January 27, 2018

जीवन मूल्य

         कभी हार न मानें
                  -चन्द्र प्रभा सूद
बारम्बार दुखों और कष्टों के आने पर भी जो मनुष्य गिरगिट की तरह अपना रंग नहीं बदलता अर्थात अपने अपने जीवन मूल्यों का त्याग नहीं करता, ऐसे ही खरे सोने जैसे मनुष्य का समाज में मूल्य बढ़ता है। लोग उसे महत्त्व देते हैं, उसका सम्मान भी करते हैं। ऐसे उस महात्मा मनुष्य के सद् गुणों के उदाहरण लोग समय-समय पर भावी पीढ़ियों को देते रहते हैं।
सब लोग जानते हैं कि सोने को आग में तपाने पर ही वह खोट से रहित होकर कुन्दन बनता है। जिसे देखकर सबकी ही आँखें चुँधिया जाती हैं। इसी प्रकार मनुष्य भी दुखों और कष्टों की अग्नि में तपकर ही कुन्दन बनता है। जब मनुष्य उन विपरीत परिस्थितियों में रहकर सकारात्मक रवैया अपनाता है तभी उसकी वास्तविक पहचान बनती है। उसका नाम समाज में सम्मान से लिया जाता है।
यहाँ हम दूध का उदाहरण लेते हैं। हम दूध को अग्नि पर उबालते हैं। फिर उसे जब ठण्डा करके जमा देते हैं, तभी वह दही बनता है। फिर दही को मथते हैं अर्थात उसके उस कठिन प्रक्रिया से गुजरने पर मक्खन बनता है। फिर मक्खन को आग पर पकाने से घी बनता है। यानी हर स्वरूप में ढलने के लिए दूध को सदैव एक असहनीय पीड़ा से गुजरना पड़ता है। तभी वह अपने हर रूप में और अधिक मूल्यवान् बनता जाता है।
इन सभी पदार्थों को समय-समय पर हम बाजार से खरीदते रहते हैं। बाजार में जाकर जब खरीदते हैं तो दूध से महँगा दही बिकता है, दही से महँगा मक्खन बेचा जाता है और मक्खन से कहीं अधिक महँगा घी मिलता है। दूध की सबसे मजेदार बात यह है कि इन सभी रूपों में उसका रंग एक ही रहता है। यानी वह है सफेद रंग। इस दूध की यह विशेषता होती है कि वह किसी भी रूप में आ जाए उसका रंग उस स्थिति में परिवर्तित नहीं होता।
इस उदाहरण को यहाँ देने का मात्र यही तात्पर्य है कि जीवन में कुछ भी पाने के लिए मनुष्य को सदैव उसका मूल्य चुकाना पड़ता है। दूसरे शब्दों में कहें तो कोई भी वस्तु इस संसार में यूँ ही नहीं मिल जाती। मनचाही वस्तु प्राप्त करने के लिए मनुष्य को अथक परिश्रम करना पड़ता है, अपना सुख-चैन होम करना पड़ता है। तभी वह अपने जीवनकाल में कुछ प्राप्त कर सकने में समर्थ होता है।
सकारात्मक विचार रखते हुए सन्मार्ग पर चलने वाला व्यक्ति ही वास्तव में इस संसार में अपना नाम कमाता है। जो मनुष्य परेशानियों के आने पर भी घबराता नहीं है और न ही अपनी राह से भटकता है वही धैर्यवान महापुरुष कहलाता है। उसके पीछे चलने के लिए बहुत से लोग स्वेच्छा से तैयार हो जाते हैं। वह देश, धर्म और समाज का मार्गदर्शन करता है। उसका साथ पाना हर व्यक्ति के लिए सौभाग्य की बात होती है। उसका नाम इतिहास में युगों तक अमर हो जाता है।
वैसे तो कोई भी विवेकी मनुष्य अपने संस्कारों का परित्याग करके कुमार्ग नहीं चलता। परन्तु फिर भी कुछ लोग ऐसे होते हैं जो परेशानियों से घबराकर सन्मार्ग को छोड़कर कुमार्गगामी बन जाते हैं। वे शॉर्टकट अपना लेते हैं जो पहले तो बहुत आकर्षक होता हैं और बाद में और अधिक कष्टप्रद हो जाता है। कुछ दूर चलने पर उन्हें अपनी गलती का अहसास हो जाता है। परन्तु उस समय चाहकर भी वे उस रास्ते को छोड़ नहीं पाते। जब चिड़िया चुग गई खेत वाली स्थिति हो जाती है तब पश्चाताप करते रहने से भी कोई हल नहीं निकल पाता।
वास्तव में मनुष्य वही है जो अपने समक्ष आने वाली चुनौतियों का डटकर सामना करे। उनसे कभी हार न माने। उसे सदा अपने विवेक, अपने बाहुबल और अपनी कर्मठता पर पूर्ण विश्वास होना चाहिए। साथ में उसे यह भी मानना चाहिए कि हर स्थिति में ईश्वर उसके साथ खड़ा है। वह कभी उसका अनिष्ट नहीं होने देगा।
Email : cprabas59@gmail.com

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष