April 20, 2017

विज्ञान

         मौसमी बाल मृत्यु में लीची की भूमिका 
मुजफ़्फरपुर (बिहार) देश का सबसे बड़ा लीची उत्पादक क्षेत्र है। ताज़ा शोध बताता है कि यही लीची उस इलाके में मौसमी बाल मृत्यु का कारण है। भारत के राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र और यूएस के राष्ट्रीय रोग नियंत्रण व रोकथाम केंद्रों ने संयुक्त रूप से मुज़्जफ़रपुर में होने वाले रहस्यमय तंत्रिका-रोग पर शोध किया है। यह रोग 1995 से हर वर्ष कई बच्चों की जान लेता आ रहा है।
शोधकर्ताओं ने पाया कि लीची फल पर दो विषैले पदार्थ चिपके होते हैं - हायपोग्लायसीन-ए तथा मीथायलीन-सायक्लोप्रोपाइलग्लायसीन (एमसीपीजी)। यही तंत्रिका रोग व मृत्यु के लिए जि़म्मेदार हैं। पहली बार मनुष्यों से लिए गए जैविक नमूनों में इन विषों के विघटन से बने पदार्थों, मानव चयापचय पर इन विषों के असर का अध्ययन हुआ है। शोधकर्ताओं ने यह भी देखा कि इन विषों के प्रभाव पर शाम के समय भोजन लेने का क्या असर होता है।
उपरोक्त दोनों संस्थाओं के शोधकर्ताओं ने पहले तो अस्पतालों में प्रयोगशाला जांच के माध्यम से पता किया कि क्या इस रहस्यमय रोग का कोई संक्रामक या गैर-संक्रामक कारक पता चलता है। इसके बाद लीची की जांच की गई जिसमें रोगजनक सूक्ष्मजीवों, विषैली धातुओं तथा अन्य गैर-संक्रामक कारकों का विश्लेषण किया गया। इनमें फल-आधारित विष हायपोग्लायसीन और एमसीपीजी भी शामिल थे। 2014 में अस्पतालों में भर्ती 390 मरीज़ों की जांच से पता चला कि एनसेफेलोपैथी के प्रकोप के पीछे इन्हीं दो विषों की भूमिका है। ये विष शरीर में चयापचय को प्रभावित कर हायपोग्लायसेमिया की स्थिति निर्मित कर देते हैं। हायपोग्लायसेमिया उस स्थिति को कहते हैं जब रक्त में ग्लूकोज़ का स्तर बहुत कम हो जाता है।
उत्तरी बांगलादेश, उत्तरी वियतनाम सहित दुनिया के कई हिस्सों में इसी तरह के रोग के प्रकोप होते रहे हैं और वे सब लीची उत्पादक क्षेत्र हैं।

शोधकर्ताओं का मत है कि इस तंत्रिका रोग के प्रकोप के कारण होने वाली मत्यु से बचाव का तरीका यह है कि लीची का उपभोग कम किया जाए, और रोग के लक्षण प्रकट होते ही बच्चों को शाम के समय अतिरिक्त भोजन दिया जाए ताकि उनके खून में ग्लूकोज़ के स्तर को ठीक किया जा सके। (स्रोत फीचर्स)

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष