March 24, 2018

फैशन

आँखों में रंगीन टैटू
कॉन्टेक्ट लैंस की परेशानियों से तो पार भी नहीं पाए थे कि अब आंखों में टैटू कराने का फैशन चल पड़ा है और एक साल में ही इसके दुष्परिणाम सामने आने लगे हैं।
आंखों में टैटू बनाने के लिए आंखों की सबसे ऊपरी दो परतों के बीच में रंगीन स्याही इंजेक्ट की जाती है। आंखों के सफेद हिस्से को रंगीन बनाने के लिए इंजेक्शन में इंक भरकर डाली जाती है। टैटू के लिए चटख नारंगी, जामुनी, हरा, लाल और यहां तक कि काला रंग पसंद किए जा रहे हैं जो सफेद आंख को हमेशा के लिए रंगीन बना दे।
कोई कल्पना भी नहीं कर सकता कि इस तरह खूबसूरत दिखने की चाहत में जऱा-सी गलती आपको भयानक परेशानी में डाल सकती है। इसके अलावा इस प्रक्रिया में सूजन और संक्रमण भी हो सकता है और यदि यह संक्रमण बढ़ता है, तो हो सकता है आप हमेशा के लिए दृष्टि सम्बंधी परेशानियों से घिर जाएँ।


इसे समझने के लिए आंख की बनावट की बात करते हैं। आंखों का बाहर से दिखने वाला पटल सफेद दिखता है। वैसे कई लोग यह नहीं जानते कि इसमें दो झिल्लियां होती हैं। एक तो अंदर वाली झिल्ली होती है जिसे स्क्लेरा कहते हैं। स्क्लेरा को ढके हुए एक और झिल्ली होती है जिसे कंजक्टाइवा कहते हैं। आम तौर पर इन दो झिल्लियों के बीच केवल रक्त वाहिकाएँ और सीरम तरल होता है जिसके कारण हमारी आंखें चमकदार और सफेद दिखाई देती हैं। अपवाद स्वरूप कुछ अन्य पदार्थ इनके बीच जमा हो सकते हैं। जैसे कुछ मामलों में रक्त वाहिकाओं में क्षति के कारण रक्त का थक्का या लाल रंग जमा हो जाता है। इसके अलावा पैदाइशी निशान के रूप में मेलेनिन रंजक या काला धब्बा और पीलिया के मामले में पीला पदार्थ इन दो झिल्लियों के बीच में जमा हो जाते हैं। इनकी वजह से सफेद दिखने वाला भाग लाल, भूरा या पीला हो जाता है।
हमारी आंखें बहुत ही अद्भुत और नाज़ुक अंग है। ये त्वचा की तरह नहीं हैं कि इनमें टैटू गोदा जाए। गौरतलब है कि त्वचा पर टैटू गुदवाने के मामलों में भी कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है। लेकिन कई मामलों में आंखों में टैटू करवाना बहुत ही खतरनाक हो सकता है।
पहली दिक्कत तो यह हो सकती है कि इंजेक्शन की सुई आँख में छेद कर दे। कभी-कभी आँखों में ऐसी क्षति हो सकती है कि मोतियाबिंद विकसित होने लगे या रेटिना अपनी जगह से हट जाए। और संक्रमण का खतरा तो है ही। टैटू के लिए जो स्याही इस्तेमाल की जाती है, उसकी वजह से एलर्जी पैदा हो सकती है। हाल ही में अमेरिकन जर्नल ऑफ ऑफ्थेल्मोलॉजी में प्रकाशित एक शोध पत्र में आँखों के टैटू के खतरों के प्रति आगाह किया गया है। आँखों में इस तरह की क्षति को चिकित्सा सहायता के द्वारा पूरी तरह से ठीक भी नहीं किया जा सकता है। इसलिए आँखों को टैटू करवाने से पहले उसके दुष्परिणामों की तरफ भी नजऱ डाल लेना चाहिए। (स्रोत फीचर्स)

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष