July 25, 2017

हुए विवश बादल

1. हुए विवश बादल के आगे

– रमेशराज

बड़ा तेज उमड़ा है बादल
गुस्से में निकला है बादल
अब छुपने को जगह टटोलो
खोलो झट से छाता खोलो।

दइया-दइया इतना पानी
बादल करे खूब मनमानी
साँय-साँय चलती पुरवाई
आई कैसी आफत आई।

ऐसे गिरता मोटा ओला
जैसे किसी तोप का गोला
अपनी-अपनी चाँद बचाओ
लोहे के अब टोप लगाओ।

घर से बाहर चलें जरा-सा
बूँदें जड़तीं कड़ा तमाचा
कड़के बिजली अति डर लागे
हुए विवश बादल के आगे।

2. सावन है
मनभावन हरियाली छायी
खेत लगे कितने सुखदायी
कोयल बोले मीठे बोल
सावन आया, सावन आया।

रिमझिम-रिमझिम बादल बरसें
पानी को अब लोग न तरसें
पक्षी करते फिरें किलोल
सावन आया, सावन आया।

कभी इधर से कभी उधर से
घुमड़-घुमड़ बादल के घर से
आए लो बूँदों के टोल
सावन आया, सावन आया।

कहीं फिसल ना जाना भाई
लुढ़कोगे यदि दौड़ लगाई
खोल अरे भई छाता खोल
सावन आया, सावन आया।।

3. रिमझिम रिमझिम
करते हैं आयोजित कोई
जिस दिन भी कवि सम्मेलन बादल।
तो धरती पर ले आते हैं
रिमझिम-रिमझिम सावन बादल।

राम-कथा सुनने वर्षा की
निकलें बच्चे घर से बाहर
जोर-जोर से करें गर्जना
बने हुए तब रावन बादल।

आसमान की छटा निराली
देख-देख मन हरषाता है
साँझ हुए फिर लगें दिखाने
इन्द्रधनुष के कंगन बादल।

एक कहानी वही पुरानी
नरसी-भात भरे ज्यों कान्हा
उसी तरह से खूब लुटाते
फिरते बूँदों का धन बादल।

बड़ी निराली तोपें इनकी
पड़ी किसी को कब दिखलाई
जब ओलों के गोले फेंकें
फेंकें खूब दनादन बादल।

 4. बादल
हौले-हौले, कभी घुमड़कर
काले-भूरे आयें बादल
बच्चों की खातिर लिख देते
बूँदों  की कविताएँ बादल।

बच्चे जब लू में तपते हैं,
सूरज आग उगल जाता है
बच्चों से शीतल छाया की
कहते मधुर कथाएँ बादल।

बच्चों को हैं अच्छे लगते
हरे खेत औफूल खिले
जन्नत-सी सौगातें भू पर
हर सावन में लाएँ बादल।

कंचे-कौड़ी की शक्लों में
भूरे-भूरे प्यारे-प्यारे
कभी-कभी तो ओले अनगिन
बच्चों को दे जाएँ बादल।

सम्पर्क: 15/109, ईसानगर, अलीगढ़-202001

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष