाशत करता चल। यों जिन्दा तो है। मरने में कित्ती देर लगती है? असल तो जीना है।’’
लड़का कराहने लगा। उसके पेट का कछुआ चलने लगा था।

2 Comments:

शिवजी श्रीवास्तव said...

सशक्त प्रतीकात्मक लघुकथा।बधाई युगल जी

Sudershan Ratnakar said...

सुंदर मर्मस्पर्शी लघुकथा ।बधाई

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष