July 12, 2018

मूल्य

संस्कार हमारी थाती
- चन्द्रप्रभा सूद
संस्कार पीढ़ी-दर-पीढ़ी हस्तान्तरित किए जाते रहते हैं। उनसे ही मनुष्य के कुल या परिवार की एक पहचान बनती है। मनुष्य अपने संस्कारों की बदौलत अस्तित्व में आता है। उसके संस्कार ही इस समाज में उसे महान बनाते हैं और एक सुनिश्चित स्थान भी देते हैं। संस्कारों से बढ़कर अन्य कोई और दौलत मनुष्य के लिए महत्त्वपूर्ण नहीँ हो सकती।
कुछ दशक पूर्व तक लोग अपने बच्चों का रिश्ता तय करने के समय उनके संस्कारों को महत्त्व देते थे, धन-सम्पत्ति को नहीं। ऐसे परिवार में सम्बन्ध जोडऩा वास्तव में सौभाग्य मन जाता था। इसका कारण यह था कि ऐसे बच्चे परिवार के विरुद्ध जाकर कुछ अनर्थ नहीं कर सकते। वे बच्चे परिवार की मर्यादा को खण्डित करने वाला कोई कार्य नहीं कर सकते। उन पर परिवार का पूरा दबाव बना रहता है। वे भी अपने बड़े-बुजुर्गों का मान रखने वाले होते हैं।
इस सच्चाई से कदापि मुँह नहीं मोड़ा जा सकता कि संस्कारविहीन मनुष्य को धरातल पर पटक देने में लोग देर नहीं करते। जिन लोगों में सत्सस्कारों तथा आचरण की कमी होती है, वही सामने वाले को किसी--किसी बहाने से नीचा दिखाने का प्रयास करते हैं। वे लोग अपने मिथ्या अभिमान के कारण स्वयं को किसी भी तरह ईश्वर से कम नहीं समझते।
भारतीय संस्कृति के अनुसार घर पर आया हुआ अतिथि ईश्वर का ही रूप होता है, उसका अपमान कभी नहीं करना चाहिए। यदि उसका अपमान कोई मनुष्य करता है ,तब उसका अपमान यह समाज करता है। किसी के भी प्रति अपने मन में दुर्भावना नहीं रखनी चाहिए। अपने मन में जो कुछ है, उसे बिना लाग लपेट के स्पष्ट कह देना चाहिए, तभी मनोमालिन्य दूर होने की सम्भावना रहती है। इसका कारण कह सकते हैं कि सच बोलने से फैसले किए जाते हैं और झूठ बोलने पर धीरे-धीरे फासले बढऩे लगते हैं।
मनुष्य को अपने संस्कारों पर सदा मान और भरोसा होना चाहिए। यदि कोई व्यक्ति उसे क्रोध दिलाकर संस्कार विमुख करने का प्रयास करे भी, तो उसकी चाल में उसे फँसना नहीं चाहिए। परन्तु यदि उसका विरोधी अपने उद्देश्य में सफल हो जाता हैं, तो समझ लेना चाहिए कि उसके हाथ की कठपुतली बनने में उसे देर नहीँ लगेगी। ऐसी स्थिति वास्तव में बहुत ही दुखदायी होती है।
इसी प्रकार यदि कोई व्यक्ति जाने-अनजाने नजरअन्दाज कर रहा है तब भी उसका बुरा नहीं मानना चाहिए। यह सब उसकी मजबूरी हो सकती है। इस बात को सदैव स्मरण रखना चाहिए अथवा गाँठ बाँधकर रखना चाहिए कि अपनी हैसियत से बाहर आने वाली प्राय: सभी महँगी वस्तुओं को लोग अनदेखा कर देते हैं। फिर उस व्यक्ति विशेष की महानता के विषय में सोचकर ही शायद उसकी  ओर हाथ नहीं बढ़ाते। इसलिए नाराज होने के स्थान पर उससे सहानुभूति का भाव रखना चाहिए। यदि उचित समझो तो हाथ बढ़ाकर उस इंसान को उपकृत करने का प्रयास स्वयं किया जा सकता है।
संस्कारी या सुसंस्कृत लोग अपनी गलती को स्वीकार करने में कभी देर नहीं करते। उसके लिए किसी बच्चे से भी यदि उन्हें क्षमा माँगनी पड़े, तो वे कदापि संकोच नहीं करते। वे अपने कर्त्तव्यों के प्रति सदा सावधान रहते हैं। यदि उनसे कोई अपराध हो जाए, तो उसे त्यागने में कभी देर नहीँ करते। वे जानते हैं कि यात्रा जितनी लम्बी हो जाएगी, वहाँ से वापसी उतनी ही कठिन हो जाती हैं।
संस्कारी और असंस्कारी लोगों के आचार-व्यवहार में अन्तर बिना प्रयास के ही दिखाई देता है। अपने आसपास ही दोनों प्रकार के लोगों से वास्ता पड़ता ही रहता है। संस्कार कभी मनुष्य को नीचा नहीं देखने देते। वे उत्तरोत्तर उसकी मानसिक तथा आत्मिक उन्नति करते रहते हैं। अच्छे संस्कार मनुष्य की थाती होते हैं। यानी वे उसकी सबसे बड़ी पूँजी होते हैं। इन्हें यथासम्भव सहेजकर रखना चाहिए, इन जीवन मूल्यों को कभी अपने से दूर नहीं होने देना चाहिए।

1 Comment:

Ayan Prakashan said...

बहुत भावपूर्ण आलेख। साधुवाद।

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष